Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 May 2024 · 1 min read

थकान…!!

दिन का पहला अलार्म रोज नींद तोड़ जाता है,
याद दिला जाता है कि.. हम परदेश में है बाबू,
यहां नींद होने से पहले जागना,
अधूरी नींद में जैसे-तैसे तैयार होना,
कभी मिला तो नाश्ता करना या फिर खाली पेट ही ड्यूटी को भागना,
दफ्तर गर पास रहे तो पैदल हीं निकल पड़ते हैं,
नहीं तो दूर-दराज की बात हो तो साधन की तलाश में हाईवे को तकते रहते हैं ,
जैसे-तैसे धक्का-मुक्की खाकर ऑफिस की चौखट तक पहुंचते हैं तब जाकर थोड़ी-सी राहत की सांस लेते हैं,
ऑफिस में पहुंचते ही घमासान माहौल मिलता है..
वही भाग-दौड़, अफरा-तफरी,
इसकी टोपी, उसका सर,
एक फाइल से दूसरी फाइल,
इस पर ताने उस पर तंज ,
सीनियर का टशन..बॉस की दहाड़..
सब कुछ इतना फास्ट गुजरता है पता नहीं वक्त अपनी चाल से चलता है या फिर हाथ से फिसलता है..
ऑफिस की छुट्टी वाली घंटी बजते ही अपनी बंद बुद्धि जागती है,
घर को निकलने में फिर वही इंतजार.. फिर वही तकरार..
घर पहुंचते-पहुंचते हालत हो जाती है खस्ता..
शर्ट की हालत ऐसी हो जाए जैसे..किसी ने कूटा हो तगड़ा,
जैसे-तैसे बेडरूम में पहुंचकर सो जाते हैं उघड़े,
थकान इतनी कड़क हो जैसे आए हो पहाड़ तोड़ के…!!
❤️ Love Ravi ❤️

Language: Hindi
Tag: लेख
2 Likes · 66 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सामाजिक रिवाज
सामाजिक रिवाज
अनिल "आदर्श"
शहीदों लाल सलाम
शहीदों लाल सलाम
नेताम आर सी
हे राम हृदय में आ जाओ
हे राम हृदय में आ जाओ
Saraswati Bajpai
हाथ में कलम और मन में ख्याल
हाथ में कलम और मन में ख्याल
Sonu sugandh
सुनो सुनाऊॅ॑ अनसुनी कहानी
सुनो सुनाऊॅ॑ अनसुनी कहानी
VINOD CHAUHAN
कभी कहा न किसी से तिरे फ़साने को
कभी कहा न किसी से तिरे फ़साने को
Rituraj shivem verma
धर्म सवैया
धर्म सवैया
Neelam Sharma
औरते और शोहरते किसी के भी मन मस्तिष्क को लक्ष्य से भटका सकती
औरते और शोहरते किसी के भी मन मस्तिष्क को लक्ष्य से भटका सकती
Rj Anand Prajapati
आपका स्नेह पाया, शब्द ही कम पड़ गये।।
आपका स्नेह पाया, शब्द ही कम पड़ गये।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
सामाजिक कविता: पाना क्या?
सामाजिक कविता: पाना क्या?
Rajesh Kumar Arjun
हार नहीं होती
हार नहीं होती
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
आपकी वजह से किसी को दर्द ना हो
आपकी वजह से किसी को दर्द ना हो
Aarti sirsat
पवित्र मन
पवित्र मन
RAKESH RAKESH
मन किसी ओर नहीं लगता है
मन किसी ओर नहीं लगता है
Shweta Soni
खुश होगा आंधकार भी एक दिन,
खुश होगा आंधकार भी एक दिन,
goutam shaw
2993.*पूर्णिका*
2993.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
यूं ही कुछ लिख दिया था।
यूं ही कुछ लिख दिया था।
Taj Mohammad
जो तू नहीं है
जो तू नहीं है
हिमांशु Kulshrestha
क्या ये गलत है ?
क्या ये गलत है ?
Rakesh Bahanwal
बड़ी सी इस दुनिया में
बड़ी सी इस दुनिया में
पूर्वार्थ
कैसे गाएँ गीत मल्हार
कैसे गाएँ गीत मल्हार
संजय कुमार संजू
औरत तेरी गाथा
औरत तेरी गाथा
विजय कुमार अग्रवाल
नाकाम किस्मत( कविता)
नाकाम किस्मत( कविता)
Monika Yadav (Rachina)
इस शहर में
इस शहर में
Shriyansh Gupta
"दुविधा"
Dr. Kishan tandon kranti
नौ वर्ष(नव वर्ष)
नौ वर्ष(नव वर्ष)
Satish Srijan
सुकून में जिंदगी है मगर जिंदगी में सुकून कहां
सुकून में जिंदगी है मगर जिंदगी में सुकून कहां
कवि दीपक बवेजा
आत्मा
आत्मा
Bodhisatva kastooriya
#Secial_story
#Secial_story
*प्रणय प्रभात*
खुद पर ही
खुद पर ही
Dr fauzia Naseem shad
Loading...