Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Nov 2022 · 1 min read

त्याग

क्षमा, दया, तप औ त्याग,
ये जीवन के परम आचार,
काम, क्रोध, मद औ लोभ,
ये सब हैं, नरक के द्वार,
जिसने किया त्याग-बलिदान,
उनका जीवन बना महान्,
त्याग दिया प्रभु ने गद्दी को,
कहलाए मर्यादा पुरुषोत्तम राम,
त्याग दिया सिद्धार्थ ने गृह को,
बन गए महात्मा बुद्ध महान्,
त्याग के मीरा राजमहल को,
पाया जग में उसने सम्मान,
त्याग दिया अंग्रेजों के पद को,
लड़ा सपूतों ने स्वतंत्रता-संग्राम,
त्याग दिया वीरों ने जीवन को,
स्वतंत्र हुआ प्यारा हिंदुस्तान,
आवश्यक है अब स्वार्थ का त्याग,
धन-लोलुपता, भ्रष्टाचार का त्याग,
दें त्याग यदि सारी कुरीतियांँ,
बन जाए हिंद, विश्वगुरु महान्।

मौलिक व स्वरचित
श्री रमण ‘श्रीपद्’
बेगूसराय (बिहार)

9 Likes · 9 Comments · 317 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
View all
You may also like:
उमंग जगाना होगा
उमंग जगाना होगा
Pratibha Pandey
मुद्दत से संभाला था
मुद्दत से संभाला था
Surinder blackpen
"बस्तर के वनवासी"
Dr. Kishan tandon kranti
वक़्त के साथ
वक़्त के साथ
Dr fauzia Naseem shad
जीवन है बस आँखों की पूँजी
जीवन है बस आँखों की पूँजी
Suryakant Dwivedi
तू होती तो
तू होती तो
Satish Srijan
मकसद कि दोस्ती
मकसद कि दोस्ती
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
रात हुई गहरी
रात हुई गहरी
Kavita Chouhan
सकारात्मक पुष्टि
सकारात्मक पुष्टि
पूर्वार्थ
सच ही सच
सच ही सच
Neeraj Agarwal
ज़िंदगी एक जाम है
ज़िंदगी एक जाम है
Shekhar Chandra Mitra
खुशियों का दौर गया , चाहतों का दौर गया
खुशियों का दौर गया , चाहतों का दौर गया
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
संवेदना मर रही
संवेदना मर रही
Ritu Asooja
*गर्मी की छुट्टियॉं (बाल कविता)*
*गर्मी की छुट्टियॉं (बाल कविता)*
Ravi Prakash
समूची दुनिया में
समूची दुनिया में
*Author प्रणय प्रभात*
लग रहा है बिछा है सूरज... यूँ
लग रहा है बिछा है सूरज... यूँ
Shweta Soni
Time and tide wait for none
Time and tide wait for none
VINOD CHAUHAN
दोहा पंचक. . .
दोहा पंचक. . .
sushil sarna
श्री राम मंदिर
श्री राम मंदिर
Mukesh Kumar Sonkar
आओ प्यारे कान्हा हिल मिल सब खेलें होली,
आओ प्यारे कान्हा हिल मिल सब खेलें होली,
सत्य कुमार प्रेमी
शिव
शिव
Dr. Vaishali Verma
2772. *पूर्णिका*
2772. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*मां*
*मां*
Dr. Priya Gupta
तू भी इसां कहलाएगा
तू भी इसां कहलाएगा
Dinesh Kumar Gangwar
यशोधरा के प्रश्न गौतम बुद्ध से
यशोधरा के प्रश्न गौतम बुद्ध से
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
आब त रावणक राज्य अछि  सबतरि ! गाम मे ,समाज मे ,देशक कोन - को
आब त रावणक राज्य अछि सबतरि ! गाम मे ,समाज मे ,देशक कोन - को
DrLakshman Jha Parimal
* चान्दनी में मन *
* चान्दनी में मन *
surenderpal vaidya
"नंगे पाँव"
Pushpraj Anant
अंधा बांटे रेबड़ी, फिर फिर अपनों के देवे – कहावत/ DR. MUSAFIR BAITHA
अंधा बांटे रेबड़ी, फिर फिर अपनों के देवे – कहावत/ DR. MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
मन का कारागार
मन का कारागार
Pooja Singh
Loading...