Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 May 2024 · 1 min read

तो क्या हुआ

तो क्या हुआ
तो क्या हुआ अगर वह मुझे
लोरी गाकर नहीं सुनाते ।
मां डांटे कभी तो वही तो
मेरे पक्ष में बोल कर उन्हें समझाते ।

तो क्या हुआ अगर सामने से
तो अपने जज्बातों को छुपाते।
चली जाऊं दूर कभी तो
वही तो फिर कहीं अकेले में
अपने आंसू छुपाते ।

तो क्या हुआ अगर उन्हें मेरी बिजी
जिंदगी में ज्यादा मतलब नहीं
अनजान बन के सही
दिखाते तो वही है रास्ता सही ।

तो क्या हुआ अगर वो अपनी
बात रख नहीं पाते
बिन कहे ही वह इतना कुछ लाते
जिसे हम समेट नहीं पाते।

तो क्या हुआ अगर आज पास मेरे
उनको देने के लिए कुछ नहीं
पर मेरे यह शब्द ही खुलेंगे
उनके दिल को कहीं।

तो क्या हुआ अगर उन्होंने
मुझे कभी डांटा
उस डांट से ही तो हटा
जीवन का कांटा।

तो क्या हुआ अगर उन्हें प्यार से
मनाना नहीं आता
उनकी चुप्पी से ही मेरा मन समझ जाता
उनके प्यार तो समुद्र जैसा गहरा है
कुछ ना कहकर भी बोल जाए
उनका ऐसा चेहरा है
अपनी बिटिया को बचाने को लगा उनका हर तरफ पहरा है ।

तो क्या हुआ उनके संग
जिंदगी भर ना रह पाऊं
दूर रहकर भी मैं उनके लिए
वो सारी खुशियां लाऊंगी
जिसके वह हकदार हैं
स्वरचित कविता
सुरेखा राठी

2 Likes · 39 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
महाराष्ट्र में शरद पवार और अजित पवार, बिहार में नीतीश कुमार
महाराष्ट्र में शरद पवार और अजित पवार, बिहार में नीतीश कुमार
*प्रणय प्रभात*
अपने अच्छे कर्मों से अपने व्यक्तित्व को हम इतना निखार लें कि
अपने अच्छे कर्मों से अपने व्यक्तित्व को हम इतना निखार लें कि
Paras Nath Jha
आजकल अकेले में बैठकर रोना पड़ रहा है
आजकल अकेले में बैठकर रोना पड़ रहा है
Keshav kishor Kumar
............
............
शेखर सिंह
रावण की हार .....
रावण की हार .....
Harminder Kaur
ये नयी सभ्यता हमारी है
ये नयी सभ्यता हमारी है
Shweta Soni
ज़िंदगी की ज़रूरत में
ज़िंदगी की ज़रूरत में
Dr fauzia Naseem shad
अधूरी
अधूरी
Naushaba Suriya
अपनी समस्या का समाधान_
अपनी समस्या का समाधान_
Rajesh vyas
पुर-नूर ख़यालों के जज़्तबात तेरी बंसी।
पुर-नूर ख़यालों के जज़्तबात तेरी बंसी।
Neelam Sharma
☀️ओज़☀️
☀️ओज़☀️
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
मन बहुत चंचल हुआ करता मगर।
मन बहुत चंचल हुआ करता मगर।
surenderpal vaidya
अलार्म
अलार्म
Dr Parveen Thakur
बेटा राजदुलारा होता है?
बेटा राजदुलारा होता है?
Rekha khichi
ढूंढ रहा है अध्यापक अपना वो अस्तित्व आजकल
ढूंढ रहा है अध्यापक अपना वो अस्तित्व आजकल
कृष्ण मलिक अम्बाला
फितरत
फितरत
Bodhisatva kastooriya
खुद से प्यार
खुद से प्यार
लक्ष्मी सिंह
2507.पूर्णिका
2507.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
वक्त का सिलसिला बना परिंदा
वक्त का सिलसिला बना परिंदा
Ravi Shukla
रूप पर अनुरक्त होकर आयु की अभिव्यंजिका है
रूप पर अनुरक्त होकर आयु की अभिव्यंजिका है
महेश चन्द्र त्रिपाठी
"कामयाबी"
Dr. Kishan tandon kranti
कियो खंड काव्य लिखैत रहताह,
कियो खंड काव्य लिखैत रहताह,
DrLakshman Jha Parimal
समय
समय
नूरफातिमा खातून नूरी
थोथा चना
थोथा चना
Dr MusafiR BaithA
बुंदेली दोहे- गउ (गैया)
बुंदेली दोहे- गउ (गैया)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*पद के पीछे लोग 【कुंडलिया】*
*पद के पीछे लोग 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
न जाने शोख हवाओं ने कैसी
न जाने शोख हवाओं ने कैसी
Anil Mishra Prahari
दुकान मे बैठने का मज़ा
दुकान मे बैठने का मज़ा
Vansh Agarwal
आओ गुफ्तगू करे
आओ गुफ्तगू करे
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
देश हे अपना
देश हे अपना
Swami Ganganiya
Loading...