Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jun 2023 · 1 min read

तो क्या हुआ

तो क्या हुआ
तो क्या हुआ अगर वह मुझे
लोरी गाकर नहीं सुनाते ।
मां डांटे कभी तो वही तो
मेरे पक्ष में बोल कर उन्हें समझाते ।

तो क्या हुआ अगर सामने से
तो अपने जज्बातों को छुपाते।
चली जाऊं दूर कभी तो
वही तो फिर कहीं अकेले में
अपने आंसू छुपाते ।

तो क्या हुआ अगर उन्हें मेरी बिजी
जिंदगी में ज्यादा मतलब नहीं
अनजान बन के सही
दिखाते तो वही है रास्ता सही ।

तो क्या हुआ अगर वो अपनी
बात रख नहीं पाते
बिन कहे ही वह इतना कुछ लाते
जिसे हम समेट नहीं पाते।

तो क्या हुआ अगर आज पास मेरे
उनको देने के लिए कुछ नहीं
पर मेरे यह शब्द ही खुलेंगे
उनके दिल को कहीं।

तो क्या हुआ अगर उन्होंने
मुझे कभी डांटा
उस डांट से ही तो हटा
जीवन का कांटा।

तो क्या हुआ अगर उन्हें प्यार से
मनाना नहीं आता
उनकी चुप्पी से ही मेरा मन समझ जाता
उनके प्यार तो समुद्र जैसा गहरा है
कुछ ना कहकर भी बोल जाए
उनका ऐसा चेहरा है
अपनी बिटिया को बचाने को लगा उनका हर तरफ पहरा है ।

तो क्या हुआ उनके संग
जिंदगी भर ना रह पाऊं
दूर रहकर भी मैं उनके लिए
वो सारी खुशियां लाऊंगी
जिसके वह हकदार हैं
स्वरचित कविता
सुरेखा राठी

3 Likes · 1 Comment · 272 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
■ प्रसंगवश :-
■ प्रसंगवश :-
*Author प्रणय प्रभात*
जो जिस चीज़ को तरसा है,
जो जिस चीज़ को तरसा है,
Pramila sultan
💐प्रेम कौतुक-495💐
💐प्रेम कौतुक-495💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
धूम भी मच सकती है
धूम भी मच सकती है
gurudeenverma198
तुम जा चुकी
तुम जा चुकी
Kunal Kanth
सरल जीवन
सरल जीवन
Brijesh Kumar
"तेरी यादें"
Dr. Kishan tandon kranti
तू ठहर चांद हम आते हैं
तू ठहर चांद हम आते हैं
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
तेरा एहसास
तेरा एहसास
Dr fauzia Naseem shad
हम फर्श पर गुमान करते,
हम फर्श पर गुमान करते,
Neeraj Agarwal
दिल का खेल
दिल का खेल
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जैसे ये घर महकाया है वैसे वो आँगन महकाना
जैसे ये घर महकाया है वैसे वो आँगन महकाना
Dr Archana Gupta
उन कचोटती यादों का क्या
उन कचोटती यादों का क्या
Atul "Krishn"
फितरत
फितरत
Anujeet Iqbal
बन्दिगी
बन्दिगी
Monika Verma
*मिलिए उनसे जो गए, तीर्थ अयोध्या धाम (कुंडलिया)*
*मिलिए उनसे जो गए, तीर्थ अयोध्या धाम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मेखला धार
मेखला धार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
तुम नि:शब्द साग़र से हो ,
तुम नि:शब्द साग़र से हो ,
Stuti tiwari
फर्ज़ अदायगी (मार्मिक कहानी)
फर्ज़ अदायगी (मार्मिक कहानी)
Dr. Kishan Karigar
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
प्यार/प्रेम की कोई एकमत परिभाषा कतई नहीं हो सकती।
प्यार/प्रेम की कोई एकमत परिभाषा कतई नहीं हो सकती।
Dr MusafiR BaithA
हकीकत
हकीकत
Dr. Seema Varma
पद्मावती छंद
पद्मावती छंद
Subhash Singhai
प्रेम पगडंडी कंटीली फिर भी जीवन कलरव है।
प्रेम पगडंडी कंटीली फिर भी जीवन कलरव है।
Neelam Sharma
खुद से भी सवाल कीजिए
खुद से भी सवाल कीजिए
Mahetaru madhukar
भगतसिंह मरा नहीं करते
भगतसिंह मरा नहीं करते
Shekhar Chandra Mitra
रिश्तों के मायने
रिश्तों के मायने
Rajni kapoor
सुनो, मैं जा रही हूं
सुनो, मैं जा रही हूं
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
3133.*पूर्णिका*
3133.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रिसाय के उमर ह , मनाए के जनम तक होना चाहि ।
रिसाय के उमर ह , मनाए के जनम तक होना चाहि ।
Lakhan Yadav
Loading...