Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jun 2023 · 1 min read

तेरे मेरे बीच में

तेरे,
मेरे बीच में,
ये दूरियां तेरी आंखों ने बढ़ा दिया है।
ये फासले कम भी हो सकते थे,
लेकिन तेरी बेरुखी बातों ने,
दिलों के फासले और बढ़ा दिया है।
मैं लाख कोशिश भी करूं,
तुझे भुलने की,
पर तेरा मेरा रिश्ता,
सांसों ने अटूट और बना दिया है।
क्यूं करते हो, ऐसे फैसले,
जिससे हमारे बीच,
दूरियां बढ़ जाती है।
वर्ना,
दुनिया जानती है, तुझे कुदरत ने,
मेरा सबसे करीबी और बना दिया है।

Language: Hindi
2 Likes · 127 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नेताम आर सी
View all
You may also like:
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बिहनन्हा के हल्का सा घाम कुछ याद दीलाथे ,
बिहनन्हा के हल्का सा घाम कुछ याद दीलाथे ,
Krishna Kumar ANANT
अब यह अफवाह कौन फैला रहा कि मुगलों का इतिहास इसलिए हटाया गया
अब यह अफवाह कौन फैला रहा कि मुगलों का इतिहास इसलिए हटाया गया
शेखर सिंह
3147.*पूर्णिका*
3147.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
प्रेम उतना ही करो
प्रेम उतना ही करो
पूर्वार्थ
वैश्विक जलवायु परिवर्तन और मानव जीवन पर इसका प्रभाव
वैश्विक जलवायु परिवर्तन और मानव जीवन पर इसका प्रभाव
Shyam Sundar Subramanian
युवा शक्ति
युवा शक्ति
संजय कुमार संजू
आप या तुम
आप या तुम
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कभी हक़ किसी पर
कभी हक़ किसी पर
Dr fauzia Naseem shad
माँ के बिना घर आंगन अच्छा नही लगता
माँ के बिना घर आंगन अच्छा नही लगता
Basant Bhagawan Roy
" छोटा सिक्का"
Dr Meenu Poonia
घर बाहर जूझती महिलाएं(A poem for all working women)
घर बाहर जूझती महिलाएं(A poem for all working women)
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
किसान भैया
किसान भैया
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
लेखन-शब्द कहां पहुंचे तो कहां ठहरें,
लेखन-शब्द कहां पहुंचे तो कहां ठहरें,
manjula chauhan
गांधी और गोडसे में तुम लोग किसे चुनोगे?
गांधी और गोडसे में तुम लोग किसे चुनोगे?
Shekhar Chandra Mitra
चलो आज वक्त से कुछ फरियाद करते है....
चलो आज वक्त से कुछ फरियाद करते है....
रुचि शर्मा
रंजीत शुक्ल
रंजीत शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
जब हम छोटे से बच्चे थे।
जब हम छोटे से बच्चे थे।
लक्ष्मी सिंह
"ज्ञान रूपी दीपक"
Yogendra Chaturwedi
विध्वंस का शैतान
विध्वंस का शैतान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Now we have to introspect how expensive it was to change the
Now we have to introspect how expensive it was to change the
DrLakshman Jha Parimal
शनि देव
शनि देव
Sidhartha Mishra
*नगर अयोध्या ने अपना फिर, वैभव शुचि साकार कर लिया(हिंदी गजल)
*नगर अयोध्या ने अपना फिर, वैभव शुचि साकार कर लिया(हिंदी गजल)
Ravi Prakash
गलती अगर किए नहीं,
गलती अगर किए नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आने वाला कल
आने वाला कल
Dr. Upasana Pandey
इक सांस तेरी, इक सांस मेरी,
इक सांस तेरी, इक सांस मेरी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
साधु की दो बातें
साधु की दो बातें
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मन का डर
मन का डर
Aman Sinha
"मछली"
Dr. Kishan tandon kranti
#शेर-
#शेर-
*प्रणय प्रभात*
Loading...