Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Mar 2020 · 1 min read

तेरे घर से हवा

तेरे घर से हवा कभी जब आई होती है,
सौंधी-सौंधी होती है, मुस्काई होती है,
तूफां और सुनामी भी कर क्या पाए मेरा,
पर उसकी नजरों से बहुत तबाही होती है,
तू ताल, साज, सरगम तू ही मेरा नग़मा है,
गज़ल किसे कहते हैं क्या ये रुबाई होती है,
तूने जब जब मुझको अपने से लिपटाया है,
तब तब दिल के जख्मों पे तुरपाई होती है,
अरमां बदले, मौसम बदले, नक्शे बदल गये,
साकी की मुस्कान बड़ी हरजाई होती है,
फिक्र करो मत ज्यादा ज्यादा, खुश भी रहा करो
कुछ गर खो जाये तो फिर भरपाई होती है,

पुष्प ठाकुर

1 Like · 1 Comment · 499 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सुख दुख
सुख दुख
Sûrëkhâ
#डॉ अरुण कुमार शास्त्री
#डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते
यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते
Prakash Chandra
निर्मल भक्ति
निर्मल भक्ति
Dr. Upasana Pandey
#लघुकथा
#लघुकथा
*प्रणय प्रभात*
लड़की कभी एक लड़के से सच्चा प्यार नही कर सकती अल्फाज नही ये
लड़की कभी एक लड़के से सच्चा प्यार नही कर सकती अल्फाज नही ये
Rituraj shivem verma
लोकतंत्र
लोकतंत्र
Sandeep Pande
हृदय की बेचैनी
हृदय की बेचैनी
Anamika Tiwari 'annpurna '
वर्तमान समय में रिश्तों की स्थिति पर एक टिप्पणी है। कवि कहता
वर्तमान समय में रिश्तों की स्थिति पर एक टिप्पणी है। कवि कहता
पूर्वार्थ
खुश-आमदीद आपका, वल्लाह हुई दीद
खुश-आमदीद आपका, वल्लाह हुई दीद
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जब मरहम हीं ज़ख्मों की सजा दे जाए, मुस्कराहट आंसुओं की सदा दे जाए।
जब मरहम हीं ज़ख्मों की सजा दे जाए, मुस्कराहट आंसुओं की सदा दे जाए।
Manisha Manjari
के कितना बिगड़ गए हो तुम
के कितना बिगड़ गए हो तुम
Akash Yadav
पाँव पर जो पाँव रख...
पाँव पर जो पाँव रख...
डॉ.सीमा अग्रवाल
जो सबका हों जाए, वह हम नहीं
जो सबका हों जाए, वह हम नहीं
Chandra Kanta Shaw
बेटी शिक्षा
बेटी शिक्षा
Dr.Archannaa Mishraa
हमको नहीं गम कुछ भी
हमको नहीं गम कुछ भी
gurudeenverma198
भूले से हमने उनसे
भूले से हमने उनसे
Sunil Suman
जिस भी समाज में भीष्म को निशस्त्र करने के लिए शकुनियों का प्
जिस भी समाज में भीष्म को निशस्त्र करने के लिए शकुनियों का प्
Sanjay ' शून्य'
खुदा की हर बात सही
खुदा की हर बात सही
Harminder Kaur
शुभ धाम हूॅं।
शुभ धाम हूॅं।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
रै तमसा, तू कब बदलेगी…
रै तमसा, तू कब बदलेगी…
Anand Kumar
12. *नारी- स्थिति*
12. *नारी- स्थिति*
Dr Shweta sood
नववर्ष 2024 की अशेष हार्दिक शुभकामनाएँ(Happy New year 2024)
नववर्ष 2024 की अशेष हार्दिक शुभकामनाएँ(Happy New year 2024)
आर.एस. 'प्रीतम'
बाहर से लगा रखे ,दिलो पर हमने ताले है।
बाहर से लगा रखे ,दिलो पर हमने ताले है।
Surinder blackpen
"हालात"
Dr. Kishan tandon kranti
गम के पीछे ही खुशी है ये खुशी कहने लगी।
गम के पीछे ही खुशी है ये खुशी कहने लगी।
सत्य कुमार प्रेमी
कब तक कौन रहेगा साथी
कब तक कौन रहेगा साथी
Ramswaroop Dinkar
*वो बीता हुआ दौर नजर आता है*(जेल से)
*वो बीता हुआ दौर नजर आता है*(जेल से)
Dushyant Kumar
2515.पूर्णिका
2515.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सोना छत पर अब कहॉं,पानी का छिड़काव (कुंडलिया )
सोना छत पर अब कहॉं,पानी का छिड़काव (कुंडलिया )
Ravi Prakash
Loading...