Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Oct 2023 · 1 min read

तेरे ख़त

तेरे दिये वो ख़त, मैंने रखे हैं संभाल के।
जिनमें रखा था तूने , दिल निकाल के।

पढ़ता हूं जब भी मैं ,तेरे वफ़ा के वो वादे
समझ आया है अब ,क्या थे तेरे इरादे।

यकीं नहीं होता कि , करेगी तू बेवफाई
मेरे कंधे इश्क की ,होगी जग हंसाई।

कसूर तेरा नहीं ,सारा कसूर बस मेरा था
वादे तेरे थे झूठे , मगर यकीं तो मेरा था।

तेरी दिलनशीं वो बातें,तेरी झूठी वो कसमें
मंझधार छोड़ मुझे, ग़ैर से निभाई रस्में।

सुरिंदर कौर

2 Likes · 2 Comments · 84 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Surinder blackpen
View all
You may also like:
2885.*पूर्णिका*
2885.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मुस्कुराना सीख लिया !|
मुस्कुराना सीख लिया !|
पूर्वार्थ
"कहीं तुम"
Dr. Kishan tandon kranti
*पुरखों की संपत्ति बेचकर, कब तक जश्न मनाओगे (हिंदी गजल)*
*पुरखों की संपत्ति बेचकर, कब तक जश्न मनाओगे (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
रक्षाबंधन
रक्षाबंधन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
रख लेना तुम सम्भाल कर
रख लेना तुम सम्भाल कर
Pramila sultan
*ग़ज़ल*
*ग़ज़ल*
शेख रहमत अली "बस्तवी"
संकल्प
संकल्प
Naushaba Suriya
अंतरराष्ट्रीय योग दिवस
अंतरराष्ट्रीय योग दिवस
Ram Krishan Rastogi
शिवाजी गुरु समर्थ रामदास – बाल्यकाल और नया पड़ाव – 02
शिवाजी गुरु समर्थ रामदास – बाल्यकाल और नया पड़ाव – 02
Sadhavi Sonarkar
गुरु गोविंद सिंह जी की बात बताऊँ
गुरु गोविंद सिंह जी की बात बताऊँ
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
*मां चंद्रघंटा*
*मां चंद्रघंटा*
Shashi kala vyas
■ प्रभात चिंतन...
■ प्रभात चिंतन...
*Author प्रणय प्रभात*
A Beautiful Mind
A Beautiful Mind
Dhriti Mishra
तेरी तसवीर को आज शाम,
तेरी तसवीर को आज शाम,
Nitin
वो तो है ही यहूद
वो तो है ही यहूद
shabina. Naaz
तेरी यादें
तेरी यादें
Neeraj Agarwal
बगुलों को भी मिल रहा,
बगुलों को भी मिल रहा,
sushil sarna
"रेलगाड़ी सी ज़िन्दगी"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
🌹🌹हर्ट हैकर, हर्ट हैकर,हर्ट हैकर🌹🌹
🌹🌹हर्ट हैकर, हर्ट हैकर,हर्ट हैकर🌹🌹
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मुझे नहीं पसंद किसी की जीहुजूरी
मुझे नहीं पसंद किसी की जीहुजूरी
ruby kumari
मोहब्बत
मोहब्बत
Shriyansh Gupta
छोटी छोटी चीजें देख कर
छोटी छोटी चीजें देख कर
Dheerja Sharma
ज़िदगी के फ़लसफ़े
ज़िदगी के फ़लसफ़े
Shyam Sundar Subramanian
महंगाई के आग
महंगाई के आग
Shekhar Chandra Mitra
सृजन के जन्मदिन पर
सृजन के जन्मदिन पर
Satish Srijan
तुम-सम बड़ा फिर कौन जब, तुमको लगे जग खाक है?
तुम-सम बड़ा फिर कौन जब, तुमको लगे जग खाक है?
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बाल कविता : रेल
बाल कविता : रेल
Rajesh Kumar Arjun
प्रदर्शन
प्रदर्शन
Sanjay ' शून्य'
मेरी आत्मा ईश्वर है
मेरी आत्मा ईश्वर है
Ms.Ankit Halke jha
Loading...