Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Feb 2017 · 1 min read

तेरी सूरत

जहाँ भी देखता हूँ , इस “जहाँ” में तेरी सूरत नज़र आती है,
तेरी सूरत में इस “ जहाँ ” की सारी खुशियाँ नज़र आती है ,

तेरी एक नज़र ने मुझको किस मुकाम पर ला दिया ?
खुद “शमां” में जलकर रोशनी के समंदर में बिठा दिया,
तूफानों के बीच प्यार का दीपक मेरे हाथ में जला दिया ,
मेरी डूबती नैय्या को इस “जहाँ के मांझी” से मिला दिया I

जहाँ भी देखता हूँ, इस “जहाँ” में तेरी सूरत नज़र आती है,
तेरी एक नज़र से बिगड़ी हुई तक़दीर भी संवर जाती है ,

“ राज ” को नहीं था, अब तक यह भान ,
अब वो न रहा वह इस राज से अनजान ,
छणभंगुर जीवन पर था उसे बहुत अभिमान ,
तेरी सूरत के सामने चूर हो गया मेरा गुमान ,
“परम पिता ” की सूरत को गया अब पहचान I

जहाँ भी देखता हूँ, इस “जहाँ” में तेरी सूरत नज़र आती है,
इस सूरत में जगत के पालनहार की तस्वीर नज़र आती है I

देशराज “राज”

1006 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2974.*पूर्णिका*
2974.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
श्री रमेश जैन द्वारा
श्री रमेश जैन द्वारा "कहते रवि कविराय" कुंडलिया संग्रह की सराहना : मेरा सौभाग्य
Ravi Prakash
चाँद से मुलाकात
चाँद से मुलाकात
Kanchan Khanna
पुस्तक समीक्षा -राना लिधौरी गौरव ग्रंथ
पुस्तक समीक्षा -राना लिधौरी गौरव ग्रंथ
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
■ आज का शेर...।।
■ आज का शेर...।।
*Author प्रणय प्रभात*
जब से मेरी आशिकी,
जब से मेरी आशिकी,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
शब्द : एक
शब्द : एक
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
'मरहबा ' ghazal
'मरहबा ' ghazal
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
प्रिय
प्रिय
The_dk_poetry
यक़ीनन एक ना इक दिन सभी सच बात बोलेंगे
यक़ीनन एक ना इक दिन सभी सच बात बोलेंगे
Sarfaraz Ahmed Aasee
हम तो कवि है
हम तो कवि है
नन्दलाल सुथार "राही"
सोच समझ कर
सोच समझ कर
पूर्वार्थ
रज़ा से उसकी अगर
रज़ा से उसकी अगर
Dr fauzia Naseem shad
नवरात्र के सातवें दिन माँ कालरात्रि,
नवरात्र के सातवें दिन माँ कालरात्रि,
Harminder Kaur
"सच और झूठ"
Dr. Kishan tandon kranti
ना जमीं रखता हूॅ॑ ना आसमान रखता हूॅ॑
ना जमीं रखता हूॅ॑ ना आसमान रखता हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
बहुत अंदर तक जला देती हैं वो शिकायतें,
बहुत अंदर तक जला देती हैं वो शिकायतें,
शेखर सिंह
महक कहां बचती है
महक कहां बचती है
Surinder blackpen
-0 सुविचार 0-
-0 सुविचार 0-
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
तुम शायद मेरे नहीं
तुम शायद मेरे नहीं
Rashmi Ranjan
मीठी जलेबी
मीठी जलेबी
rekha mohan
पर्यावरणीय सजगता और सतत् विकास ही पर्यावरण संरक्षण के आधार
पर्यावरणीय सजगता और सतत् विकास ही पर्यावरण संरक्षण के आधार
डॉ०प्रदीप कुमार दीप
💐अज्ञात के प्रति-17💐
💐अज्ञात के प्रति-17💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
भावक की नीयत भी किसी रचना को छोटी बड़ी तो करती ही है, कविता
भावक की नीयत भी किसी रचना को छोटी बड़ी तो करती ही है, कविता
Dr MusafiR BaithA
श्रद्धांजलि
श्रद्धांजलि
Arti Bhadauria
नजर लगी हा चाँद को, फीकी पड़ी उजास।
नजर लगी हा चाँद को, फीकी पड़ी उजास।
डॉ.सीमा अग्रवाल
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – गर्भ और जन्म – 04
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – गर्भ और जन्म – 04
Kirti Aphale
चिड़िया!
चिड़िया!
सेजल गोस्वामी
नाजायज इश्क
नाजायज इश्क
RAKESH RAKESH
एक नारी की पीड़ा
एक नारी की पीड़ा
Ram Krishan Rastogi
Loading...