Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

तेरी नज़र के इशारे बदल भी सकते हैं,,

======ग़ज़ल=====

तेरी नज़र के इशारे बदल भी सकते हैं,
मेरे नसीब के तारे बदल भी सकते हैं,

मैं अपनी नाव भवंर से निकाल लाया हूँ,
मगर ये डर है किनारे बदल भी सकते हैं,

अमीरे शहर की तक़रीर होने वाली है,
सहर तलक ये नज़ारे बदल भी सकते हैं,

ये दौर वो है कि गैरों का क्या कहें साहिब,
हमारे हक़ में हमारे बदल भी सकते हैं,

~~~~अशफ़ाक़ रशीद~~~~~

282 Views
You may also like:
हम सब एक है।
Anamika Singh
जुद़ा किनारे हो गये
शेख़ जाफ़र खान
जंगल में कवि सम्मेलन
मनोज कर्ण
गर्मी का कहर
Ram Krishan Rastogi
समय ।
Kanchan sarda Malu
अपनी नज़र में खुद अच्छा
Dr fauzia Naseem shad
मुझे तुम भूल सकते हो
Dr fauzia Naseem shad
छलकता है जिसका दर्द
Dr fauzia Naseem shad
" मां" बच्चों की भाग्य विधाता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
यादें वो बचपन के
Khushboo Khatoon
लकड़ी में लड़की / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
खुद से बच कर
Dr fauzia Naseem shad
मैं कुछ कहना चाहता हूं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
!!*!! कोरोना मजबूत नहीं कमजोर है !!*!!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
जीवन में
Dr fauzia Naseem shad
✍️रास्ता मंज़िल का✍️
Vaishnavi Gupta
यादें
kausikigupta315
रिश्तों की डोर
मनोज कर्ण
दोहा छंद- पिता
रेखा कापसे
इंसानियत का एहसास भी
Dr fauzia Naseem shad
# पिता ...
Chinta netam " मन "
" एक हद के बाद"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
छीन लिए है जब हक़ सारे तुमने
Ram Krishan Rastogi
अनामिका के विचार
Anamika Singh
सत्य कभी नही मिटता
Anamika Singh
मेरे बुद्ध महान !
मनोज कर्ण
"कल्पनाओं का बादल"
Ajit Kumar "Karn"
जिम्मेदारी और पिता
Dr. Kishan Karigar
मृत्यु या साजिश...?
मनोज कर्ण
पिता के रिश्ते में फर्क होता है।
Taj Mohammad
Loading...