Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 May 2022 · 1 min read

तेरा पापा… अपने वतन में

पापा की…
लाड़ली बिटिया…
पापा आपके पास ही हैं …!
दुखी मत हुआ कर…
मेरी परी…!
जब तू हँसती है….
मुझे बहुत अच्छी लगली है…!
जब रोती है…
तो…
मेरा दिल भी रोने लगता है…!
तू मुझे याद कर…
पगली….
दुखी रहेगी…!
तो क्या…?
तेरा पापा ठीक रह पायेगा..!
मेरी लाड़ली ….
तू अगर चाहती है…!
तेरा पापा…
अपने वतन में….
खुश व सुखी…
ऒर शान्ति से रह सके…!
तो तुझे…
अपने पापा की सौगन्ध है….!
तू कभी उदास…
या दुखी…
नहीं होगी मेरी बच्ची…!
तू मुझे याद कर….
पर खुशी से…..!
अपने खट्टे- मीठे लम्हें ….
मेरे साथ बाँट…..
अपने और मेरे जन्म दिन पर …..
ख़ुशी से पार्टी कर….!
ऒर….
मुझे भी बुला….
अपनी पार्टी में……!
जब तू खुशी से….
याद करेगी….
मैं सदा तेरे आस-पास ही रहूँगा….!

© डॉ० प्रतिभा ‘माही’

2 Likes · 2 Comments · 657 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Pratibha Mahi
View all
You may also like:
माँ और बेटी.. दोनों एक ही आबो हवा में सींचे गए पौधे होते हैं
माँ और बेटी.. दोनों एक ही आबो हवा में सींचे गए पौधे होते हैं
Shweta Soni
हृदय वीणा हो गया।
हृदय वीणा हो गया।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
चोर कौन
चोर कौन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अंकों की भाषा
अंकों की भाषा
Dr. Kishan tandon kranti
मिट जाए हर फ़र्क जब अज़ल और हयात में
मिट जाए हर फ़र्क जब अज़ल और हयात में
sushil sarna
मीठी वाणी
मीठी वाणी
Dr Parveen Thakur
ऋतु परिवर्तन
ऋतु परिवर्तन
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
तुम वादा करो, मैं निभाता हूँ।
तुम वादा करो, मैं निभाता हूँ।
अजहर अली (An Explorer of Life)
अन-मने सूखे झाड़ से दिन.
अन-मने सूखे झाड़ से दिन.
sushil yadav
इश्क में डूबी हुई इक जवानी चाहिए
इश्क में डूबी हुई इक जवानी चाहिए
सौरभ पाण्डेय
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
* सुन्दर फूल *
* सुन्दर फूल *
surenderpal vaidya
नवतपा की लव स्टोरी (व्यंग्य)
नवतपा की लव स्टोरी (व्यंग्य)
Santosh kumar Miri
संविधान का पालन
संविधान का पालन
विजय कुमार अग्रवाल
ज़िंदगी कभी बहार तो कभी ख़ार लगती है……परवेज़
ज़िंदगी कभी बहार तो कभी ख़ार लगती है……परवेज़
parvez khan
वोट कर!
वोट कर!
Neelam Sharma
सम्राट कृष्णदेव राय
सम्राट कृष्णदेव राय
Ajay Shekhavat
वो लड़का
वो लड़का
bhandari lokesh
Why am I getting so perplexed ?
Why am I getting so perplexed ?
Sukoon
*कामदेव को जीता तुमने, शंकर तुम्हें प्रणाम है (भक्ति-गीत)*
*कामदेव को जीता तुमने, शंकर तुम्हें प्रणाम है (भक्ति-गीत)*
Ravi Prakash
अपनी पहचान
अपनी पहचान
Dr fauzia Naseem shad
शीर्षक – फूलों के सतरंगी आंचल तले,
शीर्षक – फूलों के सतरंगी आंचल तले,
Sonam Puneet Dubey
आपका दु:ख किसी की
आपका दु:ख किसी की
Aarti sirsat
अपने ज्ञान को दबा कर पैसा कमाना नौकरी कहलाता है!
अपने ज्ञान को दबा कर पैसा कमाना नौकरी कहलाता है!
Suraj kushwaha
बस्ता
बस्ता
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
मां शैलपुत्री
मां शैलपुत्री
Mukesh Kumar Sonkar
गुजरा वक्त।
गुजरा वक्त।
Taj Mohammad
फूल
फूल
Neeraj Agarwal
वर्तमान लोकतंत्र
वर्तमान लोकतंत्र
Shyam Sundar Subramanian
कविता-हमने देखा है
कविता-हमने देखा है
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Loading...