Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Feb 2024 · 1 min read

तू मुझको संभालेगी क्या जिंदगी

तू मुझको संभालेगी क्या जिंदगी
तूने मुझको अभी तक दिया कुछ नही
जिंदा रहते हुए रोज मरता हूं में
मौत दर्द ये दवा के दिया कुछ नही

113 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सरस्वती वंदना
सरस्वती वंदना
Satya Prakash Sharma
कत्ल खुलेआम
कत्ल खुलेआम
Diwakar Mahto
सलीका शब्दों में नहीं
सलीका शब्दों में नहीं
उमेश बैरवा
तुम्हारी जय जय चौकीदार
तुम्हारी जय जय चौकीदार
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
चन्द्रयान अभियान
चन्द्रयान अभियान
surenderpal vaidya
#DrArunKumarshastri
#DrArunKumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
प्रेम
प्रेम
पंकज कुमार कर्ण
श्री विध्नेश्वर
श्री विध्नेश्वर
Shashi kala vyas
पूर्वोत्तर का दर्द ( कहानी संग्रह) समीक्षा
पूर्वोत्तर का दर्द ( कहानी संग्रह) समीक्षा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
हमारा अस्तिव हमारे कर्म से होता है, किसी के नजरिए से नही.!!
हमारा अस्तिव हमारे कर्म से होता है, किसी के नजरिए से नही.!!
Jogendar singh
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
*****खुद का परिचय *****
*****खुद का परिचय *****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
"सदियों का सन्ताप"
Dr. Kishan tandon kranti
सद्विचार
सद्विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
असली दर्द का एहसास तब होता है जब अपनी हड्डियों में दर्द होता
असली दर्द का एहसास तब होता है जब अपनी हड्डियों में दर्द होता
प्रेमदास वसु सुरेखा
रंगमंचक कलाकार सब दिन बनल छी, मुदा कखनो दर्शक बनबाक चेष्टा क
रंगमंचक कलाकार सब दिन बनल छी, मुदा कखनो दर्शक बनबाक चेष्टा क
DrLakshman Jha Parimal
नदी का किनारा ।
नदी का किनारा ।
Kuldeep mishra (KD)
*इश्क़ से इश्क़*
*इश्क़ से इश्क़*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हम भी तो चाहते हैं, तुम्हें देखना खुश
हम भी तो चाहते हैं, तुम्हें देखना खुश
gurudeenverma198
पुरानी ज़ंजीर
पुरानी ज़ंजीर
Shekhar Chandra Mitra
यह ज़िंदगी है आपकी
यह ज़िंदगी है आपकी
Dr fauzia Naseem shad
रिश्तो से जितना उलझोगे
रिश्तो से जितना उलझोगे
Harminder Kaur
2935.*पूर्णिका*
2935.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जो ना कहता है
जो ना कहता है
Otteri Selvakumar
*रावण का दुख 【कुंडलिया】*
*रावण का दुख 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
मंहगाई, भ्रष्टाचार,
मंहगाई, भ्रष्टाचार,
*प्रणय प्रभात*
दिल शीशे सा
दिल शीशे सा
Neeraj Agarwal
कलेक्टर से भेंट
कलेक्टर से भेंट
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सडा फल
सडा फल
Karuna Goswami
कट गई शाखें, कट गए पेड़
कट गई शाखें, कट गए पेड़
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
Loading...