Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 May 2024 · 1 min read

तू भी इसां कहलाएगा

***तू भी इसां कहलाएगा***
मज़हब को रण में बदलके
हिंसा की आग लगाने बाले
तू भी ना इससे बच पायेगा
इसां को भड़काने बाले ।
घर आज जला मजलूमों का
कल होगा हाल यही तेरा
हिंसा की ज्वाला जलाने बाले
तू भी ना इससे बच पायेगा
इसां को भड़काने बाले ।।
एक बार तू छोड़के मज़हब को
तू आग लगा मात्र-भक्ति की
मात्र-भक्ति की इस आग में
जो तूने खुद को जला डाल
मरके तू अमर हो जाएगा
पूजेगे लोग तुझे कल्पों तक
कल्पों तक अमर हो जाएगा
अहिंसा की आग लगाकर देख
तू भी इसां कहलाएगा ।।।
——————————————-
दिनेश कुमार गंगवार

Language: Hindi
1 Like · 32 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ॐ शिव शंकर भोले नाथ र
ॐ शिव शंकर भोले नाथ र
Swami Ganganiya
मेरे पांच रोला छंद
मेरे पांच रोला छंद
Sushila joshi
"जीवनसाथी राज"
Dr Meenu Poonia
बसंत
बसंत
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
(1) मैं जिन्दगी हूँ !
(1) मैं जिन्दगी हूँ !
Kishore Nigam
अपने को अपना बना कर रखना जितना कठिन है उतना ही सहज है दूसरों
अपने को अपना बना कर रखना जितना कठिन है उतना ही सहज है दूसरों
Paras Nath Jha
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दोस्त कहता है मेरा खुद को तो
दोस्त कहता है मेरा खुद को तो
Seema gupta,Alwar
मां सीता की अग्नि परीक्षा ( महिला दिवस)
मां सीता की अग्नि परीक्षा ( महिला दिवस)
Rj Anand Prajapati
Take responsibility
Take responsibility
पूर्वार्थ
#चालबाज़ी-
#चालबाज़ी-
*प्रणय प्रभात*
खुला खत नारियों के नाम
खुला खत नारियों के नाम
Dr. Kishan tandon kranti
A heart-broken Soul.
A heart-broken Soul.
Manisha Manjari
23/139.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/139.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दोहा-विद्यालय
दोहा-विद्यालय
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Kitna hasin ittefak tha ,
Kitna hasin ittefak tha ,
Sakshi Tripathi
3-“ये प्रेम कोई बाधा तो नहीं “
3-“ये प्रेम कोई बाधा तो नहीं “
Dilip Kumar
पानी जैसा बनो रे मानव
पानी जैसा बनो रे मानव
Neelam Sharma
*अहमब्रह्मास्मि9*
*अहमब्रह्मास्मि9*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*रक्षक है जनतंत्र का, छोटा-सा अखबार (कुंडलिया)*
*रक्षक है जनतंत्र का, छोटा-सा अखबार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
ख्वाब हो गए हैं वो दिन
ख्वाब हो गए हैं वो दिन
shabina. Naaz
लगी राम धुन हिया को
लगी राम धुन हिया को
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
विघ्न-विनाशक नाथ सुनो, भय से भयभीत हुआ जग सारा।
विघ्न-विनाशक नाथ सुनो, भय से भयभीत हुआ जग सारा।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
सच बोलने वाले के पास कोई मित्र नहीं होता।
सच बोलने वाले के पास कोई मित्र नहीं होता।
Dr MusafiR BaithA
कहते हैं तुम्हें ही जीने का सलीका नहीं है,
कहते हैं तुम्हें ही जीने का सलीका नहीं है,
manjula chauhan
तेरी महफ़िल में सभी लोग थे दिलबर की तरह
तेरी महफ़िल में सभी लोग थे दिलबर की तरह
Sarfaraz Ahmed Aasee
बोलो जय जय गणतंत्र दिवस
बोलो जय जय गणतंत्र दिवस
gurudeenverma198
क्या लिखूं ?
क्या लिखूं ?
Rachana
बंदर का खेल!
बंदर का खेल!
कविता झा ‘गीत’
एक किताब खोलो
एक किताब खोलो
Dheerja Sharma
Loading...