Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 May 2024 · 1 min read

तू नर नहीं नारायण है

तू नर नहीं नारायण है

तू नर नहीं नारायण है।
यदि मनुष्य कर्त्तव्यपरायण है।

मानव में षड्‌गुण है अमूल्य,
मानवता की मर्यादा जिनका मूल।
मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम ने भी
इसी मत को किया धारण है
वही वस्तुतः कर्त्तव्यपरायण हैं।

तू नर नहीं नारायण है !
यदि मनुष्य कर्त्तव्यपरायण है।

श्रीकृष्ण का अर्जुन को ज्ञान यही,
भगवद्‌गीता का कर्मयोग यही,
मृत्युलोक में मायाजनित इन
दुविधाओं का यही निवारण है।

तू नर नहीं नारायण है।
यदि मनुष्य कर्त्तव्यपरायण है।

मद, लोभ, मोहादि ये षड् विकार,
त्याज्य है न कर स्वीकार।
तुम्हारी ऊर्ध्वगति में बाधक,
तुम्हारे पतन का कारण है।
तुम्हे होना मात्र कर्त्तव्यपरायण है।

तू नर नहीं नारायण है।
यदि मनुष्य कर्त्तव्यपरायण है।

– डॉ० उपासना पाण्डेय

Language: Hindi
2 Likes · 73 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वक्त गिरवी सा पड़ा है जिंदगी ( नवगीत)
वक्त गिरवी सा पड़ा है जिंदगी ( नवगीत)
Rakmish Sultanpuri
मैं रूठ जाता हूँ खुद से, उससे, सबसे
मैं रूठ जाता हूँ खुद से, उससे, सबसे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
जनक दुलारी
जनक दुलारी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
3276.*पूर्णिका*
3276.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
प्यार की कलियुगी परिभाषा
प्यार की कलियुगी परिभाषा
Mamta Singh Devaa
चींटी रानी
चींटी रानी
Manu Vashistha
दुल्हन एक रात की
दुल्हन एक रात की
Neeraj Agarwal
उन कचोटती यादों का क्या
उन कचोटती यादों का क्या
Atul "Krishn"
देखिए खूबसूरत हुई भोर है।
देखिए खूबसूरत हुई भोर है।
surenderpal vaidya
गांव
गांव
Bodhisatva kastooriya
मोहब्बतों की डोर से बँधे हैं
मोहब्बतों की डोर से बँधे हैं
Ritu Asooja
दो शब्द ढूँढ रहा था शायरी के लिए,
दो शब्द ढूँढ रहा था शायरी के लिए,
Shashi Dhar Kumar
छत्तीसगढ़िया संस्कृति के चिन्हारी- हरेली तिहार
छत्तीसगढ़िया संस्कृति के चिन्हारी- हरेली तिहार
Mukesh Kumar Sonkar
हिम्मत और महब्बत एक दूसरे की ताक़त है
हिम्मत और महब्बत एक दूसरे की ताक़त है
SADEEM NAAZMOIN
किस बात का गुरुर हैं,जनाब
किस बात का गुरुर हैं,जनाब
शेखर सिंह
*चिंता चिता समान है*
*चिंता चिता समान है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
आप क्या
आप क्या
Dr fauzia Naseem shad
नववर्ष पर मुझको उम्मीद थी
नववर्ष पर मुझको उम्मीद थी
gurudeenverma198
Patience and determination, like a rock, is the key to their hearts' lock.
Patience and determination, like a rock, is the key to their hearts' lock.
Manisha Manjari
प्राण प्रतीस्था..........
प्राण प्रतीस्था..........
Rituraj shivem verma
तुम्हें कुछ-कुछ सुनाई दे रहा है।
तुम्हें कुछ-कुछ सुनाई दे रहा है।
*प्रणय प्रभात*
बाल कविता: मोटर कार
बाल कविता: मोटर कार
Rajesh Kumar Arjun
रोगी जिसका तन हुआ, समझो तन बेकार (कुंडलिया)
रोगी जिसका तन हुआ, समझो तन बेकार (कुंडलिया)
Ravi Prakash
हाथ छुडाकर क्यों गया तू,मेरी खता बता
हाथ छुडाकर क्यों गया तू,मेरी खता बता
डा गजैसिह कर्दम
महफिल में तनहा जले, खूब हुए बदनाम ।
महफिल में तनहा जले, खूब हुए बदनाम ।
sushil sarna
देशभक्ति पर दोहे
देशभक्ति पर दोहे
Dr Archana Gupta
"नींद से जागो"
Dr. Kishan tandon kranti
बचा  सको तो  बचा  लो किरदारे..इंसा को....
बचा सको तो बचा लो किरदारे..इंसा को....
shabina. Naaz
दरवाज़ों पे खाली तख्तियां अच्छी नहीं लगती,
दरवाज़ों पे खाली तख्तियां अच्छी नहीं लगती,
पूर्वार्थ
ग़ज़ल _ मांगती इंसाफ़ जनता ।
ग़ज़ल _ मांगती इंसाफ़ जनता ।
Neelofar Khan
Loading...