Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jul 2023 · 1 min read

* तुम न मिलती *

डॉ अरुण कुमार शास्त्री – एक अबोध बालक – अरुण अतृप्त

* तुम न मिलती *

टूट जाना था लाज़िम मिरा
अगरचे तुम न मिलती
बहक जाना बहुत आसान था
जो न देती तुम सहारा
बहुत ज़ालिम है दुनिया
और इस दुनिया के सितमगर
डूब जाना था लाज़िम मिरा
अगरचे तुम न मिलती
भटकता फिर रहा था
ब्रह्मांड भर में मैं अकेला
बिखर जाना था लाज़िम
अगरचे तुम न मिलती
सभी हैं रंग दुनिया में
मगर अधिकांश श्वेत और काले
हुआ था मैं भी काला
अगरचे तुम न मिलती
उदासी से भरा था आकंठ
निराशा का था घेरा सर्वत्र
टूट जाना था लाज़िम मिरा
अगरचे तुम न मिलती

110 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
*नज़्म*
*नज़्म*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
अब मै ख़ुद से खफा रहने लगा हूँ
अब मै ख़ुद से खफा रहने लगा हूँ
Bhupendra Rawat
पत्थर - पत्थर सींचते ,
पत्थर - पत्थर सींचते ,
Mahendra Narayan
तेरी धड़कन मेरे गीत
तेरी धड़कन मेरे गीत
Prakash Chandra
"जीवन का सबूत"
Dr. Kishan tandon kranti
#दोहा-
#दोहा-
*Author प्रणय प्रभात*
हरियाणा दिवस की बधाई
हरियाणा दिवस की बधाई
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
पर्दा हटते ही रोशनी में आ जाए कोई
पर्दा हटते ही रोशनी में आ जाए कोई
कवि दीपक बवेजा
.
.
Ms.Ankit Halke jha
खुद को इंसान
खुद को इंसान
Dr fauzia Naseem shad
तुम सत्य हो
तुम सत्य हो
Dr.Pratibha Prakash
याद आए दिन बचपन के
याद आए दिन बचपन के
Manu Vashistha
बाहरी वस्तु व्यक्ति को,
बाहरी वस्तु व्यक्ति को,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*हार में भी होंठ पर, मुस्कान रहना चाहिए 【मुक्तक】*
*हार में भी होंठ पर, मुस्कान रहना चाहिए 【मुक्तक】*
Ravi Prakash
विश्व पर्यावरण दिवस
विश्व पर्यावरण दिवस
Ram Krishan Rastogi
Ye ayina tumhari khubsoorti nhi niharta,
Ye ayina tumhari khubsoorti nhi niharta,
Sakshi Tripathi
2637.पूर्णिका
2637.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
गुजरा वक्त।
गुजरा वक्त।
Taj Mohammad
"ज्ञ " से ज्ञानी हम बन जाते हैं
Ghanshyam Poddar
फ़र्क
फ़र्क
Dr. Pradeep Kumar Sharma
🌸Prodigy Love-48🌸
🌸Prodigy Love-48🌸
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अच्छे दिन
अच्छे दिन
Shekhar Chandra Mitra
खुशनुमा – खुशनुमा सी लग रही है ज़मीं
खुशनुमा – खुशनुमा सी लग रही है ज़मीं
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Gazal
Gazal
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
गीत
गीत
जगदीश शर्मा सहज
तुमको सोचकर जवाब दूंगा
तुमको सोचकर जवाब दूंगा
gurudeenverma198
- मेरी मोहब्बत तुम्हारा इंतिहान हो गई -
- मेरी मोहब्बत तुम्हारा इंतिहान हो गई -
bharat gehlot
मौन अधर होंगे
मौन अधर होंगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
जब कोई आदमी कमजोर पड़ जाता है
जब कोई आदमी कमजोर पड़ जाता है
Paras Nath Jha
मैं पीपल का पेड़
मैं पीपल का पेड़
VINOD CHAUHAN
Loading...