Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Oct 2023 · 1 min read

तुम तो हो जाते हो नाराज

तुम तो हो जाते हो नाराज, कुछ कहते ही तुमसे।
क्या करें ऐसे में अब हम, कोई भी बात तुमसे।।
तुम तो हो जाते हो नाराज—————-।।

तुमको अच्छा नहीं लगता, करीब हम हो तुम्हारे।
दिल दुःखी नहीं हो तुम्हारा, दूर रहते हैं तुमसे।।
तुम तो हो जाते हो नाराज—————।।

हम तो यही चाहते हैं, तुम भी हम जैसे सुखी हो।
क्या मिलेगा यदि कह दे, हम यह सच भी तुमसे।।
तुम तो हो जाते हो नाराज—————।।

सहन नहीं होता तुमसे, अगर हम खुलकर हंस दे।
मालूम नहीं कितनी मिलेगी, हमको बददुहायें तुमसे।।
तुम तो हो जाते हो नाराज—————–।।

करें क्या तारीफ तुम्हारी, कैसे तुम्हें दिल से लगायें।
कैसे तुम पर करें यकीन, हाथ कैसे मिलाये तुमसे।।
तुम तो हो जाते हो नाराज—————-।।

शिक्षक एवं साहित्यकार
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

297 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चुप
चुप
Ajay Mishra
💐प्रेम कौतुक-469💐
💐प्रेम कौतुक-469💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ओ जानें ज़ाना !
ओ जानें ज़ाना !
The_dk_poetry
कैसे पाएं पार
कैसे पाएं पार
surenderpal vaidya
खेत रोता है
खेत रोता है
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
मानवता दिल में नहीं रहेगा
मानवता दिल में नहीं रहेगा
Dr. Man Mohan Krishna
प्रयोग
प्रयोग
Dr fauzia Naseem shad
चंदा तुम मेरे घर आना
चंदा तुम मेरे घर आना
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
खामोशियां मेरी आवाज है,
खामोशियां मेरी आवाज है,
Stuti tiwari
"जीवन की परिभाषा"
Dr. Kishan tandon kranti
गुस्सा सातवें आसमान पर था
गुस्सा सातवें आसमान पर था
सिद्धार्थ गोरखपुरी
रिश्ते सम्भालन् राखियो, रिश्तें काँची डोर समान।
रिश्ते सम्भालन् राखियो, रिश्तें काँची डोर समान।
Anil chobisa
!! चहक़ सको तो !!
!! चहक़ सको तो !!
Chunnu Lal Gupta
हे माधव
हे माधव
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
सफर अंजान राही नादान
सफर अंजान राही नादान
VINOD CHAUHAN
झर-झर बरसे नयन हमारे ज्यूँ झर-झर बदरा बरसे रे
झर-झर बरसे नयन हमारे ज्यूँ झर-झर बदरा बरसे रे
हरवंश हृदय
हिंदू धर्म आ हिंदू विरोध।
हिंदू धर्म आ हिंदू विरोध।
Acharya Rama Nand Mandal
स्वाल तुम्हारे-जवाब हमारे
स्वाल तुम्हारे-जवाब हमारे
Ravi Ghayal
स्मृति शेष अटल
स्मृति शेष अटल
कार्तिक नितिन शर्मा
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
हम तो यही बात कहेंगे
हम तो यही बात कहेंगे
gurudeenverma198
■ आज की बात
■ आज की बात
*Author प्रणय प्रभात*
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
2316.पूर्णिका
2316.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
उजाले को वही कीमत करेगा
उजाले को वही कीमत करेगा
पूर्वार्थ
एक शाम ठहर कर देखा
एक शाम ठहर कर देखा
Kunal Prashant
चोर
चोर
Shyam Sundar Subramanian
प्रेम【लघुकथा】*
प्रेम【लघुकथा】*
Ravi Prakash
भुला ना सका
भुला ना सका
Dr. Mulla Adam Ali
ठहर ठहर ठहर जरा, अभी उड़ान बाकी हैं
ठहर ठहर ठहर जरा, अभी उड़ान बाकी हैं
Er.Navaneet R Shandily
Loading...