Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Apr 2024 · 1 min read

“तुम्हें याद करना”

“तुम्हें याद करना”
तुम्हें याद करना
जैसे मधुर सरगम के साज का
बज उठना,
जैसे दिल का झूम-झूम कर
नच उठाना

1 Like · 1 Comment · 53 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
दर्स ए वफ़ा आपसे निभाते चले गए,
दर्स ए वफ़ा आपसे निभाते चले गए,
ज़ैद बलियावी
हम मिले थे जब, वो एक हसीन शाम थी
हम मिले थे जब, वो एक हसीन शाम थी
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
भोले शंकर ।
भोले शंकर ।
Anil Mishra Prahari
शुभ दिवाली
शुभ दिवाली
umesh mehra
दशहरा पर्व पर कुछ दोहे :
दशहरा पर्व पर कुछ दोहे :
sushil sarna
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कब तक कौन रहेगा साथी
कब तक कौन रहेगा साथी
Ramswaroop Dinkar
*जोड़कर जितना रखोगे, सब धरा रह जाएगा (हिंदी गजल))*
*जोड़कर जितना रखोगे, सब धरा रह जाएगा (हिंदी गजल))*
Ravi Prakash
भय
भय
Shyam Sundar Subramanian
ग़ज़ल _ मिले जब भी यारों , तो हँसते रहे हैं,
ग़ज़ल _ मिले जब भी यारों , तो हँसते रहे हैं,
Neelofar Khan
शबे दर्द जाती नही।
शबे दर्द जाती नही।
Taj Mohammad
तनहा विचार
तनहा विचार
Yash Tanha Shayar Hu
मुझसे मिलने में तुम्हें,
मुझसे मिलने में तुम्हें,
Dr. Man Mohan Krishna
एक फूल
एक फूल
अनिल "आदर्श"
मुस्कुराहटों के मूल्य
मुस्कुराहटों के मूल्य
Saraswati Bajpai
प्यारा-प्यारा है यह पंछी
प्यारा-प्यारा है यह पंछी
Suryakant Dwivedi
अल्फाज़
अल्फाज़
हिमांशु Kulshrestha
मां कुष्मांडा
मां कुष्मांडा
Mukesh Kumar Sonkar
होली
होली
Kanchan Khanna
मनमीत
मनमीत
लक्ष्मी सिंह
*इश्क़ न हो किसी को*
*इश्क़ न हो किसी को*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आसान शब्द में समझिए, मेरे प्यार की कहानी।
आसान शब्द में समझिए, मेरे प्यार की कहानी।
पूर्वार्थ
वेलेंटाइन डे आशिकों का नवरात्र है उनको सारे डे रोज, प्रपोज,च
वेलेंटाइन डे आशिकों का नवरात्र है उनको सारे डे रोज, प्रपोज,च
Rj Anand Prajapati
हयात कैसे कैसे गुल खिला गई
हयात कैसे कैसे गुल खिला गई
Shivkumar Bilagrami
-दीवाली मनाएंगे
-दीवाली मनाएंगे
Seema gupta,Alwar
अंत समय
अंत समय
Vandna thakur
दर्द
दर्द
Bodhisatva kastooriya
काश तुम मेरी जिंदगी में होते
काश तुम मेरी जिंदगी में होते
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
■ 80 फीसदी मुफ्तखोरों की सोच।
■ 80 फीसदी मुफ्तखोरों की सोच।
*प्रणय प्रभात*
दुःख ले कर क्यो चलते तो ?
दुःख ले कर क्यो चलते तो ?
Buddha Prakash
Loading...