Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jun 2016 · 1 min read

तुम्हारे खत……. कविता कमंडल काव्य संग्रह से मेरी दूसरी रचना

एक दिन
तुम्हारे लिखे
वो सारे खत
सार्वजनिक कर
लाऊंगी दुनिया के सामने
उस दिन पता चल जायेगा
तुम्हारे उन अपनों को
जिन्हें लगता है आज
कि हम ढोह रहे है अपने रिश्ते को
कितना प्यार है
हमारी रिश्तों की जड़ों में
जो हमे एक दूसरे से
दूर
होने ही नही देता
तुम्हारी खुशबू से सरोबोर
आज भी
खोलती हूँ जब कभी तुम्हारे खत
तो वो मुझे अंदर तक भीगो जाते है
और तुम्हारे गहरे प्यार का अहसास
बरस पड़ता है मुझ पर
सावन की पहली फुहार सा
न जाने वो कैसा वक़्त था
जब घटाएं छाती थी आसमान पर
मन तुम से दूरी होने का
शोक मनाता उदास हो उठता था
तुम कभी तेज़ तूफान में
आ कर खड़े हो जाते थे
मेरे कमरे की खिड़की से नजर आते
उस आम के पेड़ के नीचे
दूर ….
हम निहारा करते
एक दूसरे को घंटो
तुम भीगते रहते बारीश मे
और मे भीगती रहती तुम्हारे कोमल प्यार मे
न जाने वो कौन सा वक़्त था
जब तुम मेरे लिए पत्थर हो गये
पर मैं जानती हूँ
जो अंगारे बरसते है आज
शब्द बन कर
उन के नीचे
तलहटी में कही
एक नदी बहती है
जो तुम कहते नही
वो मुझ से छुपा कर रखी
तुम्हारी डायरी बताती है
जिस का हर पन्ना
मेरे नाम लिखा एक खत है
तभी तो कहती हूँ
किसी दिन तुम्हारी नज़र बचा
सार्वजनिक कर दूंगी
तुम्हारे प्रेम में भीगे खत
उस दिन तुम अपनी भावनाओं का बांध
बचा पाये तो कहना

शिखा श्याम राणा
पंचकूला हरियाणा॥

Language: Hindi
Tag: कविता
1 Like · 1 Comment · 765 Views
You may also like:
जब वो कृष्णा मेरे मन की आवाज़ बन जाता है।
Manisha Manjari
【7】** हाथी राजा **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
अभी अभी की बात है
कवि दीपक बवेजा
निस्वार्थ पापा
Shubham Shankhydhar
आध्यात्मिक गंगा स्नान
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मेरी रातों की नींद क्यों चुराते हो
Ram Krishan Rastogi
=*तुम अन्न-दाता हो*=
Prabhudayal Raniwal
बुढापा
सूर्यकांत द्विवेदी
गृहणी का बुद्धत्व
पूनम कुमारी (आगाज ए दिल)
तुम्हारा प्यार अब नहीं मिलता।
सत्य कुमार प्रेमी
करवा चौथ
Vindhya Prakash Mishra
कोई ख़्वाहिश
Dr fauzia Naseem shad
चांद और चांद की पत्नी
Shiva Awasthi
*कृपा कर दो मेरे सरकार (भक्ति गीत)*
Ravi Prakash
“ एक अमर्यादित शब्द के बोलने से महानायक खलनायक बन...
DrLakshman Jha Parimal
आशाओं के दीप.....
Chandra Prakash Patel
वक्त लगता है
Deepak Baweja
" सरोज "
Dr Meenu Poonia
हिंदी दिवस
बिमल तिवारी आत्मबोध
लोग आपन त सभे कहाते नू बा
सन्तोष कुमार विश्वकर्मा 'सूर्य'
साजन तेरे गाँव का, पनघट इतना दूर
Dr Archana Gupta
ना होता कुलनाश, चले धर्म-कर्म से जो
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
होकर रहेगा इंकलाब
Shekhar Chandra Mitra
हमलोग
Dr.sima
*मेरी इच्छा*
Dushyant Kumar
हायकु
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
अंधेरा मिटाना होगा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बुंदेली दोहा- गुदना
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
ये खुशी
Anamika Singh
पितृ वंदना
मनोज कर्ण
Loading...