Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jun 2023 · 1 min read

तितली के तेरे पंख

रंग बिरंगे तितली के पंख
रस को आस प्यासी भटकन
सुखी होता है जिससे जीवन
पाती लिख दी नाम तुम्हारे…
सीमा रेखा छूने को
नित नये नये सपन सजाती
उठती गिरती और मरती जाती
पर मोह न आकाश का तजती
जीवन की साम बस नाम तुम्हारे…
मन की पुस्तक के पृष्ठों पर
अंकित करते तितली के पंख
इन्द्र धनुष सी शोभा न्यारी
लगते है जो शिल्पी के घर
नयनों के दर्पण में
चित्र बनते बस नाम तुम्हारे…
कूल और धाराओं में
बनते ज्वार के घर
प्राण हमारे थके अकेले
‘अंजुम’ सागर की मोती सीपी
बस करता हूँ नाम तुम्हारे…

नाम-मनमोहन लाल गुप्ता
पता-मोहल्ला जाब्तागंज, नजीबाबाद, जिला बिजनौर 246763, यूपी
मोबाइल नंबर-9152859828

Language: Hindi
1 Like · 405 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
View all
You may also like:
क्या होगा लिखने
क्या होगा लिखने
Suryakant Dwivedi
तुम्हें भूल नहीं सकता कभी
तुम्हें भूल नहीं सकता कभी
gurudeenverma198
#वर_दक्षिण (दहेज)
#वर_दक्षिण (दहेज)
संजीव शुक्ल 'सचिन'
वीर शिरोमणि महाराणा प्रताप
वीर शिरोमणि महाराणा प्रताप
Ravi Yadav
हमारी योग्यता पर सवाल क्यो १
हमारी योग्यता पर सवाल क्यो १
भरत कुमार सोलंकी
हिज़्र
हिज़्र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
मैं क्या जानूं क्या होता है किसी एक  के प्यार में
मैं क्या जानूं क्या होता है किसी एक के प्यार में
Manoj Mahato
2542.पूर्णिका
2542.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
ऋतुराज
ऋतुराज
Santosh kumar Miri
श्याम दिलबर बना जब से
श्याम दिलबर बना जब से
Khaimsingh Saini
दगा बाज़ आसूं
दगा बाज़ आसूं
Surya Barman
मोहब्बत की दुकान और तेल की पकवान हमेशा ही हानिकारक होती है l
मोहब्बत की दुकान और तेल की पकवान हमेशा ही हानिकारक होती है l
Ashish shukla
जब मरहम हीं ज़ख्मों की सजा दे जाए, मुस्कराहट आंसुओं की सदा दे जाए।
जब मरहम हीं ज़ख्मों की सजा दे जाए, मुस्कराहट आंसुओं की सदा दे जाए।
Manisha Manjari
शब्द
शब्द
Neeraj Agarwal
भ्रम जाल
भ्रम जाल
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हाल ऐसा की खुद पे तरस आता है
हाल ऐसा की खुद पे तरस आता है
Kumar lalit
देख लूँ गौर से अपना ये शहर
देख लूँ गौर से अपना ये शहर
Shweta Soni
*।।ॐ।।*
*।।ॐ।।*
Satyaveer vaishnav
मेरी अधिकांश पोस्ट
मेरी अधिकांश पोस्ट
*Author प्रणय प्रभात*
अपनी इच्छाओं में उलझा हुआ मनुष्य ही गरीब होता है, गरीब धोखा
अपनी इच्छाओं में उलझा हुआ मनुष्य ही गरीब होता है, गरीब धोखा
Sanjay ' शून्य'
"खबर"
Dr. Kishan tandon kranti
*स्वयंवर (कुंडलिया)*
*स्वयंवर (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
दिसम्बर की सर्द शाम में
दिसम्बर की सर्द शाम में
Dr fauzia Naseem shad
सृजन तेरी कवितायें
सृजन तेरी कवितायें
Satish Srijan
देखो-देखो आया सावन।
देखो-देखो आया सावन।
लक्ष्मी सिंह
बची रहे संवेदना...
बची रहे संवेदना...
डॉ.सीमा अग्रवाल
वो स्पर्श
वो स्पर्श
Kavita Chouhan
चांद शेर
चांद शेर
Bodhisatva kastooriya
मैं
मैं
Vivek saswat Shukla
वृक्ष बड़े उपकारी होते हैं,
वृक्ष बड़े उपकारी होते हैं,
अनूप अम्बर
Loading...