Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Aug 2023 · 1 min read

तारीफ क्या करूं,तुम्हारे शबाब की

तारीफ क्या करू,तुम्हारे शबाब की।
तुम तो पंखुड़ी हो, लाल गुलाब की।।

चेहरे पर नूर है जैसे चांदनी का हो नूर।
खुबसूरती पाई है तुमने बे हिसाब की।।

याद ताजा हो गई,तुम्हारी दसवी क्लास की।
सीने से जब लगाई पंखुड़ी रखी किताब की।।

जाकर क्या करूंगा मैं जन्नत में अब जाकर।
जब ज़मीं पर है तस्वीर जन्नत के ख्वाब की।।

देखकर तुम्हारी गर्दन,सुराही के याद आ गई।
सुराही बेकार है जब देखी डाली गुलाब की।।

गेसू देखकर तुम्हारे,जैसे काली घटाएं हो।
लगता है देखकर,बारिस होगी बे हिसाब की।।

रस्तोगी और क्या तारीफ़ करे,तेरे हुस्न की।
तुम गज़ल बन चुकी हो मेरे ही ख्वाब की।।

आर के रस्तोगी गुरुग्राम

2 Likes · 6 Comments · 701 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ram Krishan Rastogi
View all
You may also like:
*मन के मीत किधर है*
*मन के मीत किधर है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
वो सारी खुशियां एक तरफ लेकिन तुम्हारे जाने का गम एक तरफ लेकि
वो सारी खुशियां एक तरफ लेकिन तुम्हारे जाने का गम एक तरफ लेकि
★ IPS KAMAL THAKUR ★
दिन में रात
दिन में रात
MSW Sunil SainiCENA
हार से डरता क्यों हैं।
हार से डरता क्यों हैं।
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
Harmony's Messenger: Sauhard Shiromani Sant Shri Saurabh
Harmony's Messenger: Sauhard Shiromani Sant Shri Saurabh
World News
कदमों में बिखर जाए।
कदमों में बिखर जाए।
लक्ष्मी सिंह
पिछले पन्ने 10
पिछले पन्ने 10
Paras Nath Jha
*सीधे-सादे चलिए साहिब (हिंदी गजल)*
*सीधे-सादे चलिए साहिब (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
Sometimes goals are not houses, cars, and getting the bag! S
Sometimes goals are not houses, cars, and getting the bag! S
पूर्वार्थ
सच में कितना प्यारा था, मेरे नानी का घर...
सच में कितना प्यारा था, मेरे नानी का घर...
Anand Kumar
विविध विषय आधारित कुंडलियां
विविध विषय आधारित कुंडलियां
नाथ सोनांचली
जागरूक हो हर इंसान
जागरूक हो हर इंसान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
#drarunkumarshastriblogger
#drarunkumarshastriblogger
DR ARUN KUMAR SHASTRI
'मेरे बिना'
'मेरे बिना'
नेहा आज़ाद
Orange 🍊 cat
Orange 🍊 cat
Otteri Selvakumar
The most awkward situation arises when you lie between such
The most awkward situation arises when you lie between such
Sukoon
23/109.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/109.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गणेश चतुर्थी
गणेश चतुर्थी
Surinder blackpen
सरस्वती वंदना-5
सरस्वती वंदना-5
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
माह -ए -जून में गर्मी से राहत के लिए
माह -ए -जून में गर्मी से राहत के लिए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
खुल जाता है सुबह उठते ही इसका पिटारा...
खुल जाता है सुबह उठते ही इसका पिटारा...
shabina. Naaz
पल भर में बदल जाए
पल भर में बदल जाए
Dr fauzia Naseem shad
सुख की तलाश आंख- मिचौली का खेल है जब तुम उसे खोजते हो ,तो वह
सुख की तलाश आंख- मिचौली का खेल है जब तुम उसे खोजते हो ,तो वह
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
"तेरे इश्क़ में"
Dr. Kishan tandon kranti
* विदा हुआ है फागुन *
* विदा हुआ है फागुन *
surenderpal vaidya
नई रीत विदाई की
नई रीत विदाई की
विजय कुमार अग्रवाल
मीठी वाणी
मीठी वाणी
Kavita Chouhan
बड़ा मायूस बेचारा लगा वो।
बड़ा मायूस बेचारा लगा वो।
सत्य कुमार प्रेमी
बचपन याद किसे ना आती ?
बचपन याद किसे ना आती ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
■ तय मानिए...
■ तय मानिए...
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...