Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 May 2023 · 1 min read

ताप

“ताप”

सर्दी की धूप जैसे बुझी-बुझी सी होती है
मानो मिट गया हो अहंकार उसका
जो गर्मी में झुलसाती थी
तड़पाती थी
सताती थी
करती थी गर्व अपने ताप पर
पर वक्त करवट बदलता है
मिट जाता है अहंकार सभी का
झुक जाता है हर ताप किसी का
झुका जैसे रावण का मद
उससे बड़ा था जो राम का कद
हर कोई जो करता है ताप सूर्य सा
कुछ दिन कर ले,भर ले मन को
इक दिन धुंध धुंधली कर देगी ताप
फिर रह जायेगा केवल पश्चाताप।

😊🙏नन्दलाल सुथार “राही”

1 Like · 204 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नन्दलाल सुथार "राही"
View all
You may also like:
"कैंसर की वैक्सीन"
Dr. Kishan tandon kranti
कंधे पे अपने मेरा सर रहने दीजिए
कंधे पे अपने मेरा सर रहने दीजिए
rkchaudhary2012
ग़ज़ल
ग़ज़ल
प्रीतम श्रावस्तवी
मदमस्त
मदमस्त "नीरो"
*प्रणय प्रभात*
* याद है *
* याद है *
surenderpal vaidya
इस बुझी हुई राख में तमाम राज बाकी है
इस बुझी हुई राख में तमाम राज बाकी है
कवि दीपक बवेजा
माना मन डरपोक है,
माना मन डरपोक है,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
“लिखने से कतराने लगा हूँ”
“लिखने से कतराने लगा हूँ”
DrLakshman Jha Parimal
रिश्ते
रिश्ते
Ashwani Kumar Jaiswal
अज्ञानता निर्धनता का मूल
अज्ञानता निर्धनता का मूल
लक्ष्मी सिंह
अपने ही हाथों
अपने ही हाथों
Dr fauzia Naseem shad
गए थे दिल हल्का करने,
गए थे दिल हल्का करने,
ओसमणी साहू 'ओश'
बहुत बरस गुज़रने के बाद
बहुत बरस गुज़रने के बाद
शिव प्रताप लोधी
आपत्तियाँ फिर लग गयीं (हास्य-व्यंग्य )
आपत्तियाँ फिर लग गयीं (हास्य-व्यंग्य )
Ravi Prakash
विद्यार्थी जीवन
विद्यार्थी जीवन
Santosh kumar Miri
परम सत्य
परम सत्य
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मेरी हर आरजू में,तेरी ही ज़ुस्तज़ु है
मेरी हर आरजू में,तेरी ही ज़ुस्तज़ु है
Pramila sultan
सलामी दें तिरंगे को हमें ये जान से प्यारा
सलामी दें तिरंगे को हमें ये जान से प्यारा
आर.एस. 'प्रीतम'
दिखाओ लार मनैं मेळो, ओ मारा प्यारा बालम जी
दिखाओ लार मनैं मेळो, ओ मारा प्यारा बालम जी
gurudeenverma198
मैं जो कुछ हूँ, वही कुछ हूँ,जो जाहिर है, वो बातिल है
मैं जो कुछ हूँ, वही कुछ हूँ,जो जाहिर है, वो बातिल है
पूर्वार्थ
राम पर हाइकु
राम पर हाइकु
Sandeep Pande
कविता
कविता
Bodhisatva kastooriya
दूरी इतनी है दरमियां कि नजर नहीं आती
दूरी इतनी है दरमियां कि नजर नहीं आती
हरवंश हृदय
संदेश बिन विधा
संदेश बिन विधा
Mahender Singh
हमारे हौसले तब परास्त नहीं होते जब हम औरों की चुनौतियों से ह
हमारे हौसले तब परास्त नहीं होते जब हम औरों की चुनौतियों से ह
Sunil Maheshwari
गीता जयंती
गीता जयंती
Satish Srijan
तुम्हें तो फुर्सत मिलती ही नहीं है,
तुम्हें तो फुर्सत मिलती ही नहीं है,
Dr. Man Mohan Krishna
ईमानदारी की ज़मीन चांद है!
ईमानदारी की ज़मीन चांद है!
Dr MusafiR BaithA
2611.पूर्णिका
2611.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Republic Day
Republic Day
Tushar Jagawat
Loading...