Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Feb 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-94💐

तसल्ली की बात करना कोई उनसे सीखे,
एतिबार था तो क्यों कहा ‘एतिबार नहीं’

©®अभिषेक: पाराशरः’आनन्द’

Language: Hindi
1 Like · 57 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
हूँ   इंसा  एक   मामूली,
हूँ इंसा एक मामूली,
Satish Srijan
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
श्रोता के जूते
श्रोता के जूते
नन्दलाल सिंह 'कांतिपति'
सच में कितना प्यारा था, मेरे नानी का घर...
सच में कितना प्यारा था, मेरे नानी का घर...
Anand Kumar
सामने मेहबूब हो और हम अपनी हद में रहे,
सामने मेहबूब हो और हम अपनी हद में रहे,
Vishal babu (vishu)
स्वातंत्र्य का अमृत महोत्सव
स्वातंत्र्य का अमृत महोत्सव
surenderpal vaidya
रस्सी जैसी जिंदगी हैं,
रस्सी जैसी जिंदगी हैं,
Jay Dewangan
रजनी कजरारी
रजनी कजरारी
Dr Meenu Poonia
***
*** " बसंती-क़हर और मेरे सांवरे सजन......! " ***
VEDANTA PATEL
"कथरी"
Dr. Kishan tandon kranti
"म्हारी छोरियां छोरों से कम हैं के"
Abdul Raqueeb Nomani
शान्त हृदय से खींचिए,
शान्त हृदय से खींचिए,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आत्म संयम दृढ़ रखों, बीजक क्रीड़ा आधार में।
आत्म संयम दृढ़ रखों, बीजक क्रीड़ा आधार में।
Er.Navaneet R Shandily
कस्ती धीरे-धीरे चल रही है
कस्ती धीरे-धीरे चल रही है
कवि दीपक बवेजा
ठंडी क्या आफत है भाई
ठंडी क्या आफत है भाई
AJAY AMITABH SUMAN
एक अबोध बालक
एक अबोध बालक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कठिन परिश्रम साध्य है, यही हर्ष आधार।
कठिन परिश्रम साध्य है, यही हर्ष आधार।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
*भगवान के नाम पर*
*भगवान के नाम पर*
Dushyant Kumar
खुद के प्रति प्रतिबद्धता
खुद के प्रति प्रतिबद्धता
लक्ष्मी सिंह
दोष उनका कहां जो पढ़े कुछ नहीं,
दोष उनका कहां जो पढ़े कुछ नहीं,
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
*कोयल की कूक (बाल कविता)*
*कोयल की कूक (बाल कविता)*
Ravi Prakash
ओ चाँद गगन के....
ओ चाँद गगन के....
डॉ.सीमा अग्रवाल
शौक़ इनका भी
शौक़ इनका भी
Dr fauzia Naseem shad
💐प्रेम कौतुक-540💐
💐प्रेम कौतुक-540💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
रामचरितमानस (मुक्तक)
रामचरितमानस (मुक्तक)
नीरज कुमार ' सरल'
ऐ वसुत्व अर्ज किया है....
ऐ वसुत्व अर्ज किया है....
प्रेमदास वसु सुरेखा
कविता
कविता
Shyam Pandey
आप देखिएगा...
आप देखिएगा...
*Author प्रणय प्रभात*
वो एक ही शख्स दिल से उतरता नहीं
वो एक ही शख्स दिल से उतरता नहीं
श्याम सिंह बिष्ट
महंगाई
महंगाई
Surinder blackpen
Loading...