Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Apr 2023 · 1 min read

“तवा”

“तवा”
प्रकृति के आरम्भ से ही
तवा गर्म होता आया है,
अपने आकर्षण से
चूल्हों को जलाया है।
गर्म तवे की सनद
मन को सुकून दे जाती है,
अगली सुबह उठने के लिए
निंदिया को बुलाती है।

4 Likes · 2 Comments · 367 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
पन्नें
पन्नें
Abhinay Krishna Prajapati-.-(kavyash)
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
!! बोलो कौन !!
!! बोलो कौन !!
Chunnu Lal Gupta
*परसों बचपन कल यौवन था, आज बुढ़ापा छाया (हिंदी गजल)*
*परसों बचपन कल यौवन था, आज बुढ़ापा छाया (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
2837. *पूर्णिका*
2837. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
माँ भारती वंदन
माँ भारती वंदन
Kanchan Khanna
हम तुम
हम तुम
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
चाहत ए मोहब्बत में हम सभी मिलते हैं।
चाहत ए मोहब्बत में हम सभी मिलते हैं।
Neeraj Agarwal
ईश्वर से बात
ईश्वर से बात
Rakesh Bahanwal
*साहित्यिक बाज़ार*
*साहित्यिक बाज़ार*
Lokesh Singh
जेल जाने का संकट टले,
जेल जाने का संकट टले,
*प्रणय प्रभात*
"धीरे-धीरे"
Dr. Kishan tandon kranti
गोलियों की चल रही बौछार देखो।
गोलियों की चल रही बौछार देखो।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
दिल होता .ना दिल रोता
दिल होता .ना दिल रोता
Vishal Prajapati
*बांहों की हिरासत का हकदार है समझा*
*बांहों की हिरासत का हकदार है समझा*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Insaan badal jata hai
Insaan badal jata hai
Aisha Mohan
"" *प्रताप* ""
सुनीलानंद महंत
नेता अफ़सर बाबुओं,
नेता अफ़सर बाबुओं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दुआ को असर चाहिए।
दुआ को असर चाहिए।
Taj Mohammad
आवाजें
आवाजें
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
जीत से बातचीत
जीत से बातचीत
Sandeep Pande
*चिड़ियों को जल दाना डाल रहा है वो*
*चिड़ियों को जल दाना डाल रहा है वो*
sudhir kumar
यादों को दिल से मिटाने लगा है वो आजकल
यादों को दिल से मिटाने लगा है वो आजकल
कृष्णकांत गुर्जर
मैं गीत हूं ग़ज़ल हो तुम न कोई भूल पाएगा।
मैं गीत हूं ग़ज़ल हो तुम न कोई भूल पाएगा।
सत्य कुमार प्रेमी
खैर जाने दो छोड़ो ज़िक्र मौहब्बत का,
खैर जाने दो छोड़ो ज़िक्र मौहब्बत का,
शेखर सिंह
* बताएं किस तरह तुमको *
* बताएं किस तरह तुमको *
surenderpal vaidya
ग़ज़ल/नज़्म: सोचता हूँ कि आग की तरहाँ खबर फ़ैलाई जाए
ग़ज़ल/नज़्म: सोचता हूँ कि आग की तरहाँ खबर फ़ैलाई जाए
अनिल कुमार
जो सरकार धर्म और जाति को लेकर बनी हो मंदिर और मस्जिद की बात
जो सरकार धर्म और जाति को लेकर बनी हो मंदिर और मस्जिद की बात
Jogendar singh
*Loving Beyond Religion*
*Loving Beyond Religion*
Poonam Matia
(23) कुछ नीति वचन
(23) कुछ नीति वचन
Kishore Nigam
Loading...