Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Mar 2023 · 1 min read

“तब कैसा लगा होगा?”

“तब कैसा लगा होगा?”
जब पहली बार
मानव को मिली होगी आग
कानों ने सुना होगा राग
जला होगा झोपड़ी में चिराग
दिल ने किया होगा अहसास
हुआ होगा किसी से प्यार
देखा होगा सपनों का संसार
बसा होगा उसका घर-बार
किया होगा किसी का इन्तजार

15 Likes · 7 Comments · 489 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
तन तो केवल एक है,
तन तो केवल एक है,
sushil sarna
किसी भी व्यक्ति के अंदर वैसे ही प्रतिभाओं का जन्म होता है जै
किसी भी व्यक्ति के अंदर वैसे ही प्रतिभाओं का जन्म होता है जै
Rj Anand Prajapati
खाक मुझको भी होना है
खाक मुझको भी होना है
VINOD CHAUHAN
चंद्र शीतल आ गया बिखरी गगन में चाँदनी।
चंद्र शीतल आ गया बिखरी गगन में चाँदनी।
लक्ष्मी सिंह
अपने कदमों को
अपने कदमों को
SHAMA PARVEEN
अच्छी यादें सम्भाल कर रखा कीजिए
अच्छी यादें सम्भाल कर रखा कीजिए
नूरफातिमा खातून नूरी
ग़ज़ल कहूँ तो मैं ‘असद’, मुझमे बसते ‘मीर’
ग़ज़ल कहूँ तो मैं ‘असद’, मुझमे बसते ‘मीर’
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
खुद को जानने में और दूसरों को समझने में मेरी खूबसूरत जीवन मे
खुद को जानने में और दूसरों को समझने में मेरी खूबसूरत जीवन मे
Ranjeet kumar patre
3512.🌷 *पूर्णिका* 🌷
3512.🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
भगवान भी शर्मिन्दा है
भगवान भी शर्मिन्दा है
Juhi Grover
"दो नावों पर"
Dr. Kishan tandon kranti
मां है अमर कहानी
मां है अमर कहानी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पेंशन
पेंशन
Sanjay ' शून्य'
मेरा केवि मेरा गर्व 🇳🇪 .
मेरा केवि मेरा गर्व 🇳🇪 .
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
यादों के गुलाब
यादों के गुलाब
Neeraj Agarwal
सारे रिश्तों से
सारे रिश्तों से
Dr fauzia Naseem shad
*श्री हनुमंत चरित्र (कुंडलिया)*
*श्री हनुमंत चरित्र (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
अपना पराया
अपना पराया
Dr. Pradeep Kumar Sharma
पवित्र होली का पर्व अपने अद्भुत रंगों से
पवित्र होली का पर्व अपने अद्भुत रंगों से
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
.
.
Ragini Kumari
कभी कभी मौन रहने के लिए भी कम संघर्ष नहीं करना पड़ता है।
कभी कभी मौन रहने के लिए भी कम संघर्ष नहीं करना पड़ता है।
Paras Nath Jha
मेरा तोता
मेरा तोता
Kanchan Khanna
न रोजी न रोटी, हैं जीने के लाले।
न रोजी न रोटी, हैं जीने के लाले।
सत्य कुमार प्रेमी
किताब-ए-जीस्त के पन्ने
किताब-ए-जीस्त के पन्ने
Neelam Sharma
किस्मत का लिखा होता है किसी से इत्तेफाकन मिलना या किसी से अच
किस्मत का लिखा होता है किसी से इत्तेफाकन मिलना या किसी से अच
पूर्वार्थ
भाषा
भाषा
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
जरूरत के हिसाब से सारे मानक बदल गए
जरूरत के हिसाब से सारे मानक बदल गए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
अधूरी
अधूरी
Naushaba Suriya
*किस्मत में यार नहीं होता*
*किस्मत में यार नहीं होता*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
🥀 #गुरु_चरणों_की_धूल 🥀
🥀 #गुरु_चरणों_की_धूल 🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
Loading...