Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jul 2023 · 1 min read

डर का घर / MUSAFIR BAITHA

डर का घर

जिसे तुम कहते हो देवालय
वह है फकत
स्वार्थ और लोभ के गारे मिट्टी से बना
डर का घर।

Language: Hindi
146 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr MusafiR BaithA
View all
You may also like:
न्याय तो वो होता
न्याय तो वो होता
Mahender Singh
साक्षात्कार एक स्वास्थ्य मंत्री से [ व्यंग्य ]
साक्षात्कार एक स्वास्थ्य मंत्री से [ व्यंग्य ]
कवि रमेशराज
ज़ख्म दिल में छुपा रखा है
ज़ख्म दिल में छुपा रखा है
Surinder blackpen
“ज़िंदगी अगर किताब होती”
“ज़िंदगी अगर किताब होती”
पंकज कुमार कर्ण
केवल
केवल
Shweta Soni
अलविदा ज़िंदगी से
अलविदा ज़िंदगी से
Dr fauzia Naseem shad
जीवन के आधार पिता
जीवन के आधार पिता
Kavita Chouhan
बदनाम ये आवारा जबीं हमसे हुई है
बदनाम ये आवारा जबीं हमसे हुई है
Sarfaraz Ahmed Aasee
हमसे बात ना करो।
हमसे बात ना करो।
Taj Mohammad
23/202. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/202. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
इश्क में हमको नहीं, वो रास आते हैं।
इश्क में हमको नहीं, वो रास आते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
राहें भी होगी यूं ही,
राहें भी होगी यूं ही,
Satish Srijan
पूछूँगा मैं राम से,
पूछूँगा मैं राम से,
sushil sarna
सेंसेक्स छुए नव शिखर,
सेंसेक्स छुए नव शिखर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
प्यार में
प्यार में
श्याम सिंह बिष्ट
"सिलसिला"
Dr. Kishan tandon kranti
Dont judge by
Dont judge by
Vandana maurya
* याद कर लें *
* याद कर लें *
surenderpal vaidya
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
गाओ शुभ मंगल गीत
गाओ शुभ मंगल गीत
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
पहला श्लोक ( भगवत गीता )
पहला श्लोक ( भगवत गीता )
Bhupendra Rawat
नश्वर है मनुज फिर
नश्वर है मनुज फिर
Abhishek Kumar
*चार दिन को ही मिली है, यह गली यह घर शहर (वैराग्य गीत)*
*चार दिन को ही मिली है, यह गली यह घर शहर (वैराग्य गीत)*
Ravi Prakash
"We are a generation where alcohol is turned into cold drink
पूर्वार्थ
औरत की हँसी
औरत की हँसी
Dr MusafiR BaithA
बिन शादी के रह कर, संत-फकीरा कहा सुखी हो पायें।
बिन शादी के रह कर, संत-फकीरा कहा सुखी हो पायें।
Anil chobisa
मौत के लिए किसी खंज़र की जरूरत नहीं,
मौत के लिए किसी खंज़र की जरूरत नहीं,
लक्ष्मी सिंह
कान्हा प्रीति बँध चली,
कान्हा प्रीति बँध चली,
Neelam Sharma
"कुछ पन्नों में तुम हो ये सच है फिर भी।
*Author प्रणय प्रभात*
दोगलापन
दोगलापन
Mamta Singh Devaa
Loading...