Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 May 2023 · 1 min read

डरने कि क्या बात

पुकारता कोई दिल की आवाज है
दोस्ती दुश्मनी दोनों ही जज्बात
डरने की क्या बात।।

मौत तो सच्चाई एक दिन जरूर
गले लगाएगी मौत की आहट लम्हा
लम्हा डरने की क्या बात।।

कली फूल की जिंदगी दुनियां के
जर्रे में मिलने के लिये ही फिर
अंजाम से अंजान रातभर आँसू
बहाने की क्या बात।।

बागवान ही बांगवा बसाता
उजाड़ता यकीन यही जिंदगी
विखरने की क्या बात।।

बांगवान जालिम नही होते
खुदा की रहमत के फरिश्ते जहाँ में अपने जज्बे जज्बात बोते भयानक जालिम की क्या बात।।

फकीरा का अंजाम क्या
फकीरा तो जहां में खुदा की
इनायत का इनाम दरिंदो से
डरने की क्या बात।।

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 224 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
View all
You may also like:
लड़कियां जिसका भविष्य बना होता है उन्हीं के साथ अपना रिश्ता
लड़कियां जिसका भविष्य बना होता है उन्हीं के साथ अपना रिश्ता
Rj Anand Prajapati
परिश्रम
परिश्रम
Neeraj Agarwal
साक्षात्कार एक स्वास्थ्य मंत्री से [ व्यंग्य ]
साक्षात्कार एक स्वास्थ्य मंत्री से [ व्यंग्य ]
कवि रमेशराज
सारी व्यंजन-पिटारी धरी रह गई (हिंदी गजल/गीतिका)
सारी व्यंजन-पिटारी धरी रह गई (हिंदी गजल/गीतिका)
Ravi Prakash
हर कभी ना माने
हर कभी ना माने
Dinesh Gupta
🙅क्षणिका🙅
🙅क्षणिका🙅
*Author प्रणय प्रभात*
"मायने"
Dr. Kishan tandon kranti
खुशी पाने का जरिया दौलत हो नहीं सकता
खुशी पाने का जरिया दौलत हो नहीं सकता
नूरफातिमा खातून नूरी
पर्यावरण है तो सब है
पर्यावरण है तो सब है
Amrit Lal
*वो नीला सितारा* ( 14 of 25 )
*वो नीला सितारा* ( 14 of 25 )
Kshma Urmila
मरने वालों का तो करते है सब ही खयाल
मरने वालों का तो करते है सब ही खयाल
shabina. Naaz
सत्यं शिवम सुंदरम!!
सत्यं शिवम सुंदरम!!
ओनिका सेतिया 'अनु '
वक्त वक्त की बात है आज आपका है,तो कल हमारा होगा।
वक्त वक्त की बात है आज आपका है,तो कल हमारा होगा।
पूर्वार्थ
गोलियों की चल रही बौछार देखो।
गोलियों की चल रही बौछार देखो।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
बच्चे बूढ़े और जवानों में
बच्चे बूढ़े और जवानों में
विशाल शुक्ल
कृष्ण सुदामा मित्रता,
कृष्ण सुदामा मित्रता,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
यदि कोई अपनी इच्छाओं और आवश्यकताओं से मुक्त हो तो वह मोक्ष औ
यदि कोई अपनी इच्छाओं और आवश्यकताओं से मुक्त हो तो वह मोक्ष औ
Ms.Ankit Halke jha
सम्भाला था
सम्भाला था
भरत कुमार सोलंकी
किसका  हम शुक्रिया करें,
किसका हम शुक्रिया करें,
sushil sarna
हुआ क्या तोड़ आयी प्रीत को जो  एक  है  नारी
हुआ क्या तोड़ आयी प्रीत को जो एक है नारी
Anil Mishra Prahari
मुक़्तज़ा-ए-फ़ितरत
मुक़्तज़ा-ए-फ़ितरत
Shyam Sundar Subramanian
कान खोलकर सुन लो
कान खोलकर सुन लो
Shekhar Chandra Mitra
तो क्या हुआ
तो क्या हुआ
Sûrëkhâ Rãthí
हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
Dr Archana Gupta
रिश्तों में...
रिश्तों में...
Shubham Pandey (S P)
हमारे जैसी दुनिया
हमारे जैसी दुनिया
Sangeeta Beniwal
मुझे पतझड़ों की कहानियाँ,
मुझे पतझड़ों की कहानियाँ,
Dr Tabassum Jahan
दुर्भाग्य का सामना
दुर्भाग्य का सामना
Paras Nath Jha
सफर या रास्ता
सफर या रास्ता
Manju Singh
सामाजिकता
सामाजिकता
Punam Pande
Loading...