Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jul 2023 · 2 min read

ठहर जा, एक पल ठहर, उठ नहीं अपघात कर।

ठहर जा एक पल ठहर,उठ नहीं अवसाद कर
नहीं अनमोल तन गंवा,उठ नहीं अपघात कर
श्रेष्ठ तन मानव का जीवन, व्यर्थ न वरबाद कर
जिसने दिया है जीवन,उस पर जरा विश्वास कर
अनमोल है उपहार उसका,तन का नहीं उपहास कर
आत्म हत्या करने से पहले,दिल में जरा विचार कर
फिर नई होगी सुबह, फिर बहारें आएंगी
आज दुख है, क्या हुआ, खुशियां भी कल तो आएंगी
दुख से अब बाहर निकल, कर्म पर विश्वास कर
ठहर जा एक पल ठहर,उठ नहीं अपघात कर
न बंद होते रास्ते, रूकता नहीं कोई काम है
जन्म से मृत्यु तक, मनुज जीवन तो एक संग्राम है
आखरी दम तक है लड़ना,उसी का पैगाम है
सोच ले मरने से पहले, ईश्वर का दिल में ध्यान कर
क्या उचित है ये कदम ,खुद तो जरा विचार कर
ठहर जा एक पल ठहर, उठ नहीं अपघात कर
छोड़ चिंता और निराशा, उठ आशा के दीप जला
कभी तो होगी सुबह, कमी तो होगा भला
ठहर जा एक पल ठहर जा,खुद में जरा विश्राम कर
जिंदगी दी है उसी ने, उठ उसी के नाम कर
ठहर जा एक पल ठहर,ये पल उसी के नाम कर
बंद कर आंखों की अपनी, सद्बुद्धि की अरदास कर
ठहर जा एक पल ठहर, उठ नहीं अपघात कर

मन चाहा नहीं होने से आजकल हर आयु वर्ग में आत्महत्या की प्रवृत्ति देखी जा रही है। अवसाद निराशा अज्ञान क़ोध द्वेष इत्यादि आवेश में, ऐसे विचार आते हैं, जिन्हें अपने आपको हृदय में विचार करना चाहिए। ईश्वर अवश्य ही सही रास्ता बता बहुमूल्य मनुष्य जीवन बचा अपघात का विचार मिटा देंगे और
ऐसे खतरनाक विचार समय के साथ टल जाएंगे।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी

Language: Hindi
3 Likes · 4 Comments · 160 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेश कुमार चतुर्वेदी
View all
You may also like:
प्रेम पल्लवन
प्रेम पल्लवन
Er.Navaneet R Shandily
*पुण्य कमाए तब मिले, पावन पिता महान (कुंडलिया)*
*पुण्य कमाए तब मिले, पावन पिता महान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
GOOD EVENING....…
GOOD EVENING....…
Neeraj Agarwal
वैश्विक जलवायु परिवर्तन और मानव जीवन पर इसका प्रभाव
वैश्विक जलवायु परिवर्तन और मानव जीवन पर इसका प्रभाव
Shyam Sundar Subramanian
बदतमीज
बदतमीज
DR ARUN KUMAR SHASTRI
नशा
नशा
Mamta Rani
मोहब्बत के शरबत के रंग को देख कर
मोहब्बत के शरबत के रंग को देख कर
Shakil Alam
👉अगर तुम घन्टो तक उसकी ब्रेकअप स्टोरी बिना बोर हुए सुन लेते
👉अगर तुम घन्टो तक उसकी ब्रेकअप स्टोरी बिना बोर हुए सुन लेते
पूर्वार्थ
सारथी
सारथी
लक्ष्मी सिंह
'सवालात' ग़ज़ल
'सवालात' ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
20-- 🌸बहुत सहा 🌸
20-- 🌸बहुत सहा 🌸
Mahima shukla
बुंदेली लघुकथा - कछु तुम समजे, कछु हम
बुंदेली लघुकथा - कछु तुम समजे, कछु हम
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
अब कहाँ मौत से मैं डरता हूँ
अब कहाँ मौत से मैं डरता हूँ
प्रीतम श्रावस्तवी
झुकता आसमां
झुकता आसमां
शेखर सिंह
****अपने स्वास्थ्य से प्यार करें ****
****अपने स्वास्थ्य से प्यार करें ****
Kavita Chouhan
Forgive everyone 🙂
Forgive everyone 🙂
Vandana maurya
■उलाहना■
■उलाहना■
*Author प्रणय प्रभात*
आंसूओं की नहीं
आंसूओं की नहीं
Dr fauzia Naseem shad
साहित्यकार ओमप्रकाश वाल्मीकि का रचना संसार।
साहित्यकार ओमप्रकाश वाल्मीकि का रचना संसार।
Dr. Narendra Valmiki
हैप्पी न्यू ईयर 2024
हैप्पी न्यू ईयर 2024
Shivkumar Bilagrami
धृतराष्ट्र की आत्मा
धृतराष्ट्र की आत्मा
ओनिका सेतिया 'अनु '
तन्हा हूं,मुझे तन्हा रहने दो
तन्हा हूं,मुझे तन्हा रहने दो
Ram Krishan Rastogi
कल रहूॅं-ना रहूॅं...
कल रहूॅं-ना रहूॅं...
पंकज कुमार कर्ण
कोई चाहे कितने भी,
कोई चाहे कितने भी,
नेताम आर सी
विषम परिस्थितियों से डरना नहीं,
विषम परिस्थितियों से डरना नहीं,
Trishika S Dhara
बाल कविता : रेल
बाल कविता : रेल
Rajesh Kumar Arjun
जिंदगी को रोशन करने के लिए
जिंदगी को रोशन करने के लिए
Ragini Kumari
Motivational
Motivational
Mrinal Kumar
"विचित्रे खलु संसारे नास्ति किञ्चिन्निरर्थकम् ।
Mukul Koushik
कर्म-धर्म
कर्म-धर्म
चक्षिमा भारद्वाज"खुशी"
Loading...