Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Mar 2024 · 1 min read

ठगी

💐💐💐कुण्डलिया निवेदन💐💐💐

राजी होकर ले गया , दिया तराजू तोल ।
ठगा गया फिर से वहीं ,जिसकी मेधा गोल ।।
जिसकी मेधा गोल , रोज ही ताने खाता
अर्थ समझ न पाँय , अर्थ के अच्छे ज्ञाता
कह भूधर कविराय ,समझ कर खेलो बाजी
ठगा गया है कौन, कर गया तुझको राजी

भवानी सिंह “भूधर”
बड़नगर , जयपुर

70 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
विश्वास
विश्वास
Paras Nath Jha
समंदर
समंदर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
23/175.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/175.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
राणा सा इस देश में, हुआ न कोई वीर
राणा सा इस देश में, हुआ न कोई वीर
Dr Archana Gupta
■ लीजिए संकल्प...
■ लीजिए संकल्प...
*प्रणय प्रभात*
अंधकार जितना अधिक होगा प्रकाश का प्रभाव भी उसमें उतना गहरा औ
अंधकार जितना अधिक होगा प्रकाश का प्रभाव भी उसमें उतना गहरा औ
Rj Anand Prajapati
कोलाहल
कोलाहल
Bodhisatva kastooriya
रैन  स्वप्न  की  उर्वशी, मौन  प्रणय की प्यास ।
रैन स्वप्न की उर्वशी, मौन प्रणय की प्यास ।
sushil sarna
कभी कभी आईना भी,
कभी कभी आईना भी,
शेखर सिंह
*वे ही सिर्फ महान : पाँच दोहे*
*वे ही सिर्फ महान : पाँच दोहे*
Ravi Prakash
पितृपक्ष
पितृपक्ष
Neeraj Agarwal
सुबुधि -ज्ञान हीर कर
सुबुधि -ज्ञान हीर कर
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कितना दर्द सिमट कर।
कितना दर्द सिमट कर।
Taj Mohammad
बनाकर रास्ता दुनिया से जाने को क्या है
बनाकर रास्ता दुनिया से जाने को क्या है
कवि दीपक बवेजा
इन आँखों में इतनी सी नमी रह गई।
इन आँखों में इतनी सी नमी रह गई।
लक्ष्मी सिंह
दोहे
दोहे
अनिल कुमार निश्छल
गुड़िया
गुड़िया
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सर्वोपरि है राष्ट्र
सर्वोपरि है राष्ट्र
Dr. Harvinder Singh Bakshi
जीने का एक अच्छा सा जज़्बा मिला मुझे
जीने का एक अच्छा सा जज़्बा मिला मुझे
अंसार एटवी
"तकरार"
Dr. Kishan tandon kranti
किसी विशेष व्यक्ति के पिछलगगु बनने से अच्छा है आप खुद विशेष
किसी विशेष व्यक्ति के पिछलगगु बनने से अच्छा है आप खुद विशेष
Vivek Ahuja
अंतरराष्ट्रीय वृद्ध दिवस पर
अंतरराष्ट्रीय वृद्ध दिवस पर
सत्य कुमार प्रेमी
Prastya...💐
Prastya...💐
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
सत्य की खोज अधूरी है
सत्य की खोज अधूरी है
VINOD CHAUHAN
नन्हे-मुन्ने हाथों में, कागज की नाव ही बचपन था ।
नन्हे-मुन्ने हाथों में, कागज की नाव ही बचपन था ।
Rituraj shivem verma
विचारों का शून्य होना ही शांत होने का आसान तरीका है
विचारों का शून्य होना ही शांत होने का आसान तरीका है
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
काल भैरव की उत्पत्ति के पीछे एक पौराणिक कथा भी मिलती है. कहा
काल भैरव की उत्पत्ति के पीछे एक पौराणिक कथा भी मिलती है. कहा
Shashi kala vyas
जुदाई
जुदाई
Davina Amar Thakral
जब उम्र कुछ कर गुजरने की होती है
जब उम्र कुछ कर गुजरने की होती है
Harminder Kaur
अंदाज़े बयाँ
अंदाज़े बयाँ
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...