Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jan 2024 · 1 min read

ठंडक

ठंडक भी सौतन हुई,
खुल कर करती वार।
इक तो कांपे तन घना,
दूजा वह उस पार।

Language: Hindi
108 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
किसी की छोटी-छोटी बातों को भी,
किसी की छोटी-छोटी बातों को भी,
नेताम आर सी
बलराम विवाह
बलराम विवाह
Rekha Drolia
लालच
लालच
Vandna thakur
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
मंज़र
मंज़र
अखिलेश 'अखिल'
तुम आंखें बंद कर लेना....!
तुम आंखें बंद कर लेना....!
VEDANTA PATEL
Everything happens for a reason. There are no coincidences.
Everything happens for a reason. There are no coincidences.
पूर्वार्थ
■ देसी ग़ज़ल
■ देसी ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
ମଣିଷ ଠାରୁ ଅଧିକ
ମଣିଷ ଠାରୁ ଅଧିକ
Otteri Selvakumar
नई रीत विदाई की
नई रीत विदाई की
विजय कुमार अग्रवाल
सुंदरता विचारों में सफर करती है,
सुंदरता विचारों में सफर करती है,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
सावन के झूलें कहे, मन है बड़ा उदास ।
सावन के झूलें कहे, मन है बड़ा उदास ।
रेखा कापसे
****** धनतेरस लक्ष्मी का उपहार ******
****** धनतेरस लक्ष्मी का उपहार ******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मुश्किलों में उम्मीद यूँ मुस्कराती है
मुश्किलों में उम्मीद यूँ मुस्कराती है
VINOD CHAUHAN
*जातिवाद का खण्डन*
*जातिवाद का खण्डन*
Dushyant Kumar
*मंज़िल पथिक और माध्यम*
*मंज़िल पथिक और माध्यम*
Lokesh Singh
अर्थ शब्दों के. (कविता)
अर्थ शब्दों के. (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
दुमका संस्मरण 2 ( सिनेमा हॉल )
दुमका संस्मरण 2 ( सिनेमा हॉल )
DrLakshman Jha Parimal
लम्हा-लम्हा
लम्हा-लम्हा
Surinder blackpen
वृद्धों को मिलता नहीं,
वृद्धों को मिलता नहीं,
sushil sarna
नहीं आया कोई काम मेरे
नहीं आया कोई काम मेरे
gurudeenverma198
प्रार्थना
प्रार्थना
Shally Vij
प्रभु भक्ति में सदा डूबे रहिए
प्रभु भक्ति में सदा डूबे रहिए
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
डीजल पेट्रोल का महत्व
डीजल पेट्रोल का महत्व
Satish Srijan
2712.*पूर्णिका*
2712.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
परिंदा हूं आसमां का
परिंदा हूं आसमां का
Praveen Sain
💐प्रेम कौतुक-549💐
💐प्रेम कौतुक-549💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बेशक ! बसंत आने की, खुशी मनाया जाए
बेशक ! बसंत आने की, खुशी मनाया जाए
Keshav kishor Kumar
वाणी का माधुर्य और मर्यादा
वाणी का माधुर्य और मर्यादा
Paras Nath Jha
ग़ज़ल/नज़्म - फितरत-ए-इंसा...आज़ कोई सामान बिक गया नाम बन के
ग़ज़ल/नज़्म - फितरत-ए-इंसा...आज़ कोई सामान बिक गया नाम बन के
अनिल कुमार
Loading...