Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Apr 2024 · 2 min read

झील बनो

एक बार की बात है। एक नवयुवक गौतम बुद्ध के पास पहुँचा और बोला- “महात्मा जी, मैं अपनी जिन्दगी से बहुत परेशान हूँ। कृपया इस परेशानी से निकलने का उपाय बताएँ?”

तथागत बुद्ध बोले- “पानी के गिलास में एक मुट्ठी नमक डालो, फिर घोलकर पी जाओ।” युवक ने ऐसा ही किया।

बुद्ध ने पूछा- “आपको इसका स्वाद कैसा लगा?”

“बहुत ही खराब, एकदम खारा।”- वह युवक थूंकते हुए बोला।

बुद्ध मुस्कुराते हुए बोले- “एक बार फिर अपने हाथ में एक मुट्ठी नमक लो और मेरे पीछे-पीछे आओ।” युवक ने ऐसा ही किया। दोनों धीरे-धीरे आगे बढ़ने लगे। थोड़ी दूर जाकर स्वच्छ पानी से बनी एक झील के सामने रुक गए। बुद्ध ने निर्देश दिया- “चलो, अब उस नमक को झील के पानी में डालो।” युवक ने वैसा ही किया।

बुद्ध बोले- “अब इस झील का पानी पियो।” युवक पानी पीने लगा। बुद्ध ने फिर पूछा- “बताओ, इसका स्वाद कैसा है? क्या अभी भी तुम्हें ये खारा लग रहा है?” युवक ने जवाब दिया- “नहीं, ये तो बहुत मीठा है, अच्छा है।”

तथागत बुद्ध उस युवक के बगल में बैठ गए और उसका हाथ थामते हुए बोले- “जीवन के दुःख बिल्कुल नमक की तरह है। न इससे कम, न इससे ज्यादा। जीवन में दुःख की मात्रा वही रहती है, लेकिन हम दुःख का स्वाद कितना लेते हैं, यह इस पर निर्भर करता है कि हम उसे किस पात्र में डाल रहे हैं- गिलास में या झील में? इसलिए तुम जब भी दुःखी होना तो खुद को बड़ा कर लेना। गिलास मत बनना, बस झील बन जाना।

(मेरी प्रकाशित 45 वीं कृति-
‘दहलीज़’- लघुकथा-संग्रह “दलहा भाग-7” से…)

डॉ. किशन टण्डन क्रान्ति
साहित्य वाचस्पति
भारत भूषण सम्मान प्राप्त।

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 46 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
*माता (कुंडलिया)*
*माता (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
बेवफाई करके भी वह वफा की उम्मीद करते हैं
बेवफाई करके भी वह वफा की उम्मीद करते हैं
Anand Kumar
प्यार का यह सिलसिला चलता रहे।
प्यार का यह सिलसिला चलता रहे।
surenderpal vaidya
न जाने कहा‌ँ दोस्तों की महफीले‌ं खो गई ।
न जाने कहा‌ँ दोस्तों की महफीले‌ं खो गई ।
Yogendra Chaturwedi
■ आज का शेर...
■ आज का शेर...
*प्रणय प्रभात*
समाज और सोच
समाज और सोच
Adha Deshwal
मैं भी साथ चला करता था
मैं भी साथ चला करता था
VINOD CHAUHAN
फितरत जग में एक आईना🔥🌿🙏
फितरत जग में एक आईना🔥🌿🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
नींद ( 4 of 25)
नींद ( 4 of 25)
Kshma Urmila
🤔कौन हो तुम.....🤔
🤔कौन हो तुम.....🤔
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
मैंने इन आंखों से ज़माने को संभालते देखा है
मैंने इन आंखों से ज़माने को संभालते देखा है
Phool gufran
आज मंगलवार, 05 दिसम्बर 2023  मार्गशीर्ष कृष्णपक्ष की अष्टमी
आज मंगलवार, 05 दिसम्बर 2023 मार्गशीर्ष कृष्णपक्ष की अष्टमी
Shashi kala vyas
मैं भी अपनी नींद लुटाऊं
मैं भी अपनी नींद लुटाऊं
करन ''केसरा''
महकती रात सी है जिंदगी आंखों में निकली जाय।
महकती रात सी है जिंदगी आंखों में निकली जाय।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
वासना और करुणा
वासना और करुणा
मनोज कर्ण
हरि लापता है, ख़ुदा लापता है
हरि लापता है, ख़ुदा लापता है
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
बस माटी के लिए
बस माटी के लिए
Pratibha Pandey
हर दिल में प्यार है
हर दिल में प्यार है
Surinder blackpen
बहुत हुआ
बहुत हुआ
Mahender Singh
2324.पूर्णिका
2324.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
पाहन भी भगवान
पाहन भी भगवान
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
जरूरी नहीं ऐसा ही हो तब
जरूरी नहीं ऐसा ही हो तब
gurudeenverma198
शब्दों का गुल्लक
शब्दों का गुल्लक
Amit Pathak
माँ तेरे चरणों मे
माँ तेरे चरणों मे
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
रामकली की दिवाली
रामकली की दिवाली
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बावन यही हैं वर्ण हमारे
बावन यही हैं वर्ण हमारे
Jatashankar Prajapati
मुझे भी जीने दो (भ्रूण हत्या की कविता)
मुझे भी जीने दो (भ्रूण हत्या की कविता)
Dr. Kishan Karigar
बोलती आँखें
बोलती आँखें
Awadhesh Singh
अंदर मेरे रावण भी है, अंदर मेरे राम भी
अंदर मेरे रावण भी है, अंदर मेरे राम भी
पूर्वार्थ
अधूरी तमन्ना (कविता)
अधूरी तमन्ना (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
Loading...