Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Aug 2016 · 1 min read

झरोखा

झरोखा

जब कभी देखता हूँ यादो के झरोखो से
बहुत कुछ बिखरा हुआ नजर आता है
पीछे पड़ा हुआ है एक ढेर, टूटे हुए सपनो का
बीच में कुछ हसीं पलो का मंजर नजर आता है !!

उम्र गुजारी है सारी किन किन हालातो मैं
लेखा जोखा कुछ उलझा सा नजर आता है
फिर भी कही कुछ तो था जीवन में ऐसा सार
जिसके साये में जीवन संवरा नजर आता है !!

वैसे तो रफ़्तार बहुत तेज है साँसों की
पीछे मुड़कर देखने का वक़्त कहा आता है
कुछ कदमो के निशां फिर भी ऐसे होते है
जिनका साया साथ चलता नजर आता है !!

जीवन में ठोकरे कुछ ऐसी भी खायी हमने
जिनका जख्म अभी तक हरा नजर आता है
दोष क्या दे किसी को अपनी गलतियों का
हर तरफ ये फलसफा उसी का नजर आता है !!

हो लग्न अगर किसी को पाने की मीरा जैसी
जिनको जहर के प्याले में कृष्णा नजर आता है
झुकते है भगवान भी अपने सच्चे भक्त के आगे
यु तो हर कोई मंदिर में पूजा करता नजर आता है !!

ढूंढ़ लेते है कर्मशील समुन्द्र में भी मोती को
कर्महीन को तो हर जगह पत्थर नजर आता है
बैठा रहा जो भरोसे, किस्मत को दोष देता रहा
जीवन में “धरम” उसे कहाँ प्रकाश नजर आता है !!

********************

डी. के. निवातियाँ___________@@@

Language: Hindi
Tag: कविता
334 Views
You may also like:
मजबूर हूँ मज़दूर हूँ..
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
का हो पलटू अब आराम बा!!
Suraj kushwaha
" जीवित जानवर "
Dr Meenu Poonia
आओ दीप जलाएं
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
उफ ! ये गर्मी, हाय ! गर्मी / (गर्मी का...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कला
Saraswati Bajpai
सदियों बाद
Dr.Priya Soni Khare
Advice
Shyam Sundar Subramanian
कान्हा तोरी याद सताए
Shivkumar Bilagrami
गर्मी पर दोहे
Ram Krishan Rastogi
मेरे सपने
Anamika Singh
हरियाली और बंजर
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
नीम का छाँव लेकर
सिद्धार्थ गोरखपुरी
धैर्य कि दृष्टि धनपत राय की दृष्टि
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कलम के सिपाही
Pt. Brajesh Kumar Nayak
हादसा जब कोई
Dr fauzia Naseem shad
अख़बार में आ गएँ by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
आज काल के नेता और उनके बेटा
Harsh Richhariya
प्रेम का आँगन
मनोज कर्ण
कुछ दोहे...
डॉ.सीमा अग्रवाल
Love Heart
Buddha Prakash
इश्क के मारे है।
Taj Mohammad
आधुनिकता
पीयूष धामी
एक चतुर नार
लक्ष्मी सिंह
"लाइलाज दर्द"
DESH RAJ
*अध्यापक महोदय के ऑनलाइन स्थानांतरण हेतु प्रबंधक की अनापत्ति*
Ravi Prakash
ज़िन्दगी का रंग उतरे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
✍️करम✍️
'अशांत' शेखर
नव सूर्योदय
AMRESH KUMAR VERMA
कलयुग की माया
डी. के. निवातिया
Loading...