Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Mar 2024 · 1 min read

“ज्ञान-दीप”

“ज्ञान-दीप”
अन्धेरे अन्धेरे कहते फिरे
दिल झाँके न कोय,
ज्ञान-दीप अगर जले तो
कहीं न अन्धेरा होय।

3 Likes · 2 Comments · 55 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
सावन‌ आया
सावन‌ आया
Neeraj Agarwal
अंधा इश्क
अंधा इश्क
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
रोकोगे जो तुम...
रोकोगे जो तुम...
डॉ.सीमा अग्रवाल
ढूँढ़   रहे   शमशान  यहाँ,   मृतदेह    पड़ा    भरपूर  मुरारी
ढूँढ़ रहे शमशान यहाँ, मृतदेह पड़ा भरपूर मुरारी
संजीव शुक्ल 'सचिन'
मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Dr Archana Gupta
प्रेमचन्द के पात्र अब,
प्रेमचन्द के पात्र अब,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
तपिश धूप की तो महज पल भर की मुश्किल है साहब
तपिश धूप की तो महज पल भर की मुश्किल है साहब
Yogini kajol Pathak
मुख  से  निकली पहली भाषा हिन्दी है।
मुख से निकली पहली भाषा हिन्दी है।
सत्य कुमार प्रेमी
विधाता छंद (28 मात्रा ) मापनी युक्त मात्रिक
विधाता छंद (28 मात्रा ) मापनी युक्त मात्रिक
Subhash Singhai
आँगन पट गए (गीतिका )
आँगन पट गए (गीतिका )
Ravi Prakash
निकाल देते हैं
निकाल देते हैं
Sûrëkhâ
इंसान में नैतिकता
इंसान में नैतिकता
Dr fauzia Naseem shad
इतना बेबस हो गया हूं मैं ......
इतना बेबस हो गया हूं मैं ......
Keshav kishor Kumar
जब अपने सामने आते हैं तो
जब अपने सामने आते हैं तो
Harminder Kaur
ऐसे भी मंत्री
ऐसे भी मंत्री
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"आशा" की चौपाइयां
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
आशा
आशा
नवीन जोशी 'नवल'
ग्लोबल वार्मिंग :चिंता का विषय
ग्लोबल वार्मिंग :चिंता का विषय
कवि अनिल कुमार पँचोली
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
अब युद्ध भी मेरा, विजय भी मेरी, निर्बलताओं को जयघोष सुनाना था।
अब युद्ध भी मेरा, विजय भी मेरी, निर्बलताओं को जयघोष सुनाना था।
Manisha Manjari
साहित्य सत्य और न्याय का मार्ग प्रशस्त करता है।
साहित्य सत्य और न्याय का मार्ग प्रशस्त करता है।
पंकज कुमार कर्ण
ए जिंदगी तू सहज या दुर्गम कविता
ए जिंदगी तू सहज या दुर्गम कविता
Shyam Pandey
सत्य कभी निरभ्र नभ-सा
सत्य कभी निरभ्र नभ-सा
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
पुण्य धरा भारत माता
पुण्य धरा भारत माता
surenderpal vaidya
मातृभूमि
मातृभूमि
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
2384.पूर्णिका
2384.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
जिंदगी को बड़े फक्र से जी लिया।
जिंदगी को बड़े फक्र से जी लिया।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
ठंडक
ठंडक
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
ये मतलबी दुनिया है साहब,
ये मतलबी दुनिया है साहब,
Umender kumar
Loading...