Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Dec 2022 · 1 min read

जो व्यर्थ गया खाली खाली,अब भरने की तैयारी है

२१बीं सदी का बर्ष २२बां,सादर तुम्हें विदाई
दस्तक दे रहा बर्ष २३बां,मिलन की बेला आई
जंवा हो गई सदी, अब बचपन वीत गया है
आ गया काम का समय, अल्हड़ पन रीत गया है
जो बीत गया सो बीत गया,जो रीत गया सो रीत गया
जो गया व्यर्थ खाली खाली, भरने की तैयारी है
कुछ काम करें प्यारे प्यारे, नया कैलेंडर जारी है
नई उमंगें नई आशाएं, खेलना नई नवेली पारी है
खालीपन न हो जीवन में, खाली भरने की तैयारी है
भूल जाएं पिछले दुख सुख, पूरी नई साल तुम्हारी है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी

552 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेश कुमार चतुर्वेदी
View all
You may also like:
अहमियत 🌹🙏
अहमियत 🌹🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*लोकमैथिली_हाइकु*
*लोकमैथिली_हाइकु*
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
तुम्हें आसमान मुबारक
तुम्हें आसमान मुबारक
Shekhar Chandra Mitra
"जोड़-घटाव"
Dr. Kishan tandon kranti
बिताया कीजिए कुछ वक्त
बिताया कीजिए कुछ वक्त
पूर्वार्थ
अंतरराष्ट्रीय वृद्ध दिवस पर
अंतरराष्ट्रीय वृद्ध दिवस पर
सत्य कुमार प्रेमी
संग चले जीवन की राह पर हम
संग चले जीवन की राह पर हम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
18, गरीब कौन
18, गरीब कौन
Dr .Shweta sood 'Madhu'
चक्रवृद्धि प्यार में
चक्रवृद्धि प्यार में
Pratibha Pandey
बेचारे नेता
बेचारे नेता
गुमनाम 'बाबा'
आपसे गुफ्तगू ज़रूरी है
आपसे गुफ्तगू ज़रूरी है
Surinder blackpen
Love Night
Love Night
Bidyadhar Mantry
🙅भविष्यवाणी🙅
🙅भविष्यवाणी🙅
*प्रणय प्रभात*
* जगो उमंग में *
* जगो उमंग में *
surenderpal vaidya
" सर्कस सदाबहार "
Dr Meenu Poonia
!! सोपान !!
!! सोपान !!
Chunnu Lal Gupta
बुंदेली दोहा- पलका (पलंग)
बुंदेली दोहा- पलका (पलंग)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
एक पुरुष कभी नपुंसक नहीं होता बस उसकी सोच उसे वैसा बना देती
एक पुरुष कभी नपुंसक नहीं होता बस उसकी सोच उसे वैसा बना देती
Rj Anand Prajapati
प्रेस कांफ्रेंस
प्रेस कांफ्रेंस
Harish Chandra Pande
कँवल कहिए
कँवल कहिए
Dr. Sunita Singh
नई पीढ़ी पूछेगी, पापा ये धोती क्या होती है…
नई पीढ़ी पूछेगी, पापा ये धोती क्या होती है…
Anand Kumar
,,,,,
,,,,,
शेखर सिंह
शेर ग़ज़ल
शेर ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
क़िताबों में दफ़न है हसरत-ए-दिल के ख़्वाब मेरे,
क़िताबों में दफ़न है हसरत-ए-दिल के ख़्वाब मेरे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
आदिशक्ति वन्दन
आदिशक्ति वन्दन
Mohan Pandey
*पहले-पहल पिलाई मदिरा, हॅंसी-खेल में पीता है (हिंदी गजल)*
*पहले-पहल पिलाई मदिरा, हॅंसी-खेल में पीता है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
बाल कविता: लाल भारती माँ के हैं हम
बाल कविता: लाल भारती माँ के हैं हम
नाथ सोनांचली
With Grit in your mind
With Grit in your mind
Dhriti Mishra
राहों में उनके कांटे बिछा दिए
राहों में उनके कांटे बिछा दिए
Tushar Singh
3385⚘ *पूर्णिका* ⚘
3385⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
Loading...