Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Jan 2018 · 1 min read

जो मेरा न हुआ वो किसका होगा

ना उसका होगा ना इसका होगा,जब मेरा न हुआ तो वो किसका होगा।
बीच सफर में मेरे आया वो राही दोस्ती का तार लेकर,
जीवन की डगर में साथ चली मैं उसे बहुत सा प्यार देकर।
वादे भी किये उसने कसमें भी खाई हाथ मे मेरा हाथ लेकर,
एहसान करने लगा मुझ पर बस 2 कदम का साथ देकर।। रिश्ता टूटा तो ये जरूर है वो अपनी राह से खिसका होगा,
ना उसका होगा ना इसका होगा।जब मेरा ना हुआ तो वो किसका होगा।।
जो दिया दर्द उस रिश्ते ने, उसने मुझे जीना सिखाया।
उस बेवजह की ठोकर ने , मुझे हर रिश्ते को सीना सिखाया।
लड़ती गयी मैं हर मुश्किल से, कभी मैने मुँह भी ना छिपाया।
कभी गिरकर तो कभी संभलकर, आखिर मैंने जीकर दिखाया।
नही फर्क पड़ता अब मुझे, चाहे अब वो जिसका होगा।
ना उसका होगा ना इसका होगा, जब​ ​मेरा​ ​ना​ ​हुआ तो​ वो किसका होगा।।
“सुषमा मलिक”

Language: Hindi
6 Likes · 221 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*घड़ी दिखाई (बाल कविता)*
*घड़ी दिखाई (बाल कविता)*
Ravi Prakash
सवालात कितने हैं
सवालात कितने हैं
Dr fauzia Naseem shad
3129.*पूर्णिका*
3129.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मुक्तक
मुक्तक
गुमनाम 'बाबा'
चिराग़ ए अलादीन
चिराग़ ए अलादीन
Sandeep Pande
प्यार में आलिंगन ही आकर्षण होता हैं।
प्यार में आलिंगन ही आकर्षण होता हैं।
Neeraj Agarwal
क्यों गए थे ऐसे आतिशखाने में ,
क्यों गए थे ऐसे आतिशखाने में ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
मन बहुत चंचल हुआ करता मगर।
मन बहुत चंचल हुआ करता मगर।
surenderpal vaidya
तू है जगतजननी माँ दुर्गा
तू है जगतजननी माँ दुर्गा
gurudeenverma198
ज़रूरत
ज़रूरत
सतीश तिवारी 'सरस'
नवरात्रि के इस पवित्र त्योहार में,
नवरात्रि के इस पवित्र त्योहार में,
Sahil Ahmad
ब्यूटी विद ब्रेन
ब्यूटी विद ब्रेन
Shekhar Chandra Mitra
🙅आज का टोटका🙅
🙅आज का टोटका🙅
*प्रणय प्रभात*
आदमी के हालात कहां किसी के बस में होते हैं ।
आदमी के हालात कहां किसी के बस में होते हैं ।
sushil sarna
किसी भी व्यक्ति के अंदर वैसे ही प्रतिभाओं का जन्म होता है जै
किसी भी व्यक्ति के अंदर वैसे ही प्रतिभाओं का जन्म होता है जै
Rj Anand Prajapati
ग़ज़ल(गुलाबों से तितली करे प्यार छत पर —)————————–
ग़ज़ल(गुलाबों से तितली करे प्यार छत पर —)————————–
डॉक्टर रागिनी
विषधर
विषधर
आनन्द मिश्र
"गाँव की सड़क"
Radhakishan R. Mundhra
आंख में बेबस आंसू
आंख में बेबस आंसू
Dr. Rajeev Jain
बची रहे संवेदना...
बची रहे संवेदना...
डॉ.सीमा अग्रवाल
"आसानी से"
Dr. Kishan tandon kranti
सद् गणतंत्र सु दिवस मनाएं
सद् गणतंत्र सु दिवस मनाएं
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मुक्तक
मुक्तक
महेश चन्द्र त्रिपाठी
पहाड़ में गर्मी नहीं लगती घाम बहुत लगता है।
पहाड़ में गर्मी नहीं लगती घाम बहुत लगता है।
Brijpal Singh
मोहब्बत कि बाते
मोहब्बत कि बाते
Rituraj shivem verma
Kashtu Chand tu aur mai Sitara hota ,
Kashtu Chand tu aur mai Sitara hota ,
Sampada
हिचकी
हिचकी
Bodhisatva kastooriya
।। नीव ।।
।। नीव ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
बस फेर है नज़र का हर कली की एक अपनी ही बेकली है
बस फेर है नज़र का हर कली की एक अपनी ही बेकली है
Atul "Krishn"
।।सावन म वैशाख नजर आवत हे।।
।।सावन म वैशाख नजर आवत हे।।
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
Loading...