Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 3, 2022 · 1 min read

जून की दोपहर (कविता)

जल रही तवे सी,
जून की दोपहर,
बरस रहा हर तरफ,
मानो सूरज का कहर,
टपक रहीं माथे से,
टप -टप पसीने की बूंदे,
हुए सभी घर के कैदी,
कैसे कहीं घूमें?
आसमान को तकती नजरें,
बादल को ढूंढें,
सोच रहीं बार -बार,
होकर बेकरार,
कब आएगी बरखा रानी,
कब मिलेगा करार…???

रचनाकार :- कंचन खन्ना, कोठीवाल नगर,
मुरादाबाद, (उ०प्र०, भारत)।
सर्वाधिकार, सुरक्षित (रचनाकार)।
दिनांक :- ०७/०६/२०१६.

137 Views
You may also like:
✍️इत्तिहाद✍️
'अशांत' शेखर
तुमसे थी उम्मीद
Anamika Singh
हाइकु:(लता की यादें!)
Prabhudayal Raniwal
कुछ अल्फाज़ खरे ना उतरते हैं।
Taj Mohammad
वक्त दर्पण दिखा दे तो अच्छा ही है।
Renuka Chauhan
मेरे देश का तिरंगा
VINOD KUMAR CHAUHAN
सावन का महीना है भरतार
Ram Krishan Rastogi
श्रेय एवं प्रेय मार्ग
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*चली ससुराल जाती हैं (गीतिका)*
Ravi Prakash
बचपन
Anamika Singh
नाम लेकर भुला रहा है
Vindhya Prakash Mishra
चेहरा अश्कों से नम था
Taj Mohammad
अजी मोहब्बत है।
Taj Mohammad
लड्डू का भोग
Buddha Prakash
क्यों कहाँ चल दिये
gurudeenverma198
अगनित उरग..
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
वज्र तनु दुर्योधन
AJAY AMITABH SUMAN
मेरी जिन्दगी से।
Taj Mohammad
योग छंद विधान और विधाएँ
Subhash Singhai
विभाजन की विभीषिका
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
उपदेश
Gaurav Dehariya साहित्य गौरव
रूसवा है मुझसे जिंदगी
VINOD KUMAR CHAUHAN
गंगा माँ
Anamika Singh
कविता : व्रीड़ा
Sushila Joshi
पत्थरबाज
Gaurav Dehariya साहित्य गौरव
दिल ने किया था
Dr fauzia Naseem shad
कारे कारे बदरा जाओ साजन के पास
Ram Krishan Rastogi
✍️बुनियाद✍️
'अशांत' शेखर
उपहार
विजय कुमार अग्रवाल
चिड़ियाँ
Anamika Singh
Loading...