Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Jun 2022 · 1 min read

जून की दोपहर (कविता)

जल रही तवे सी,
जून की दोपहर,
बरस रहा हर तरफ,
मानो सूरज का कहर,
टपक रहीं माथे से,
टप -टप पसीने की बूंदे,
हुए सभी घर के कैदी,
कैसे कहीं घूमें?
आसमान को तकती नजरें,
बादल को ढूंढें,
सोच रहीं बार -बार,
होकर बेकरार,
कब आएगी बरखा रानी,
कब मिलेगा करार…???

रचनाकार :- कंचन खन्ना,
मुरादाबाद, (उ०प्र०, भारत)।
सर्वाधिकार, सुरक्षित (रचनाकार)।
दिनांक :- ०७/०६/२०१६.

Language: Hindi
664 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Kanchan Khanna
View all
You may also like:
प्रतिशोध
प्रतिशोध
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
अक्सर हम ज़िन्दगी में इसलिए भी अकेले होते हैं क्योंकि हमारी ह
अक्सर हम ज़िन्दगी में इसलिए भी अकेले होते हैं क्योंकि हमारी ह
पूर्वार्थ
चचा बैठे ट्रेन में [ व्यंग्य ]
चचा बैठे ट्रेन में [ व्यंग्य ]
कवि रमेशराज
"बच्चे "
Slok maurya "umang"
"डूबना"
Dr. Kishan tandon kranti
■ देखते रहिए- आज तक, कल तक, परसों तक और बरसों तक। 😊😊
■ देखते रहिए- आज तक, कल तक, परसों तक और बरसों तक। 😊😊
*Author प्रणय प्रभात*
जिसका समय पहलवान...
जिसका समय पहलवान...
Priya princess panwar
श्रम साधक को विश्राम नहीं
श्रम साधक को विश्राम नहीं
संजय कुमार संजू
चंदा की डोली उठी
चंदा की डोली उठी
Shekhar Chandra Mitra
सोशल मीडिया पर दूसरे के लिए लड़ने वाले एक बार ज़रूर पढ़े…
सोशल मीडिया पर दूसरे के लिए लड़ने वाले एक बार ज़रूर पढ़े…
Anand Kumar
जीना सीख लिया
जीना सीख लिया
Anju ( Ojhal )
जय माता दी
जय माता दी
Raju Gajbhiye
दर्द अपना है
दर्द अपना है
Dr fauzia Naseem shad
इत्र, चित्र, मित्र और चरित्र
इत्र, चित्र, मित्र और चरित्र
Neelam Sharma
प्रकृति एवं मानव
प्रकृति एवं मानव
नन्दलाल सुथार "राही"
मैं तूफान हूँ जिधर से गुजर जाऊँगा
मैं तूफान हूँ जिधर से गुजर जाऊँगा
VINOD CHAUHAN
Gazal
Gazal
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
23/158.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/158.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
संगठग
संगठग
Sanjay ' शून्य'
दुखता बहुत है, जब कोई छोड़ के जाता है
दुखता बहुत है, जब कोई छोड़ के जाता है
Kumar lalit
मेरा तोता
मेरा तोता
Kanchan Khanna
भारत माता
भारत माता
Seema gupta,Alwar
थम जाने दे तूफान जिंदगी के
थम जाने दे तूफान जिंदगी के
कवि दीपक बवेजा
जिंदा है धर्म स्त्री से ही
जिंदा है धर्म स्त्री से ही
श्याम सिंह बिष्ट
*हनुमान (कुंडलिया)*
*हनुमान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
बहुत कुछ बोल सकता हु,
बहुत कुछ बोल सकता हु,
Awneesh kumar
मेरी औकात के बाहर हैं सब
मेरी औकात के बाहर हैं सब
सिद्धार्थ गोरखपुरी
दौलत से सिर्फ
दौलत से सिर्फ"सुविधाएं"मिलती है
नेताम आर सी
क्या हुआ , क्या हो रहा है और क्या होगा
क्या हुआ , क्या हो रहा है और क्या होगा
कृष्ण मलिक अम्बाला
"मैं एक पिता हूँ"
Pushpraj Anant
Loading...