Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 May 2023 · 1 min read

जुबां बोल भी नहीं पाती है।

जुबां बोल भी नहीं पाती है,
और आंखें बयां कर देती है।
जरा सा एहसास भर ही तो है,
और आंखें सपने सजा देती है।
जुबां बोल भी नहीं . . . . . .
हम छुप छुप कर, देखा करते हैं।
अन्तर्द्वन्द भी, लड़ा करते हैं।
कहीं रुसवाई न हो जाए।
जग हंसाई, न हो जाए।
इसलिए तो, चुप रहते हैं।
किसी से भी न, कुछ कहते हैं।
दिल खामोश हो जाती है,
पर ये आंखें हैं, जो शोर मचा देती है।
जुबां बोल भी नहीं . . . . . .
बड़े छुपे रुस्तम हो यार,
तीर मार ही डाला।
ना नुकुर करते करते,
पूरा नस ही टटोल डाला।
उसके नाम के जिक्र से,
बिजली सी कौंध जाती है।
जवाब आ भी नहीं पाती है
पर चेहरे के भाव ही बता देती है।
जुबां बोल भी नहीं . . . . . .
तभी छन छन की आवाज,
दरवाजे पर हुई।
भरी महफिल में तन्हा आंखें,
आंखें से चार हुई।
आ &&&& प (गले में आवाज फंस गई)
यारों को देख उल्टे पांव ही
वो भाग खड़ी हुई।
फिर वहीं से बात,
बड़ी से फिर बड़ी हुई।
वो इश्क छुपा भी नहीं पाती है,
और बेशर्म रंग दुनिया को दिखा देती है।
जुबां बोल भी नहीं . . . . . .

Language: Hindi
1 Like · 263 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नेताम आर सी
View all
You may also like:
मेरा स्वर्ग
मेरा स्वर्ग
Dr.Priya Soni Khare
बुंदेली दोहा - किरा (कीड़ा लगा हुआ खराब)
बुंदेली दोहा - किरा (कीड़ा लगा हुआ खराब)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*पाओगे श्रीकृष्ण को, मोरपंख के साथ (कुंडलिया)*
*पाओगे श्रीकृष्ण को, मोरपंख के साथ (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
एक गुजारिश तुझसे है
एक गुजारिश तुझसे है
Buddha Prakash
🩸🔅🔅बिंदी🔅🔅🩸
🩸🔅🔅बिंदी🔅🔅🩸
Dr. Vaishali Verma
साहिल के समंदर दरिया मौज,
साहिल के समंदर दरिया मौज,
Sahil Ahmad
शीर्षक – मन मस्तिष्क का द्वंद
शीर्षक – मन मस्तिष्क का द्वंद
Sonam Puneet Dubey
सतयुग में राक्षक होते ते दूसरे लोक में होते थे और उनका नाम ब
सतयुग में राक्षक होते ते दूसरे लोक में होते थे और उनका नाम ब
पूर्वार्थ
#क़तआ (मुक्तक)
#क़तआ (मुक्तक)
*प्रणय प्रभात*
हर राह सफर की।
हर राह सफर की।
Taj Mohammad
आओ थोड़ा जी लेते हैं
आओ थोड़ा जी लेते हैं
Dr. Pradeep Kumar Sharma
है बुद्ध कहाँ हो लौट आओ
है बुद्ध कहाँ हो लौट आओ
VINOD CHAUHAN
माँ आज भी जिंदा हैं
माँ आज भी जिंदा हैं
Er.Navaneet R Shandily
मुद्दत से तेरे शहर में आना नहीं हुआ
मुद्दत से तेरे शहर में आना नहीं हुआ
Shweta Soni
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"रिश्ते"
Dr. Kishan tandon kranti
ज़िंदगी एक जाम है
ज़िंदगी एक जाम है
Shekhar Chandra Mitra
*बाल गीत (मेरा मन)*
*बाल गीत (मेरा मन)*
Rituraj shivem verma
अधरों को अपने
अधरों को अपने
Dr. Meenakshi Sharma
जिंदगी में अगर आपको सुकून चाहिए तो दुसरो की बातों को कभी दिल
जिंदगी में अगर आपको सुकून चाहिए तो दुसरो की बातों को कभी दिल
Ranjeet kumar patre
🙏*गुरु चरणों की धूल*🙏
🙏*गुरु चरणों की धूल*🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
#कहमुकरी
#कहमुकरी
Suryakant Dwivedi
पाती प्रभु को
पाती प्रभु को
Saraswati Bajpai
!..........!
!..........!
शेखर सिंह
सतरंगी आभा दिखे, धरती से आकाश
सतरंगी आभा दिखे, धरती से आकाश
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
वक्त का सिलसिला बना परिंदा
वक्त का सिलसिला बना परिंदा
Ravi Shukla
परमूल्यांकन की न हो
परमूल्यांकन की न हो
Dr fauzia Naseem shad
पूर्णिमा की चाँदनी.....
पूर्णिमा की चाँदनी.....
Awadhesh Kumar Singh
आखिरी ख्वाहिश
आखिरी ख्वाहिश
Surinder blackpen
3392⚘ *पूर्णिका* ⚘
3392⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
Loading...