Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Dec 2023 · 1 min read

*जुदाई न मिले किसी को*

दिल तोड़ जाएगा वो तेरा
जो तू इश्क़ करेगा किसी को
तुझसे मिलने न आएगा वो
जो तू याद करेगा किसी को

है यही रीत इस इश्क़ की
न जाने कब हो जाए किसी को
चुरा लेता है कोई दिल तेरा
पता ही नहीं चलता किसी को

फिर क्या करें, क्या न करें
यही उलझन है हर किसी को
याद आती है बस उसी की
जब इश्क़ हो जाता है किसी को

खुद में ही खो जाता है वो
जब प्यार हो जाता है किसी को
सिर्फ महबूब की चाह होती है
याद करता नहीं वो फिर किसी को

डरता है जो पानी से
तैरकर पार कर जाता है दरिया को
हो महबूब अगर सामने उसके
भूल जाता है फिर वो दुनिया को

जादू से कम नहीं है ये इश्क़
दुनिया बदल देता जब हो जाए किसी को
नीले नभ में भी हो जाती है बारिश
जब महबूब की याद आती है किसी को

पत्थर भी पिघल जाते हैं
जब इश्क़ की आग जलाती है किसी को
बिजलियां कौंधती है तन में
जब महबूबा छू देती है किसी को

हो जिसे भी इश्क़ जहां में
महबूब मिल जाए हर किसी को
है यही दुआ मेरी रब से
इश्क़ में जुदाई न मिले किसी को।

6 Likes · 3 Comments · 1437 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
View all
You may also like:
*सपनों का बादल*
*सपनों का बादल*
Poonam Matia
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
हमें याद है ९ बजे रात के बाद एस .टी .डी. बूथ का मंजर ! लम्बी
हमें याद है ९ बजे रात के बाद एस .टी .डी. बूथ का मंजर ! लम्बी
DrLakshman Jha Parimal
माँ
माँ
Raju Gajbhiye
क्रोध
क्रोध
ओंकार मिश्र
राह भटके हुए राही को, सही राह, राहगीर ही बता सकता है, राही न
राह भटके हुए राही को, सही राह, राहगीर ही बता सकता है, राही न
जय लगन कुमार हैप्पी
रिश्तों की सिलाई अगर भावनाओ से हुई हो
रिश्तों की सिलाई अगर भावनाओ से हुई हो
शेखर सिंह
"जिंदगी"
नेताम आर सी
*......इम्तहान बाकी है.....*
*......इम्तहान बाकी है.....*
Naushaba Suriya
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कौन कहता है छोटी चीजों का महत्व नहीं होता है।
कौन कहता है छोटी चीजों का महत्व नहीं होता है।
Yogendra Chaturwedi
तुम
तुम
Tarkeshwari 'sudhi'
दोहा
दोहा
sushil sarna
*रोते बूढ़े कर रहे, यौवन के दिन याद ( कुंडलिया )*
*रोते बूढ़े कर रहे, यौवन के दिन याद ( कुंडलिया )*
Ravi Prakash
आया बसन्त आनन्द भरा
आया बसन्त आनन्द भरा
Surya Barman
बरखा
बरखा
Dr. Seema Varma
तभी तो असाधारण ये कहानी होगी...!!!!!
तभी तो असाधारण ये कहानी होगी...!!!!!
Jyoti Khari
mujhe needno se jagaya tha tumne
mujhe needno se jagaya tha tumne
Anand.sharma
नफ़रतों की बर्फ़ दिल में अब पिघलनी चाहिए।
नफ़रतों की बर्फ़ दिल में अब पिघलनी चाहिए।
सत्य कुमार प्रेमी
मैं सोचता हूँ कि आखिर कौन हूँ मैं
मैं सोचता हूँ कि आखिर कौन हूँ मैं
VINOD CHAUHAN
संदेश
संदेश
Shyam Sundar Subramanian
उत्कृष्टता
उत्कृष्टता
Paras Nath Jha
साए
साए
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
रोशनी का रखना ध्यान विशेष
रोशनी का रखना ध्यान विशेष
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
बादल
बादल
लक्ष्मी सिंह
दिसम्बर माह और यह कविता...😊
दिसम्बर माह और यह कविता...😊
पूर्वार्थ
काफी ढूंढ रही थी में खुशियों को,
काफी ढूंढ रही थी में खुशियों को,
Kanchan Alok Malu
জীবন চলচ্চিত্রের একটি খালি রিল, যেখানে আমরা আমাদের ইচ্ছামত গ
জীবন চলচ্চিত্রের একটি খালি রিল, যেখানে আমরা আমাদের ইচ্ছামত গ
Sakhawat Jisan
बड़ी मुश्किल है ये ज़िंदगी
बड़ी मुश्किल है ये ज़िंदगी
Vandna Thakur
समय की नाड़ी पर
समय की नाड़ी पर
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...