Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 May 2023 · 1 min read

जीवात्मा

जो समय बिताने निकला था, उस अवधि मे स्वयं ही बीत गया
परिचर्या थी दिनचर्या जो, उस उपकरण से संगीत गया
किसी का प्रासाद माटी मे मिला, ख़्याति कही अपयश से मिली
आ प्राणी विसमरण कर सब, क्यों कष्ट दे वो जो बीत गया

व्यवस्था बनाये रखने को, बंधन कुछ क्षण का निमित्त हुआ
मधुसुधन की इस माया से कब, ह्रदय मेरा बिचलित हुआ
ज्ञात मेरे शादर्श को था, नारायण ताक रहे मुझको
कालखंड के ब्यय होने से, परमार्थ का मार्ग प्रचलित हुआ

पर इस अचला के दक्ष का क्रोध, माता प्रसूति की ममता अमृत
कर्ण व्रूशाली की त्याग की गाथा, सावित्री का पति था मृत
सबके कार्यो ने परिणाम दिये, सत्पथ पर चलने के काम दिये
ब्रम्हा की आधी आयु तलक, चित्रगुप्त ने सबको नाम दिए

अचिर है सब ये ज्ञान है सबको, फिर आँख मिचोली खुद से ही
निकट है सब मै जान चुका, स्वामी पथ मेरा प्रसस्थ करो
जीवन का कोई लक्ष्य न हो , ऐसे न हमें मदमस्त करो
संसार की सेवा सब कर पायें, स्वार्थ का प्रभाव अस्त करो

1 Like · 451 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अर्थी चली कंगाल की
अर्थी चली कंगाल की
SATPAL CHAUHAN
नंद के घर आयो लाल
नंद के घर आयो लाल
Kavita Chouhan
(22) एक आंसू , एक हँसी !
(22) एक आंसू , एक हँसी !
Kishore Nigam
“तड़कता -फड़कता AMC CENTRE LUCKNOW का रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम” (संस्मरण 1973)
“तड़कता -फड़कता AMC CENTRE LUCKNOW का रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम” (संस्मरण 1973)
DrLakshman Jha Parimal
राजनीतिक संघ और कट्टरपंथी आतंकवादी समूहों के बीच सांठगांठ: शांति और संप्रभुता पर वैश्विक प्रभाव
राजनीतिक संघ और कट्टरपंथी आतंकवादी समूहों के बीच सांठगांठ: शांति और संप्रभुता पर वैश्विक प्रभाव
Shyam Sundar Subramanian
बिछड़ कर तू भी जिंदा है
बिछड़ कर तू भी जिंदा है
डॉ. दीपक मेवाती
गुम है सरकारी बजट,
गुम है सरकारी बजट,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
इश्क़ ला हासिल का हासिल कुछ नहीं
इश्क़ ला हासिल का हासिल कुछ नहीं
shabina. Naaz
नेक मनाओ
नेक मनाओ
Ghanshyam Poddar
*पहिए हैं हम दो प्रिये ,चलते अपनी चाल (कुंडलिया)*
*पहिए हैं हम दो प्रिये ,चलते अपनी चाल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
अहंकार अभिमान रसातल की, हैं पहली सीढ़ी l
अहंकार अभिमान रसातल की, हैं पहली सीढ़ी l
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
सूर्ययान आदित्य एल 1
सूर्ययान आदित्य एल 1
Mukesh Kumar Sonkar
स्त्री चेतन
स्त्री चेतन
Astuti Kumari
विनती मेरी माँ
विनती मेरी माँ
Basant Bhagawan Roy
मिलती नहीं खुशी अब ज़माने पहले जैसे कहीं भी,
मिलती नहीं खुशी अब ज़माने पहले जैसे कहीं भी,
manjula chauhan
मेरे हिसाब से सरकार को
मेरे हिसाब से सरकार को
*Author प्रणय प्रभात*
"मेरे हमसफर"
Ekta chitrangini
कलम लिख दे।
कलम लिख दे।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जनता हर पल बेचैन
जनता हर पल बेचैन
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
*
*"घंटी"*
Shashi kala vyas
हम फर्श पर गुमान करते,
हम फर्श पर गुमान करते,
Neeraj Agarwal
बहुमत
बहुमत
मनोज कर्ण
हसदेव बचाना है
हसदेव बचाना है
Jugesh Banjare
मीठी वाणी
मीठी वाणी
Dr Parveen Thakur
ज़िंदगी आईने के
ज़िंदगी आईने के
Dr fauzia Naseem shad
प्यार नहीं तो कुछ नहीं
प्यार नहीं तो कुछ नहीं
Shekhar Chandra Mitra
शिव  से   ही   है  सृष्टि
शिव से ही है सृष्टि
Paras Nath Jha
सम्मान गुरु का कीजिए
सम्मान गुरु का कीजिए
Harminder Kaur
सीने का समंदर, अब क्या बताऊ तुम्हें
सीने का समंदर, अब क्या बताऊ तुम्हें
The_dk_poetry
💐💐नेक्स्ट जेनरेशन💐💐
💐💐नेक्स्ट जेनरेशन💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...