Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 May 2024 · 1 min read

जीवन भर मर मर जोड़ा

जीवन भर मर मर जोड़ा
और मर मर खूब कमाया
जब लिखी वसीयत अपनी
अपना ही नाम ना आया।

40 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dheerja Sharma
View all
You may also like:
तू एक फूल-सा
तू एक फूल-सा
Sunanda Chaudhary
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
सोच के दायरे
सोच के दायरे
Dr fauzia Naseem shad
रहब यदि  संग मे हमर ,सफल हम शीघ्र भ जायब !
रहब यदि संग मे हमर ,सफल हम शीघ्र भ जायब !
DrLakshman Jha Parimal
मेरा दिल अंदर तक सहम गया..!!
मेरा दिल अंदर तक सहम गया..!!
Ravi Betulwala
ଆପଣ କିଏ??
ଆପଣ କିଏ??
Otteri Selvakumar
इस जीवन का क्या है,
इस जीवन का क्या है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
एक औरत की ख्वाहिश,
एक औरत की ख्वाहिश,
Shweta Soni
बिहार क्षेत्र के प्रगतिशील कवियों में विगलित दलित व आदिवासी चेतना
बिहार क्षेत्र के प्रगतिशील कवियों में विगलित दलित व आदिवासी चेतना
Dr MusafiR BaithA
सिलवटें आखों की कहती सो नहीं पाए हैं आप ।
सिलवटें आखों की कहती सो नहीं पाए हैं आप ।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
बहुत प्यार करती है वो सबसे
बहुत प्यार करती है वो सबसे
Surinder blackpen
बहुत उपयोगी जानकारी :-
बहुत उपयोगी जानकारी :-
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
बड़े ही फक्र से बनाया है
बड़े ही फक्र से बनाया है
VINOD CHAUHAN
#शुभ_दिवस
#शुभ_दिवस
*प्रणय प्रभात*
दुश्मन कहां है?
दुश्मन कहां है?
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
वाह मेरा देश किधर जा रहा है!
वाह मेरा देश किधर जा रहा है!
कृष्ण मलिक अम्बाला
तुझे देंगे धरती मां बलिदान अपना
तुझे देंगे धरती मां बलिदान अपना
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
2709.*पूर्णिका*
2709.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
क्या हो, अगर कोई साथी न हो?
क्या हो, अगर कोई साथी न हो?
Vansh Agarwal
हर्षित आभा रंगों में समेट कर, फ़ाल्गुन लो फिर आया है,
हर्षित आभा रंगों में समेट कर, फ़ाल्गुन लो फिर आया है,
Manisha Manjari
"मानद उपाधि"
Dr. Kishan tandon kranti
*एकता (बाल कविता)*
*एकता (बाल कविता)*
Ravi Prakash
रंगों के रंगमंच पर हमें अपना बनाना हैं।
रंगों के रंगमंच पर हमें अपना बनाना हैं।
Neeraj Agarwal
* पत्ते झड़ते जा रहे *
* पत्ते झड़ते जा रहे *
surenderpal vaidya
Micro poem ...
Micro poem ...
sushil sarna
फ़ना
फ़ना
Atul "Krishn"
जय महादेव
जय महादेव
Shaily
हिचकी
हिचकी
Bodhisatva kastooriya
मुट्ठी भर आस
मुट्ठी भर आस
Kavita Chouhan
मैं उसको जब पीने लगता मेरे गम वो पी जाती है
मैं उसको जब पीने लगता मेरे गम वो पी जाती है
कवि दीपक बवेजा
Loading...