Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Apr 2024 · 1 min read

जीवन के पल दो चार

जीवन के पल दो चार,
कुछ तो हंस लेउ गुजlर!!
बाकी तो फिर रोना है,
सुबह शाम को ढोना है!!
जीवन से ना हो बेजार!
जीवन के पल दो चार!!
कभी-कभी कोई तो पूछे,
और कहो कैसे हो यार?
जीवन के पल दो चार!!
बीते दिन खेल खिलौने के!
औ सजाए स्वप्न सलौने के!!
मंजिल से अब भी बेजार!
जीवन के पल दो चार!!
बचपन,किशोर,गृहस्थ बीते!
फिर भी कुम्भ धरे है रीते!!
वानप्रस्थ मे भजन हजार!
जीवन के पल दो चार!!
सन्यास अभी भी बाकी!
न मयखाना ना साकी!!
तेरी ठठरी खडी है द्वार!
जीवन के पल दो चार!!

सर्वाधिकार सुरछित मौलिक रचना
बोधिसत्व कस्तूरिया एडवोकेट,कवि,पत्रकार
202 नीरव निकुजं फेस-2″सिकंदरा,आगरा-282007
मो:9412443093

2 Likes · 44 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Bodhisatva kastooriya
View all
You may also like:
अपने किरदार को किसी से कम आकना ठीक नहीं है .....
अपने किरदार को किसी से कम आकना ठीक नहीं है .....
कवि दीपक बवेजा
कौन यहाँ खुश रहता सबकी एक कहानी।
कौन यहाँ खुश रहता सबकी एक कहानी।
Mahendra Narayan
आड़ी तिरछी पंक्तियों को मान मिल गया,
आड़ी तिरछी पंक्तियों को मान मिल गया,
Satish Srijan
बड़े परिवर्तन तुरंत नहीं हो सकते, लेकिन प्रयास से कठिन भी आस
बड़े परिवर्तन तुरंत नहीं हो सकते, लेकिन प्रयास से कठिन भी आस
ललकार भारद्वाज
जगदाधार सत्य
जगदाधार सत्य
महेश चन्द्र त्रिपाठी
 मैं गोलोक का वासी कृष्ण
 मैं गोलोक का वासी कृष्ण
Pooja Singh
** मन मिलन **
** मन मिलन **
surenderpal vaidya
अपनी मिट्टी की खुशबू
अपनी मिट्टी की खुशबू
Namita Gupta
मुस्कान
मुस्कान
Neeraj Agarwal
वक्त, बेवक्त मैं अक्सर तुम्हारे ख्यालों में रहता हूं
वक्त, बेवक्त मैं अक्सर तुम्हारे ख्यालों में रहता हूं
Nilesh Premyogi
*बहकाए हैं बिना-पढ़े जो, उनको क्या समझाओगे (हिंदी गजल/गीतिक
*बहकाए हैं बिना-पढ़े जो, उनको क्या समझाओगे (हिंदी गजल/गीतिक
Ravi Prakash
"नहीं तैरने आता था तो"
Dr. Kishan tandon kranti
निर्मोही हो तुम
निर्मोही हो तुम
A🇨🇭maanush
दुर्लभ हुईं सात्विक विचारों की श्रृंखला
दुर्लभ हुईं सात्विक विचारों की श्रृंखला
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
■ क़तआ (मुक्तक)
■ क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
मेरी जिंदगी में जख्म लिखे हैं बहुत
मेरी जिंदगी में जख्म लिखे हैं बहुत
Dr. Man Mohan Krishna
*प्रिया किस तर्क से*
*प्रिया किस तर्क से*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
(5) नैसर्गिक अभीप्सा --( बाँध लो फिर कुन्तलों में आज मेरी सूक्ष्म सत्ता )
(5) नैसर्गिक अभीप्सा --( बाँध लो फिर कुन्तलों में आज मेरी सूक्ष्म सत्ता )
Kishore Nigam
प्रणय गीत --
प्रणय गीत --
Neelam Sharma
मुक्तक - जिन्दगी
मुक्तक - जिन्दगी
sushil sarna
पुरानी ज़ंजीर
पुरानी ज़ंजीर
Shekhar Chandra Mitra
कभी कभी खामोशी भी बहुत सवालों का जवाब होती हे !
कभी कभी खामोशी भी बहुत सवालों का जवाब होती हे !
Ranjeet kumar patre
पर्यावरण है तो सब है
पर्यावरण है तो सब है
Amrit Lal
कभी कभी ज़िंदगी में लिया गया छोटा निर्णय भी बाद के दिनों में
कभी कभी ज़िंदगी में लिया गया छोटा निर्णय भी बाद के दिनों में
Paras Nath Jha
जिसने अपने जीवन में दर्द नहीं झेले उसने अपने जीवन में सुख भी
जिसने अपने जीवन में दर्द नहीं झेले उसने अपने जीवन में सुख भी
Rj Anand Prajapati
मेरा भूत
मेरा भूत
हिमांशु Kulshrestha
2689.*पूर्णिका*
2689.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कोरोना काल मौत का द्वार
कोरोना काल मौत का द्वार
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
।।अथ श्री सत्यनारायण कथा चतुर्थ अध्याय।।
।।अथ श्री सत्यनारायण कथा चतुर्थ अध्याय।।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गाँव कुछ बीमार सा अब लग रहा है
गाँव कुछ बीमार सा अब लग रहा है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Loading...