Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Jan 2024 · 1 min read

जीवन की विफलता

जीवन की विफलता
बनती है सफलता ।
योग्यता के साथ अनुभव
अगर होता है।।

जिसका स्वभाव
शान्त-सरल होता है ।
उसके व्यक्तित्व का
प्रभाव अमिट होता है ।।

मन में तब असंतोष
मुखर होता है ।
कार्य जब कोई
इच्छा के विरुद्ध होता है ।।

निस्वार्थ शब्द में भी
स्वार्थ छिपा होता है ।
वासना हो जिसमें
वो प्रेम कहां होता है ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
4 Likes · 125 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
उसकी वो बातें बेहद याद आती है
उसकी वो बातें बेहद याद आती है
Rekha khichi
अरे रामलला दशरथ नंदन
अरे रामलला दशरथ नंदन
Neeraj Mishra " नीर "
करते हो क्यों प्यार अब हमसे तुम
करते हो क्यों प्यार अब हमसे तुम
gurudeenverma198
प्रतीक्षा
प्रतीक्षा
Shaily
Dr Arun Kumar shastri  एक अबोध बालक 🩷😰
Dr Arun Kumar shastri एक अबोध बालक 🩷😰
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मन मेरे तू, सावन-सा बन...
मन मेरे तू, सावन-सा बन...
डॉ.सीमा अग्रवाल
जीवन का प्रथम प्रेम
जीवन का प्रथम प्रेम
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
ध्यान
ध्यान
Monika Verma
लहर लहर लहराना है
लहर लहर लहराना है
Madhuri mahakash
"एहसानों के बोझ में कुछ यूं दबी है ज़िंदगी
गुमनाम 'बाबा'
पुस्तक विमर्श (समीक्षा )-
पुस्तक विमर्श (समीक्षा )- " साये में धूप "
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
मुकाम यू ही मिलते जाएंगे,
मुकाम यू ही मिलते जाएंगे,
Buddha Prakash
#गुरू#
#गुरू#
rubichetanshukla 781
कह दिया आपने साथ रहना हमें।
कह दिया आपने साथ रहना हमें।
surenderpal vaidya
कहां जाऊं सत्य की खोज में।
कहां जाऊं सत्य की खोज में।
Taj Mohammad
इस दरिया के पानी में जब मिला,
इस दरिया के पानी में जब मिला,
Sahil Ahmad
उसको देखें
उसको देखें
Dr fauzia Naseem shad
दुनिया में भारत अकेला ऐसा देश है जो पत्थर में प्राण प्रतिष्ठ
दुनिया में भारत अकेला ऐसा देश है जो पत्थर में प्राण प्रतिष्ठ
Anand Kumar
हिन्दी दोहा बिषय- तारे
हिन्दी दोहा बिषय- तारे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
सोने की चिड़िया
सोने की चिड़िया
Bodhisatva kastooriya
विभेद दें।
विभेद दें।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
अधूरा घर
अधूरा घर
Kanchan Khanna
जाने वाले साल को सलाम ,
जाने वाले साल को सलाम ,
Dr. Man Mohan Krishna
तुम - हम और बाजार
तुम - हम और बाजार
Awadhesh Singh
*तुम और  मै धूप - छाँव  जैसे*
*तुम और मै धूप - छाँव जैसे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
2889.*पूर्णिका*
2889.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
यक्ष प्रश्न है जीव के,
यक्ष प्रश्न है जीव के,
sushil sarna
"उदास सांझ"
Dr. Kishan tandon kranti
"प्रतिमा-स्थापना के बाद प्राण-प्रतिष्ठा" जितना आवश्यक है "कृ
*प्रणय प्रभात*
चारु कात देख दुनियाँ के सोचि रहल छी ठाड़ भेल ,की छल की भऽ गेल
चारु कात देख दुनियाँ के सोचि रहल छी ठाड़ भेल ,की छल की भऽ गेल
DrLakshman Jha Parimal
Loading...