Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Feb 2024 · 1 min read

जीवन और रंग

निर्गुण गीत – – – – –

किस रंग रंग लूँ अपनी चुनरिया कौन से रंग में रंग लूँ चुनरिया!!
किस रंग रंग लूँ अपनी चुनरिया कौन से रंग में रंग लूँ चुनरिया ।।

पहन के चुनरी ओढ़ी चादर झीनी झीनी झीनी चदारिया!!

लाल रंग है माँ का जोड़ा पी को भायै रंग केशरिया!!

किस रंग रंग लूँ अपनी चुनरिया कौन से रंग में रंग लूँ चुनरिया।।

पहन के चुनरी ओढ़ी चादर झीनी झीनी झीनी चदरीया!!

रंग हरा है चलता जीवन रंग वसंती प्रीति गुजरीया!!

किस रंग, रंग लूँ अपनी चुनरिया कौन से रंग में रंग लूँ चुनरिया।।

पहन के चुनरी ओढ़ी चादर झीनी झीनी झीनी चदरीया!!

प्रेम शान्ति का श्वेत सौम्य हैं शुभ कर्मों कि पीताम्बरीया!!

किस रंग रंग लूँ अपनी चुनरिया कौन से रंग में रंग लूँ चुनरिया।।
पहन के चुनरी ओढ़ी चादर झीनी झीनी झीनी चदरीया!!
नीद में है काला अँधेरा आशाआै का अंबर नीला आत्म बोध का रंग सवारियां!!

किस रंग, रंग लूँ अपनी चुनरिया कौन से रंग में रंग लूँ चुनरिया पहन के चुनरी ओढ़ी चादर झीनी झीनी झीनी चदरीया!!

Language: Hindi
Tag: गीत
87 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
View all
You may also like:
*सूनी माँग* पार्ट-1
*सूनी माँग* पार्ट-1
Radhakishan R. Mundhra
जिंदगी देने वाली माँ
जिंदगी देने वाली माँ
shabina. Naaz
"सुप्रभात"
Yogendra Chaturwedi
*** बचपन : एक प्यारा पल....!!! ***
*** बचपन : एक प्यारा पल....!!! ***
VEDANTA PATEL
" शिखर पर गुनगुनाओगे "
DrLakshman Jha Parimal
मैं लिखूं अपनी विरह वेदना।
मैं लिखूं अपनी विरह वेदना।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
तेरी इबादत करूँ, कि शिकायत करूँ
तेरी इबादत करूँ, कि शिकायत करूँ
VINOD CHAUHAN
मैंने फत्ते से कहा
मैंने फत्ते से कहा
Satish Srijan
मुक्तक
मुक्तक
डॉक्टर रागिनी
*सभी कर्मों का अच्छा फल, नजर फौरन नहीं आता (हिंदी गजल)*
*सभी कर्मों का अच्छा फल, नजर फौरन नहीं आता (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
वह लोग जिनके रास्ते कई होते हैं......
वह लोग जिनके रास्ते कई होते हैं......
कवि दीपक बवेजा
दूध वाले हड़ताल करते हैं।
दूध वाले हड़ताल करते हैं।
शेखर सिंह
इंसान को इतना पाखंड भी नहीं करना चाहिए कि आने वाली पीढ़ी उसे
इंसान को इतना पाखंड भी नहीं करना चाहिए कि आने वाली पीढ़ी उसे
Jogendar singh
She was the Mother - an ode to Mother Teresa
She was the Mother - an ode to Mother Teresa
Dhriti Mishra
... बीते लम्हे
... बीते लम्हे
Naushaba Suriya
मुक्तक
मुक्तक
प्रीतम श्रावस्तवी
नंद के घर आयो लाल
नंद के घर आयो लाल
Kavita Chouhan
* सत्य,
* सत्य,"मीठा या कड़वा" *
मनोज कर्ण
#ऐसे_समझिए...
#ऐसे_समझिए...
*प्रणय प्रभात*
23/157.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/157.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"ओट पर्दे की"
Ekta chitrangini
हर बात को समझने में कुछ वक्त तो लगता ही है
हर बात को समझने में कुछ वक्त तो लगता ही है
पूर्वार्थ
मन डूब गया
मन डूब गया
Kshma Urmila
रंजीत कुमार शुक्ल
रंजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet kumar Shukla
"" *इबादत ए पत्थर* ""
सुनीलानंद महंत
कितना ज्ञान भरा हो अंदर
कितना ज्ञान भरा हो अंदर
Vindhya Prakash Mishra
6) “जय श्री राम”
6) “जय श्री राम”
Sapna Arora
ये जीवन किसी का भी,
ये जीवन किसी का भी,
Dr. Man Mohan Krishna
न्याय तो वो होता
न्याय तो वो होता
Mahender Singh
अहम जब बढ़ने लगता🙏🙏
अहम जब बढ़ने लगता🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Loading...