Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Nov 2022 · 1 min read

जीवनामृत

इस धरा में जीव की उत्पत्ति एवं विकास का
सत्व ,
भौतिक जगत में प्राणि मात्र के अस्तित्व का
मुख्य तत्व ,
निसर्ग की संरचना एवं पर्यावरण निर्माण का
प्रमुख कारक ,
जीवन निर्वाह एवं क्रियाशीलता का
मुख्य वाहक ,
अपने विभिन्न रूपों में अपनी स्थिति से
अवगत कराता,
कभी जीवनदायक बनता तो कभी विनाश का
कारण हो जाता ,
कभी स्मित प्रपातों के रूप में विहंगम दृश्य
प्रस्तुत करता,
तो कभी रौद्र रूप में काल विकराल बना
अवसाद फैलाता ,
जल बिना जीव नही, जीवन नहीं,
यह संदेश देता ,
मानव मात्र को जीवनामृत जल एवं पर्यावरण संरक्षण का पाठ पढ़ाता ।

4 Likes · 4 Comments · 258 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shyam Sundar Subramanian
View all
You may also like:
महंगाई
महंगाई
Surinder blackpen
मुँहतोड़ जवाब मिलेगा
मुँहतोड़ जवाब मिलेगा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मिला जो इक दफा वो हर दफा मिलता नहीं यारों - डी के निवातिया
मिला जो इक दफा वो हर दफा मिलता नहीं यारों - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
मुखौटा!
मुखौटा!
कविता झा ‘गीत’
मैं भविष्य की चिंता में अपना वर्तमान नष्ट नहीं करता क्योंकि
मैं भविष्य की चिंता में अपना वर्तमान नष्ट नहीं करता क्योंकि
Rj Anand Prajapati
दरिया का किनारा हूं,
दरिया का किनारा हूं,
Sanjay ' शून्य'
श्रावण सोमवार
श्रावण सोमवार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"" *जीवन आसान नहीं* ""
सुनीलानंद महंत
लम्हा भर है जिंदगी
लम्हा भर है जिंदगी
Dr. Sunita Singh
वाह भाई वाह
वाह भाई वाह
gurudeenverma198
अहोई अष्टमी का व्रत
अहोई अष्टमी का व्रत
Harminder Kaur
दीया इल्म का कोई भी तूफा बुझा नहीं सकता।
दीया इल्म का कोई भी तूफा बुझा नहीं सकता।
Phool gufran
आलस मेरी मोहब्बत है
आलस मेरी मोहब्बत है
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
पथिक आओ ना
पथिक आओ ना
Rakesh Rastogi
आओ मिलकर हंसी खुशी संग जीवन शुरुआत करे
आओ मिलकर हंसी खुशी संग जीवन शुरुआत करे
कृष्णकांत गुर्जर
वर्णिक छंद में तेवरी
वर्णिक छंद में तेवरी
कवि रमेशराज
2544.पूर्णिका
2544.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मुझ में
मुझ में
हिमांशु Kulshrestha
ज़िक्र-ए-वफ़ा हो या बात हो बेवफ़ाई की ,
ज़िक्र-ए-वफ़ा हो या बात हो बेवफ़ाई की ,
sushil sarna
12, कैसे कैसे इन्सान
12, कैसे कैसे इन्सान
Dr Shweta sood
क्रिसमस से नये साल तक धूम
क्रिसमस से नये साल तक धूम
Neeraj Agarwal
मेरी ख़्वाहिश ने
मेरी ख़्वाहिश ने
Dr fauzia Naseem shad
मैनें प्रत्येक प्रकार का हर दर्द सहा,
मैनें प्रत्येक प्रकार का हर दर्द सहा,
Aarti sirsat
■ सकारात्मक तिथि विश्लेषण।।
■ सकारात्मक तिथि विश्लेषण।।
*Author प्रणय प्रभात*
prAstya...💐
prAstya...💐
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
** चीड़ के प्रसून **
** चीड़ के प्रसून **
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
क्या क्या बदले
क्या क्या बदले
Rekha Drolia
*
*"अवध में राम आये हैं"*
Shashi kala vyas
वो लड़का
वो लड़का
bhandari lokesh
"आत्ममुग्धता"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...