Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jun 2023 · 1 min read

जीभ

शुगर और बी पी की जाँच तो,हर व्यक्ति ही करवाता है।
किन्तु अपनी जीभ की जाँच, कभी वो क्योंकर नहीं कर पाता है।।
क्यों इतनी कड़वी है जीभ यह, क्या कोई समझ यह पाता है।
जबकि सारा जीवन इसी जीभ से, व्यक्ति कड़वा कुछ नहीं खाता है।।
जीभ बोलती है यह कड़वा जब,दूजे की खातिर कुछ बोला जाता है।
जीभ खाती है मीठा मीठा क्योंकि,व्यक्ति हमेशा खुद के लिए ही खाता है।।
बहुत जरूरी है ये समझना क्यों, हमारा नकारात्मकता से नाता है।
सकारात्मक सोचे जो व्यक्ति, वो कभी भी गलत बोल नहीं पाता है।।
कुछ भी सुनो फिर अच्छा सोचो,तो हमेशा अच्छा ही बोला जाता है।
आप जो सोचो जीभ वह बोले,क्योंकि सोच का जीभ से सीधा नाता है।।
हर बीमारी का इलाज हर व्यक्ति, वैद्य हकीम या डॉक्टर से करवाता है।
किन्तु अपनी जीभ का इलाज तो,व्यक्ति केवल खुद कर पाता है।।
खुद के बोले हुए शब्दों को जो भी, व्यक्ति जाँच परख यदि पाता है।
उसका किसी भी मित्र संबंधी से, नाता कभी छूट नहीं पाता है।।
पहले सुनो समझो फिर बोलो, विजय बिजनौरी यही बतलाता है।
सुखी वही रह पाता है जग में, जो यह मूल मंत्र अपनाता है।

विजय कुमार अग्रवाल
विजय बिजनौरी

Language: Hindi
5 Likes · 486 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from विजय कुमार अग्रवाल
View all
You may also like:
नजरअंदाज करने के
नजरअंदाज करने के
Dr Manju Saini
*ऋषि अगस्त्य ने राह सुझाई (कुछ चौपाइयॉं)*
*ऋषि अगस्त्य ने राह सुझाई (कुछ चौपाइयॉं)*
Ravi Prakash
नजर लगी हा चाँद को, फीकी पड़ी उजास।
नजर लगी हा चाँद को, फीकी पड़ी उजास।
डॉ.सीमा अग्रवाल
परित्यक्ता
परित्यक्ता
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
बैलगाड़ी के नीचे चलने वालों!
बैलगाड़ी के नीचे चलने वालों!
*प्रणय प्रभात*
दिव्य बोध।
दिव्य बोध।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
THE B COMPANY
THE B COMPANY
Dhriti Mishra
तुम पंख बन कर लग जाओ
तुम पंख बन कर लग जाओ
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
बुढापे की लाठी
बुढापे की लाठी
Suryakant Dwivedi
*मन का समंदर*
*मन का समंदर*
Sûrëkhâ
सागर
सागर
नूरफातिमा खातून नूरी
पूछ लेना नींद क्यों नहीं आती है
पूछ लेना नींद क्यों नहीं आती है
पूर्वार्थ
रात स्वप्न में दादी आई।
रात स्वप्न में दादी आई।
Vedha Singh
अद्यावधि शिक्षा मां अनन्तपर्यन्तं नयति।
अद्यावधि शिक्षा मां अनन्तपर्यन्तं नयति।
शक्ति राव मणि
मजदूरों के मसीहा
मजदूरों के मसीहा
नेताम आर सी
वीरवर (कारगिल विजय उत्सव पर)
वीरवर (कारगिल विजय उत्सव पर)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दुनियां का सबसे मुश्किल काम है,
दुनियां का सबसे मुश्किल काम है,
Manoj Mahato
साहित्य में प्रेम–अंकन के कुछ दलित प्रसंग / MUSAFIR BAITHA
साहित्य में प्रेम–अंकन के कुछ दलित प्रसंग / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
किसी बच्चे की हँसी देखकर
किसी बच्चे की हँसी देखकर
ruby kumari
कब रात बीत जाती है
कब रात बीत जाती है
Madhuyanka Raj
औकात
औकात
Dr.Priya Soni Khare
*मै भारत देश आजाद हां*
*मै भारत देश आजाद हां*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
“ मैथिली ग्रुप आ मिथिला राज्य ”
“ मैथिली ग्रुप आ मिथिला राज्य ”
DrLakshman Jha Parimal
कविता
कविता
Rambali Mishra
*बस एक बार*
*बस एक बार*
Shashi kala vyas
नवगीत - बुधनी
नवगीत - बुधनी
Mahendra Narayan
"वो बुड़ा खेत"
Dr. Kishan tandon kranti
2855.*पूर्णिका*
2855.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जज़्बात
जज़्बात
Neeraj Agarwal
अनंत की ओर _ 1 of 25
अनंत की ओर _ 1 of 25
Kshma Urmila
Loading...