Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jun 2023 · 1 min read

जीने की राह

जीवन के विस्तीर्ण फलक पर,चित्र उकेरे कई मगर,
रंग जो उनमें भरना चाहा ,भर न सकी मैं चाहकर ,

माना सृजन नहीं है आसां, दृढ़ प्रयास करना होगा,
जब तक न मिलेगी मंजिल मुझको, अनवरत चलना होगा।

कुम्हलाए, मुरझाए पत्तों को, पुनः स्फूर्त करना होगा,
कुसुमित नई भावनाओं से गीत नया रचना होगा.

राह जो पीछे छूट गई है,क्या भूलूं क्या याद करूं,
कर्मभूमि जो आगे दिखती, क्यों न उसे अंक में लूं।

जीने की जब राह मिली है,क्यों मुड़कर पीछे देखूं.
इंद्रधनुषी रंगों से मैं, क्यों न भला दामन भर लूं।

Language: Hindi
1 Like · 190 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Madhavi Srivastava
View all
You may also like:
"श्रमिकों को निज दिवस पर, ख़ूब मिला उपहार।
*Author प्रणय प्रभात*
🤔🤔🤔
🤔🤔🤔
शेखर सिंह
"दो पल की जिंदगी"
Yogendra Chaturwedi
शामें दर शाम गुजरती जा रहीं हैं।
शामें दर शाम गुजरती जा रहीं हैं।
शिव प्रताप लोधी
2. *मेरी-इच्छा*
2. *मेरी-इच्छा*
Dr Shweta sood
क्षतिपूर्ति
क्षतिपूर्ति
Shweta Soni
लॉकडाउन के बाद नया जीवन
लॉकडाउन के बाद नया जीवन
Akib Javed
.......... मैं चुप हूं......
.......... मैं चुप हूं......
Naushaba Suriya
जन्मदिवस विशेष 🌼
जन्मदिवस विशेष 🌼
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
जिदंगी भी साथ छोड़ देती हैं,
जिदंगी भी साथ छोड़ देती हैं,
Umender kumar
*Maturation*
*Maturation*
Poonam Matia
खिलेंगे फूल राहों में
खिलेंगे फूल राहों में
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कभी आंख मारना कभी फ्लाइंग किस ,
कभी आंख मारना कभी फ्लाइंग किस ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
प्रेम
प्रेम
Shyam Sundar Subramanian
*कमबख़्त इश्क़*
*कमबख़्त इश्क़*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
गुमाँ हैं हमको हम बंदर से इंसाँ बन चुके हैं पर
गुमाँ हैं हमको हम बंदर से इंसाँ बन चुके हैं पर
Johnny Ahmed 'क़ैस'
फूल चुन रही है
फूल चुन रही है
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
Dr Arun Kumar Shastri
Dr Arun Kumar Shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
3245.*पूर्णिका*
3245.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हर सांस का कर्ज़ बस
हर सांस का कर्ज़ बस
Dr fauzia Naseem shad
.
.
Amulyaa Ratan
हे परम पिता परमेश्वर,जग को बनाने वाले
हे परम पिता परमेश्वर,जग को बनाने वाले
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ: दैनिक समीक्षा* दिनांक 5 अप्रैल
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ: दैनिक समीक्षा* दिनांक 5 अप्रैल
Ravi Prakash
होता अगर मैं एक शातिर
होता अगर मैं एक शातिर
gurudeenverma198
बे-असर
बे-असर
Sameer Kaul Sagar
स्वप्न लोक के वासी भी जगते- सोते हैं।
स्वप्न लोक के वासी भी जगते- सोते हैं।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
हँसते हैं, पर दिखाते नहीं हम,
हँसते हैं, पर दिखाते नहीं हम,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
ना जमीं रखता हूॅ॑ ना आसमान रखता हूॅ॑
ना जमीं रखता हूॅ॑ ना आसमान रखता हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
हाथों में गुलाब🌹🌹
हाथों में गुलाब🌹🌹
Chunnu Lal Gupta
*हुई हम से खता,फ़ांसी नहीं*
*हुई हम से खता,फ़ांसी नहीं*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Loading...