Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 May 2024 · 1 min read

*जीता है प्यारा कमल, पुनः तीसरी बार (कुंडलिया)*

जीता है प्यारा कमल, पुनः तीसरी बार (कुंडलिया)
—————————————-
जीता है प्यारा कमल, पुनः तीसरी बार
शुभ भविष्यवाणी सुनो, नभ की यही पुकार
नभ की यही पुकार, गगन में है उजियारा
जीत रहा है सत्य, झूठ लो फिर से हारा
कहते रवि कविराय, अमृत भारत यों पीता
भारत का आदर्श, सनातन-दर्शन जीता
————————-
रचयिता: रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 9997615451

1 Like · 49 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
माँ का घर
माँ का घर
Pratibha Pandey
सम्मान से सम्मान
सम्मान से सम्मान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बहती नदी का करिश्मा देखो,
बहती नदी का करिश्मा देखो,
Buddha Prakash
" अलबेले से गाँव है "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
पितरों के लिए
पितरों के लिए
Deepali Kalra
सब कुर्सी का खेल है
सब कुर्सी का खेल है
नेताम आर सी
चचा बैठे ट्रेन में [ व्यंग्य ]
चचा बैठे ट्रेन में [ व्यंग्य ]
कवि रमेशराज
जय मां ँँशारदे 🙏
जय मां ँँशारदे 🙏
Neelam Sharma
हकीकत
हकीकत
Dr. Seema Varma
मिलती नहीं खुशी अब ज़माने पहले जैसे कहीं भी,
मिलती नहीं खुशी अब ज़माने पहले जैसे कहीं भी,
manjula chauhan
यादों को दिल से मिटाने लगा है वो आजकल
यादों को दिल से मिटाने लगा है वो आजकल
कृष्णकांत गुर्जर
ऐ ज़ालिम....!
ऐ ज़ालिम....!
Srishty Bansal
दिव्य ज्योति मुखरित भेल ,ह्रदय जुड़ायल मन हर्षित भेल !पाबि ले
दिव्य ज्योति मुखरित भेल ,ह्रदय जुड़ायल मन हर्षित भेल !पाबि ले
DrLakshman Jha Parimal
माँ ....लघु कथा
माँ ....लघु कथा
sushil sarna
मैं प्रेम लिखूं जब कागज़ पर।
मैं प्रेम लिखूं जब कागज़ पर।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
एक देश एक कानून
एक देश एक कानून
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
सृष्टि की अभिदृष्टि कैसी?
सृष्टि की अभिदृष्टि कैसी?
AJAY AMITABH SUMAN
मनुष्य तुम हर बार होगे
मनुष्य तुम हर बार होगे
Harish Chandra Pande
लड़के हमेशा खड़े रहे
लड़के हमेशा खड़े रहे
पूर्वार्थ
चित्र आधारित चौपाई रचना
चित्र आधारित चौपाई रचना
गुमनाम 'बाबा'
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
वह फिर से छोड़ गया है मुझे.....जिसने किसी और      को छोड़कर
वह फिर से छोड़ गया है मुझे.....जिसने किसी और को छोड़कर
Rakesh Singh
शुभकामना संदेश
शुभकामना संदेश
Rajni kapoor
वैसे किसी भगवान का दिया हुआ सब कुछ है
वैसे किसी भगवान का दिया हुआ सब कुछ है
शेखर सिंह
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बाल कविता: चूहा
बाल कविता: चूहा
Rajesh Kumar Arjun
जाति-पाति देखे नहीं,
जाति-पाति देखे नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
उन दरख्तों पे कोई फूल न खिल पाएंगें
उन दरख्तों पे कोई फूल न खिल पाएंगें
Shweta Soni
" माँ "
Dr. Kishan tandon kranti
#आज_का_कटाक्ष
#आज_का_कटाक्ष
*प्रणय प्रभात*
Loading...