Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Mar 2023 · 1 min read

*जिसको सोचा कभी नहीं था, ऐसा भी हो जाता है 【हिंदी गजल/गीतिका

जिसको सोचा कभी नहीं था, ऐसा भी हो जाता है 【हिंदी गजल/गीतिका】
■■■■■■■■■■■■■■■■
(1)
जिसको सोचा कभी नहीं था, ऐसा भी हो जाता है
कभी-कभी कुछ मिल जाता है, कभी-कभी खो जाता है
(2)
भरे हुए अफरातफरी से, कुछ होते हैं ऐसे क्षण
बीत गया युग लेकिन कर के, याद हृदय रो जाता है
(3)
उसके भला भाग्य से बढ़कर, किसका भाग्य लिखा होगा
बिना नींद की गोली खाए, रात हुई सो जाता है
(4)
सूई का धागा मॉं समझो, होती है परिवारों में
एक उसी धागे में सबका, अहंकार पो जाता है
(5)
बुरे और अच्छे भावों की, ताकत को मत कम आँको
अच्छा-बुरा भाग्य यह केवल, क्षण-भर में बो जाता है
—————————————- ———-
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

437 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
दर्स ए वफ़ा आपसे निभाते चले गए,
दर्स ए वफ़ा आपसे निभाते चले गए,
ज़ैद बलियावी
*मेरे दिल में आ जाना*
*मेरे दिल में आ जाना*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
शीर्षक – मां
शीर्षक – मां
Sonam Puneet Dubey
*हे!शारदे*
*हे!शारदे*
Dushyant Kumar
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
Don't Be Judgemental...!!
Don't Be Judgemental...!!
Ravi Betulwala
शब्द
शब्द
Ajay Mishra
प्रेम साधना श्रेष्ठ है,
प्रेम साधना श्रेष्ठ है,
Arvind trivedi
स्त्री-देह का उत्सव / MUSAFIR BAITHA
स्त्री-देह का उत्सव / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
अपभ्रंश-अवहट्ट से,
अपभ्रंश-अवहट्ट से,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"स्वामी विवेकानंद"
Dr. Kishan tandon kranti
हाथों में गुलाब🌹🌹
हाथों में गुलाब🌹🌹
Chunnu Lal Gupta
नवरात्रि के इस पवित्र त्योहार में,
नवरात्रि के इस पवित्र त्योहार में,
Sahil Ahmad
रूठना मनाना
रूठना मनाना
Aman Kumar Holy
“मां बनी मम्मी”
“मां बनी मम्मी”
पंकज कुमार कर्ण
इंसान को इतना पाखंड भी नहीं करना चाहिए कि आने वाली पीढ़ी उसे
इंसान को इतना पाखंड भी नहीं करना चाहिए कि आने वाली पीढ़ी उसे
Jogendar singh
कवित्व प्रतिभा के आप क्यों ना धनी हों ,पर आप में यदि व्यावहा
कवित्व प्रतिभा के आप क्यों ना धनी हों ,पर आप में यदि व्यावहा
DrLakshman Jha Parimal
■ मेरे स्लोगन (बेटी)
■ मेरे स्लोगन (बेटी)
*Author प्रणय प्रभात*
*छ्त्तीसगढ़ी गीत*
*छ्त्तीसगढ़ी गीत*
Dr.Khedu Bharti
"सफर,रुकावटें,और हौसले"
Yogendra Chaturwedi
प्यारा सुंदर वह जमाना
प्यारा सुंदर वह जमाना
Vishnu Prasad 'panchotiya'
रुई-रुई से धागा बना
रुई-रुई से धागा बना
TARAN VERMA
दिल जीत लेगी
दिल जीत लेगी
Dr fauzia Naseem shad
"लोकगीत" (छाई देसवा पे महंगाई ऐसी समया आई राम)
Slok maurya "umang"
जमाने से सुनते आये
जमाने से सुनते आये
ruby kumari
????????
????????
शेखर सिंह
तन्हाई
तन्हाई
ओसमणी साहू 'ओश'
क्या मिला मुझको उनसे
क्या मिला मुझको उनसे
gurudeenverma198
सच तो हम तुम बने हैं
सच तो हम तुम बने हैं
Neeraj Agarwal
देर आए दुरुस्त आए...
देर आए दुरुस्त आए...
Harminder Kaur
Loading...