Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Nov 2023 · 1 min read

“जिसका जैसा नजरिया”

“जिसका जैसा नजरिया”
मैं खुली किताब भी
और बन्द लिफाफा,
जिसका जैसा नजरिया
उसने वैसा आँका।
कोई मेरी बात सुने
चाहे कर दे अनसुनी,
बन्द दरवाजे को मैंने
पलटकर नहीं झाँका।

14 Likes · 8 Comments · 202 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
कोहरा
कोहरा
Dr. Mahesh Kumawat
झूठ का अंत
झूठ का अंत
Shyam Sundar Subramanian
तुम नहीं हो
तुम नहीं हो
पूर्वार्थ
कहीं पे पहुँचने के लिए,
कहीं पे पहुँचने के लिए,
शेखर सिंह
उम्मीद रखते हैं
उम्मीद रखते हैं
Dhriti Mishra
प्यासा के राम
प्यासा के राम
Vijay kumar Pandey
राम आ गए
राम आ गए
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
"आदत"
Dr. Kishan tandon kranti
अभिव्यक्ति - मानवीय सम्बन्ध, सांस्कृतिक विविधता, और सामाजिक परिवर्तन का स्रोत
अभिव्यक्ति - मानवीय सम्बन्ध, सांस्कृतिक विविधता, और सामाजिक परिवर्तन का स्रोत" - भाग- 01 Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
दोहा पंचक. . . .
दोहा पंचक. . . .
sushil sarna
स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Dr Archana Gupta
बंधन यह अनुराग का
बंधन यह अनुराग का
Om Prakash Nautiyal
#शीर्षक;-ले लो निज अंक मॉं
#शीर्षक;-ले लो निज अंक मॉं
Pratibha Pandey
न ठंड ठिठुरन, खेत न झबरा,
न ठंड ठिठुरन, खेत न झबरा,
Sanjay ' शून्य'
क्या कहें?
क्या कहें?
Srishty Bansal
नवम दिवस सिद्धिधात्री,सब पर रहो प्रसन्न।
नवम दिवस सिद्धिधात्री,सब पर रहो प्रसन्न।
Neelam Sharma
Irritable Bowel Syndrome
Irritable Bowel Syndrome
Tushar Jagawat
कहो तो..........
कहो तो..........
Ghanshyam Poddar
निराला का मुक्त छंद
निराला का मुक्त छंद
Shweta Soni
आप और हम जीवन के सच
आप और हम जीवन के सच
Neeraj Agarwal
मेरी कलम से बिखरी स्याही कभी गुनगुनाएंगे,
मेरी कलम से बिखरी स्याही कभी गुनगुनाएंगे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
23/90.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/90.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रोते घर के चार जन , हँसते हैं जन चार (कुंडलिया)
रोते घर के चार जन , हँसते हैं जन चार (कुंडलिया)
Ravi Prakash
गरीबी
गरीबी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
पेट्रोल लोन के साथ मुफ्त कार का ऑफर (व्यंग्य कहानी)
पेट्रोल लोन के साथ मुफ्त कार का ऑफर (व्यंग्य कहानी)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
👍👍👍
👍👍👍
*प्रणय प्रभात*
"आकांक्षा" हिन्दी ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
कभी कहा न किसी से तिरे फ़साने को
कभी कहा न किसी से तिरे फ़साने को
Rituraj shivem verma
विपरीत परिस्थितियों में भी तुरंत फैसला लेने की क्षमता ही सफल
विपरीत परिस्थितियों में भी तुरंत फैसला लेने की क्षमता ही सफल
Paras Nath Jha
Loading...