Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Mar 2017 · 1 min read

जिन्दगीं में और आफत अब न हो

हो चुकी जो भी सियासत अब न हो
मुल्क से मेरे बगावत अब न हो

आपको सौंपा है’ दिल अनमोल ये
इस अमानत में खयानत अब न हो

हमसे’ पीकर दूध हमको ही डसें
ऐसे’ साँपों की हिफाजत अब न हो

हम मरें जिन्दा रहें कुछ गम नहीं
गीदड़ों की बादशाहत अब न हो

जो लड़ा आपस में’ दे हमको यहाँ
धर्म की ऐसी तिजारत अब न हो

बचपने से पचपने तक सब सहीं
जिन्दगीं में और आफत अब न हो

226 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Life through the window during lockdown
Life through the window during lockdown
ASHISH KUMAR SINGH
मिट गई गर फितरत मेरी, जीवन को तरस जाओगे।
मिट गई गर फितरत मेरी, जीवन को तरस जाओगे।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
“तब्दीलियां” ग़ज़ल
“तब्दीलियां” ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
पैसों के छाँव तले रोता है न्याय यहां (नवगीत)
पैसों के छाँव तले रोता है न्याय यहां (नवगीत)
Rakmish Sultanpuri
युद्ध
युद्ध
Dr.Priya Soni Khare
सरोकार
सरोकार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
शाहजहां के ताजमहल के मजदूर।
शाहजहां के ताजमहल के मजदूर।
Rj Anand Prajapati
संत सनातनी बनना है तो
संत सनातनी बनना है तो
Satyaveer vaishnav
⚘छंद-भद्रिका वर्णवृत्त⚘
⚘छंद-भद्रिका वर्णवृत्त⚘
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
"साये"
Dr. Kishan tandon kranti
जिंदगी बेहद रंगीन है और कुदरत का करिश्मा देखिए लोग भी रंग बद
जिंदगी बेहद रंगीन है और कुदरत का करिश्मा देखिए लोग भी रंग बद
Rekha khichi
बहुत ख्वाब देखता हूँ मैं
बहुत ख्वाब देखता हूँ मैं
gurudeenverma198
इत्तिफ़ाक़न मिला नहीं होता।
इत्तिफ़ाक़न मिला नहीं होता।
सत्य कुमार प्रेमी
जिसका मिज़ाज़ सच में, हर एक से जुदा है,
जिसका मिज़ाज़ सच में, हर एक से जुदा है,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
ईश्वर का घर
ईश्वर का घर
Dr MusafiR BaithA
कितना लिखता जाऊँ ?
कितना लिखता जाऊँ ?
The_dk_poetry
💐प्रेम कौतुक-94💐
💐प्रेम कौतुक-94💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कवियों में सबसे महान कार्य तुलसी का (घनाक्षरी)
कवियों में सबसे महान कार्य तुलसी का (घनाक्षरी)
Ravi Prakash
* विजयदशमी मनाएं हम *
* विजयदशमी मनाएं हम *
surenderpal vaidya
गुनहगार तू भी है...
गुनहगार तू भी है...
मनोज कर्ण
आज हमने सोचा
आज हमने सोचा
shabina. Naaz
इस सलीके से तू ज़ुल्फ़ें सवारें मेरी,
इस सलीके से तू ज़ुल्फ़ें सवारें मेरी,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
उद्दंडता और उच्छृंखलता
उद्दंडता और उच्छृंखलता
*Author प्रणय प्रभात*
सच बोलने की हिम्मत
सच बोलने की हिम्मत
Shekhar Chandra Mitra
मेरे मुक्तक
मेरे मुक्तक
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
कब टूटा है
कब टूटा है
sushil sarna
फिर वही शाम ए गम,
फिर वही शाम ए गम,
ओनिका सेतिया 'अनु '
दिल का हर अरमां।
दिल का हर अरमां।
Taj Mohammad
कितने इनके दामन दागी, कहते खुद को साफ।
कितने इनके दामन दागी, कहते खुद को साफ।
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...