Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 May 2023 · 1 min read

जिद कहो या आदत क्या फर्क,”रत्न”को

क्यूँ ज़िक्र हैसियत और क़ाबलियत का ,
बराबर की तलब काफी है,दोनों में इस रिश्ते को निभाने //
दिलो का मेल ,और दीदार-ए-तमन्ना,
कुछ नहीं और दिलो की दोस्ती,के लिए पैमाने //
जाने क्या पनप रहा है,दिलों की ज़मी पर ,
फिर शायद तैयार है,हम दोनों खुदको सताने //
हर शाम साथ हो चंद घडियों के लिए,
मुकर्रर दिन बता दो, फासले और ये गिले मिटाने //
अजीब कशमकश है,अनजान हम खुद भी,
नाम क्या दे ,इन एहसासों को ज़माने को बताने //
जिद कहो या आदत क्या फर्क,”रत्न”को
दोनों फ़र्ज़ निभा रहे बराबर ,हमें पास लाने //

1 Like · 136 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from गुप्तरत्न
View all
You may also like:
बच्चों के खुशियों के ख़ातिर भूखे पेट सोता है,
बच्चों के खुशियों के ख़ातिर भूखे पेट सोता है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मसला सिर्फ जुबान का हैं,
मसला सिर्फ जुबान का हैं,
ओसमणी साहू 'ओश'
ज़हालत का दौर
ज़हालत का दौर
Shekhar Chandra Mitra
कुछ तुम कहो जी, कुछ हम कहेंगे
कुछ तुम कहो जी, कुछ हम कहेंगे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कोरोना का संहार
कोरोना का संहार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
" सुनिए "
Dr. Kishan tandon kranti
it's a generation of the tired and fluent in silence.
it's a generation of the tired and fluent in silence.
पूर्वार्थ
माँ तुम याद आती है
माँ तुम याद आती है
Pratibha Pandey
हर बात पे ‘अच्छा’ कहना…
हर बात पे ‘अच्छा’ कहना…
Keshav kishor Kumar
इक तुम्ही तो लुटाती हो मुझ पर जमकर मोहब्बत ।
इक तुम्ही तो लुटाती हो मुझ पर जमकर मोहब्बत ।
Rj Anand Prajapati
याद रखना
याद रखना
Pankaj Kushwaha
*Hey You*
*Hey You*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
2612.पूर्णिका
2612.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
शातिर दुनिया
शातिर दुनिया
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
कल सबको पता चल जाएगा
कल सबको पता चल जाएगा
MSW Sunil SainiCENA
देखिए बिना करवाचौथ के
देखिए बिना करवाचौथ के
शेखर सिंह
😊काम बिगाड़ू भीड़😊
😊काम बिगाड़ू भीड़😊
*प्रणय प्रभात*
हनुमान जी के गदा
हनुमान जी के गदा
Santosh kumar Miri
-- गुरु --
-- गुरु --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
प्रेम - पूजा
प्रेम - पूजा
Er.Navaneet R Shandily
अपना चेहरा
अपना चेहरा
Dr fauzia Naseem shad
मंजिलें
मंजिलें
Mukesh Kumar Sonkar
बुद्ध पूर्णिमा
बुद्ध पूर्णिमा
Dr.Pratibha Prakash
व्यवहार अपना
व्यवहार अपना
Ranjeet kumar patre
पहचाना सा एक चेहरा
पहचाना सा एक चेहरा
Aman Sinha
*गरीबों की ही शादी सिर्फ, सामूहिक कराते हैं (हिंदी गजल)*
*गरीबों की ही शादी सिर्फ, सामूहिक कराते हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
*फितरत*
*फितरत*
Dushyant Kumar
सौदागर हूँ
सौदागर हूँ
Satish Srijan
रंजीत शुक्ल
रंजीत शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
दोहे- शक्ति
दोहे- शक्ति
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Loading...