Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 May 2023 · 1 min read

जिंदगी

साज छेड़ो जिंदगी की सरगम पर
उदासियाँ सभी दूर हो जाएंगी
स्याही पन्नों की अब सूखने लगी
किताब पढ़ने के लायक हो जाएगी

कुछ पन्ने लिखो खुशियों से भरे
कुछ पर रंजोगम भी लिख दिया करो
कुछ पन्नों पर है स्वर लहरियां
कुछ पर खामोशी भी लिख दिया करो
जब किताब के पन्ने फ़ड़फड़ाएंगे
फिजा भी खुशबू से महक जाएगी
स्याही पन्नो की अब सूखने लगी
किताब पढ़ने के लायक हो जाएगी

बिना ज़िल्द की है किताब जिंदगी
पन्ने इधर से उधर मत तुम किया करो
जो जहां है उसे तुम वैसा ही रहने दो
अपने धागे से उसको न तुम सिया करो
उसने जो लिख दिये पन्ने अपने हाथ से
एक दिन ये जिंदगी भी चहक जाएगी
स्याही पन्नो की अब सूखने लगी
किताब पढ़ने के लायक हो जाएगी

साज छेड़ो जिंदगी की सरगम पर
उदासियाँ सभी दूर हो जाएंगी
स्याही पन्नों की अब सूखने लगी
किताब पढ़ने के लायक हो जाएगी

Language: Hindi
Tag: गीत
118 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बढ़ी शय है मुहब्बत
बढ़ी शय है मुहब्बत
shabina. Naaz
माँ काली
माँ काली
Sidhartha Mishra
Dr. Arun Kumar Shastri
Dr. Arun Kumar Shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
रेत सी जिंदगी लगती है मुझे
रेत सी जिंदगी लगती है मुझे
Harminder Kaur
फोन
फोन
Kanchan Khanna
*परवरिश की उड़ान* ( 25 of 25 )
*परवरिश की उड़ान* ( 25 of 25 )
Kshma Urmila
शु'आ - ए- उम्मीद
शु'आ - ए- उम्मीद
Shyam Sundar Subramanian
अहमियत इसको
अहमियत इसको
Dr fauzia Naseem shad
जब होती हैं स्वार्थ की,
जब होती हैं स्वार्थ की,
sushil sarna
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद — वंश परिचय — 01
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद — वंश परिचय — 01
Kirti Aphale
3207.*पूर्णिका*
3207.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
इतनी जल्दी क्यूं जाते हो,बैठो तो
इतनी जल्दी क्यूं जाते हो,बैठो तो
Shweta Soni
हर ख्याल से तुम खुबसूरत हो
हर ख्याल से तुम खुबसूरत हो
Swami Ganganiya
'मौन अभिव्यक्ति'
'मौन अभिव्यक्ति'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
प्रणय 6
प्रणय 6
Ankita Patel
*श्री शक्तिपीठ दुर्गा माता मंदिर, सिविल लाइंस, रामपुर*
*श्री शक्तिपीठ दुर्गा माता मंदिर, सिविल लाइंस, रामपुर*
Ravi Prakash
याद है पास बिठा के कुछ बाते बताई थी तुम्हे
याद है पास बिठा के कुछ बाते बताई थी तुम्हे
Kumar lalit
#मुक्तक
#मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
उलझनें
उलझनें
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
"औकात"
Dr. Kishan tandon kranti
नेता
नेता
Punam Pande
307वीं कविगोष्ठी रपट दिनांक-7-1-2024
307वीं कविगोष्ठी रपट दिनांक-7-1-2024
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मीठा शहद बनाने वाली मधुमक्खी भी डंक मार सकती है इसीलिए होशिय
मीठा शहद बनाने वाली मधुमक्खी भी डंक मार सकती है इसीलिए होशिय
Tarun Singh Pawar
कट रही हैं दिन तेरे बिन
कट रही हैं दिन तेरे बिन
Shakil Alam
प्रोत्साहन
प्रोत्साहन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
गिव मी सम सन शाइन
गिव मी सम सन शाइन
Shekhar Chandra Mitra
!! शब्द !!
!! शब्द !!
Akash Yadav
तुम
तुम
Tarkeshwari 'sudhi'
सेंगोल और संसद
सेंगोल और संसद
Damini Narayan Singh
बुरा न मानो, होली है! जोगीरा सा रा रा रा रा....
बुरा न मानो, होली है! जोगीरा सा रा रा रा रा....
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
Loading...